स्विस बैंकों से आई सूची ने भष्ट्राचारियों को डाला परेशानी में,

स्विस बैकों से भारतीय अंकाउट होल्डर्स की जानकारी भारत और स्विट्जरलैंड दोनों देशों के बीच एक समझौते के बाद आना शुरू हुई है
स्विस बैंकों से आई सूची ने भष्ट्राचारियों को डाला परेशानी में,

न्यूज – स्विस सरकार ने स्विस बैंकों में भारतीय खाताधारकों की पहली सूची भारत को सौंप दी है। बैंकरों और केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड (CBDT) के अधिकारियों का कहना है कि जानकारी का विश्लेषण किया जा रहा है। इस सूची में अधिकांश खाते वे हैं जो कार्रवाई के डर से बंद कर दिए गए थे।

स्विस बैकों से भारतीय अंकाउट होल्डर्स की जानकारी भारत और स्विट्जरलैंड दोनों देशों के बीच एक समझौते के बाद आना शुरू हुई है, जिसमें भारतीय अंकाउट होल्डर्स की बैंकिंग जानकारी के प्रदान की जानी है।  एक रिपोट के मुताबिक विदेशी बैंकों ने स्विस सरकार के निर्देश पर भारतीयों से संबंधित डेटा तैयार किया है। ये जानकारी स्विस बैंक खातों में अघोषित संपत्ति रखने वालों के खिलाफ कार्रवाई करने में मदद करेगी।

बैंकरों और नियामक अधिकारियों ने कहा है कि खाताधारकों की सूची ज्यादातर साउथ-ईस्ट एशियाई देशों, अमेरिका, ब्रिटेन, अफ्रीका और साउथ अमेरिकी देशों में रहने वाले भारतीयों और व्यापारियों से है। बैंकरों ने स्वीकार किया कि स्विस बैंकों के खातों के खिलाफ एक वैश्विक अभियान के बाद इन खातों से बड़ी राशि वापस ले ली गई थी जो कभी पूरी तरह से गोपनीय थे। इनमें से कई खाते बंद भी हो गए। 2018 में बंद हुए खातों की जानकारी भी दी गई है।

इसके अलावा, भारतीयों के 100 ऐसे खाते हैं, जो 2018 से पहले बंद कर दिए गए थे। स्विस सरकार भी अपने खातों के बारे में जानकारी साझा करने की प्रक्रिया में है। इस साल जून में, स्विस सरकार ने विदेशी बैंकों में काले धन रखने वाले 50 भारतीय व्यापारियों के नाम का खुलासा किया। स्विस बैंकों से पिछले एक साल में 100 से अधिक इंडियन अंकाउट होल्डर के नाम सामने आए हैं।

आपको बताते चले कि स्विस बैंकों में पैसा रखने के मामले में ब्रिटेन सबसे आगे है। इस साल जून में जारी स्विस नेशनल बैंक (एसएनबी) की रिपोर्ट के अनुसार, यूके के व्यापारियों ने 2018 में कुल जमा का 26% हिस्सा लिया। यहां भारतीयों द्वारा रखे गए धन की मात्रा में धीरे-धीरे गिरावट आ रही है। वर्तमान में भारत 74 वें स्थान पर है। पिछले साल भारतीयों की जमा राशि में 6% की कमी आई थी, जो उस समय 73 थी।

Related Stories

No stories found.
Since independence
hindi.sinceindependence.com