दिवाली के बाद बढ़ेगी महंगाई: 5-7% बढ़ सकते हैं उपभोक्ता वस्तुओं के दाम, इंधन की बढ़ती कीमत बन रही आफत

स्टील और तांबे सहित अधिकांश धातुओं की बढ़ती कीमतों, सेमीकंडक्टर चिप्स की कमी और बढ़ते कार्गो किराए ने उपभोक्ता टिकाऊ कंपनियों के लिए लागत में तेजी से वृद्धि हुई है। इसके परिणाम स्वरुप दिवाली के बाद उपभोक्ता वस्तुओं के दाम में बढ़ोतरी हो सकती हैं।
दिवाली के बाद बढ़ेगी महंगाई: 5-7% बढ़ सकते हैं उपभोक्ता वस्तुओं के दाम, इंधन की बढ़ती कीमत बन रही आफत

डेस्क न्यूज़- स्टील और तांबे सहित अधिकांश धातुओं की बढ़ती कीमतों, सेमीकंडक्टर चिप्स की कमी और बढ़ते कार्गो किराए ने  कंज्यूमर ड्यूरेबल कंपनियों के लिए लागत में तेज वृद्धि हुई है। हालांकि त्योहारों के दौरान अच्छी मांग को देखते हुए कंपनियों ने फिलहाल अपने उत्पादों के दाम नहीं बढ़ाए हैं। हालांकि उद्योग जगत के सूत्रों का कहना है कि कंपनियां दिवाली के बाद चरणबद्ध तरीके से कीमतों में इजाफा करेगी।

7 से 10% तक महंगे होंगे इलेक्ट्रॉनिक्स प्रोडक्ट

त्योहारों के बाद उपभोक्ता इलेक्ट्रॉनिक्स की कीमतों में 7 से 10% की वृद्धि होने की आशंका है। कई कंज्यूमर ड्यूरेबल्स निर्माताओं का कहना है कि उन्होंने त्योहारों के कारण कीमतों में बढ़ोतरी से परहेज किया है, लेकिन नवंबर के बाद कीमतों में बढ़ोतरी करना चाहते हैं।

महंगे इंधन से बढ़ी लागत

गोदरेज अप्लायंसेज के कार्यकारी उपाध्यक्ष कमल नंदी ने का कहना हैं कि पिछले कुछ महीनों से कमोडिटी की कीमतों में 22 फीसदी की बढ़ोतरी हुई है। चीन से आयातित कलपुर्जों के माल भाड़ा चार से पांच गुना बढ़ गया है, लेकिन कंपनियों ने इसकी तुलना में कीमतें ज्यादा नहीं बढ़ाई हैं। त्योहारों के बाद बढ़ी कीमतों का बोझ उपभोक्ताओं पर डालना कंपनियों की मजबूरी होगी। त्योहारों के बाद चरणबद्ध तरीके से कीमतों में 5 से 10 फीसदी तक की बढ़ोतरी की जा सकती है।

त्योंहारों में बिक्री में भढ़ोतरी

पैनासोनिक इंडिया के बिजनेस हेड (एयरकंडीशनर ग्रुप) गौरव शाह ने कहा, 'नवरात्रि के दौरान हमारी बिक्री में 20 फीसदी की बढ़ोतरी हुई है। दिवाली में और बढ़ोतरी की उम्मीद है। खासकर प्रीमियम रेंज के एसी, फ्रिज और टीवी की डिमांड ज्यादा है। कमोडिटी और कंटेनर/माल ढुलाई की कीमतों में बढ़ोतरी के कारण जुलाई-सितंबर तिमाही में एसी और रेफ्रिजरेटर की कीमतों में 3-5% की वृद्धि हुई है। हालांकि त्योहारों के चलते फिलहाल कीमतों में बढ़ोतरी नहीं की गई है। लेकिन हम भविष्य में कीमतें बढ़ाने के लिए लागत पर नजर रख रहे हैं।

लागत बढ़ने से महंगी होगी चीजे

कंज्यूमर इलेक्ट्रॉनिक्स एंड अप्लायंसेज मैन्युफैक्चरर्स एसोसिएशन के अध्यक्ष एरिक ब्रागांजा का कहना है कि कमोडिटी की कीमतें एक साल में 15 से 20 फीसदी बढ़ी हैं। निर्माता मार्जिन घटाकर चरणबद्ध तरीके से कीमतें बढ़ा रहे हैं। हालांकि त्योहारों के मौके पर कीमतों में बढ़ोतरी नहीं होगी, लेकिन त्योहारों के बाद कीमतों में दो से तीन चरणों में बढ़ोतरी हो सकती है। पहले चरण में कीमतों में 5-7% की बढ़ोतरी होगी।

Related Stories

No stories found.
Since independence
hindi.sinceindependence.com