ट्रंप ने भारत,चीन,और रूस को बताया प्रदुषित, बोले-इन देशों में पीने का साफ पानी भी नही,

अपने देश अमेरिका को बताया सबसे स्वच्छ, कार्बन उत्सर्जन के बावजूद स्वच्छ हवा और साफ पानी पी रहे लोग।
ट्रंप ने भारत,चीन,और रूस को बताया प्रदुषित, बोले-इन देशों में पीने का साफ पानी भी नही,

लंदन – अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने भारत पर आरोप लगाते हुए कहा कि भारत गंदगी से भरा देश है। वंहा न तो पीने का साफ पानी है, न वंहा के लोग समझदार है। ट्रंप ने बिट्रेन के तीन दिवसीय दौरे के अंतिम दिन एक चैनल को दिये इन्टव्यू में भारत के लिए ये बाते कही,ट्रंप ने जलवायु परिवर्तन के लिए भारत के साथ चीन , और रूस को भी कोसा और कहा कि इन तीन देशों में ना तो हवा अच्छी है ना ही साफ पानी है।

विश्व पर्यावरण दिवस पर अमेरिकी राष्ट्रपति ने कहा कि भारत, चीन, और रूस में स्वच्छता की कोई भावना नहीं है। कुछ दिन पहले विश्व स्वास्थ्य संगठन की एक रिपोर्ट में दावा किया गया था कि अमेरिका विश्व में सबसे अधिक कार्बन उत्सर्जन वाला देश है। लेकिन इसके वाद भी वहां का वायु प्रदुषण भारत, चीन, रूस जैसे देशों से बेहतर है। अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कहा कि अमेरिका दुनिया का सबसे स्वच्छ जलवायु वाला देश है। अमेरिका सबसे अच्छा पानी, साफ पानी के लिए लगातार जलवायु को ओर बैहतर कर रहा है।

ट्रंप ने कहा, चीन, भारत, रूस और कई अन्य देशों के पास अच्छा पानी नहीं है, अच्छी हवा नहीं है, प्रदूषण को लेकर भी वंहा के लोगो मे समझ नहीं है। अगर आप इन देशों के कुछ शहरों में जाएंगे तो आप सांस भी नहीं ले पायेंगे। ये लोग अपनी जिम्मेदारी नही निभाते।

राष्ट्रपति ट्रंप ब्रिटेन की तीन दिवसीय यात्रा पर थे। ट्रंप और ब्रिटेन की प्रधानमंत्री थेरिसा में ने जिन मुद्दों पर बात की उनमें जलवायु परिवर्तन भी था।

ब्रिटेन में ट्रंप के खिलाफ भी कई जगह प्रदर्शन भी हुए। लोग अमेरिका के गर्भपात कानूनों और जलवायु परिवर्तन को लेकर ट्रंप के खिलाफ नारे लगा रहे थे।

ट्रंप ने आगे कहा कि प्रिंस चार्ल्स ने उनके अंदर जलवायु परिवर्तन को लेकर जनून जगाया और वह खुद भी ऐसी दुनिया चाहते थे जो आने वाली पीढ़ियों के लिए अच्छी हो।

डोनाल्ड ट्रंप सरकार में आने के बाद पेरिस में हुए जलवायु समझौते से बाहर हो गये थे। इसे लेकर अमेरिका के पुर्व राष्ट्रपति बराक ओबामा ने भी ट्रंप सरकार के इस फैसले का विरोध किया था।

अमेरिका के राष्ट्रपति सोमवार को बिट्रेन दोरे पर पहुंचे थे।बकिंघम पैलेस में प्रिंस चार्ल्स के साथ चाय पी और जलवायु परिवर्तन पर बातचीत की।

ट्रंप ने कहा हम 15 मिनट बातचीत करने वाले थे, लेकिन यह बातचीत डेढ घंटे चली और ज्यादातर समय वह ही बोले, वह जलवायु परिवर्तन विषय पर संजीदा हैं और मुझे लगता है कि यह बहुत अच्छी बात है, मतलब यह कि मैं यह चाहता हूं, मुझे यह पसंद है।

Related Stories

No stories found.
Since independence
hindi.sinceindependence.com