WazirX से सेंट्रल GST ने 49.2 करोड़ नकद वसूले, पहले भी 2790 करोड़ से ज्यादा की क्रिप्टोकरेंसी के लेन-देन पर दिया था नोटिस

जीएसटी कमिश्नरेट के अनुसार वजीर एक्स से जीएसटी के तौर पर 40 करोड़ 51 लाख 3412 रुपए, ब्याज के तौर पर 2 करोड़ 59 लाख 34 हजार 207 रुपए और पेनाल्टी के तौर पर 6 करोड़ 7 लाख 65 हजार 512 रुपए कैश वसूले गए हैं। इस मामले की जांच अभी भी जारी है।
WazirX से सेंट्रल GST ने 49.2 करोड़ नकद वसूले, पहले भी 2790 करोड़ से ज्यादा की क्रिप्टोकरेंसी के लेन-देन पर दिया था नोटिस

बिजनेस डेस्क. जीएसटी चोरी की जद में आए क्रिप्टोकरेंसी एक्सचेंज वजीर एक्स पर 49.2 करोड़ की पैनल्टी लगाई है। बता दें कि इससे पहले भी जांच एजेंसियों ने इस पर सवाल खड़े किए थे। वजीर एक्स को प्रवर्तन निदेशालय की ओर से इस साल जून में नोटिस भी भेजा गया था। ये नोटिस कंपनी के डायरेक्टर निश्चल शेट्टी और समीर म्हात्रे को जारी किया गया था। लेकिन उस समय मामला 2790 करोड़ से ज्यादा की क्रिप्टोकरेंसी के लेन-देन का था। ईडी ने उस समय जारी बयान में कहा था कि वजीर एक्स के खिलाफ फॉरेन एक्सचेंज मैनेजमेंट एक्ट यानी FEMA के तहत कार्रवाई की जा रही है। जांच में पहले पता चला था कि इसमें करोड़ों रुपए के लेन-देन चीन के अवैध ऑनलाइन बेटिंग ऐप के जरिए किया गया।

49.2 करोड़ की वसूली ऐस की गई
जीएसटी कमिश्नरेट के अनुसार वजीर एक्स से जीएसटी के तौर पर 405103412 रुपए, ब्याज के तौर पर 25934207 रुपए और पेनाल्टी के तौर पर 60765512 रुपए वसूले गए हैं। इस मामले की जांच अभी भी जारी है।
क्रिप्टो की खरीद और बिक्री पर जीएसटी नहीं ली जा रही थी
इसे WRX COIN नाम दिया था। इस कॉइन से क्रिप्टो की खरीद और बिक्री पर जीएसटी नहीं ली जा रही थी। वहीं इसमें कंपनी सिर्फ अपना कमीशन ले रही थी। जबकि, भारतीय मुद्रा में लेन-देन पर कमीशन के साथ जीएसटी भी ली जा रही थी। इस तरह अपनी क्रिप्टोकरेंसी में लेन-देन कराकर सरकार को 40 करोड़ से ज्यादा की चोट दी गई थी। जिसे अब ब्याज और पेनाल्टी समेत वसूला गया है।

ईडी ने पूरे लेन-देन को मनी लॉन्ड्रिंग का मामला बताया

एनफोर्समेंट डायरेक्ट्रेट ने इस पूरे लेन-देन को मनी लॉन्ड्रिंग का मामला बताया था। बता दें​ कि वजीर एक्स अलग-अलग क्रिप्टोकरेंसी के लेन-देन का प्लेटफॉर्म है। एनफोर्समेंट डायरेक्ट्रेट को जून में जांच रिपोर्ट में पता चला था कि वजीर एक्स के यूजर्स ने बिनांस अकाउंट्स नाम की कंपनी से 880 करोड़ की क्रिप्टोकरेंसी जुटाई थी। इसके अलावा 1400 करोड़ की क्रिप्टोकरेंसी ट्रांसफर भी की गई थी। ये सारे ट्रांजेक्शन ब्लॉकचेन पर भी मौजूद नहीं हैं।

WazirX से सेंट्रल GST ने 49.2 करोड़ नकद वसूले, पहले भी 2790 करोड़ से ज्यादा की क्रिप्टोकरेंसी के लेन-देन पर दिया था नोटिस
घर में अकूत काला धन‚ फिर भी चप्पलों में पहुंच जाते थे शादियों में, जानिए उस इत्र व्यापारी की कहानी जिसके इत्र से ज्यादा खुशबू देशभर में 257 करोड़ के नोटों की फैली

बीते दिनों ही पीएम मोदी ने चेताया था

आपको बता दें कि बीते दिनों पीएम मोदी तक क्रिप्टोकरेंसी के लेन-देन पर चिंता जता चुके हैं। पीएम मोदी ने कहा था कि इसके बारे में लोगों को ज्यादा जानकारी नहीं है और खासकर युवा वर्ग को इसमें लेन-देन से नुकसान काफी हो सकता है। उनकी सरकार संसद के शीतकालीन सत्र में क्रिप्टोकरेंसी के नियमन पर बिल भी लाने जा रही थी, लेकिन ऐसा नहीं हो पाया। खैर, अब ये साबित हो चुका है कि वजीर एक्स ने टैक्स चोरी से करोड़ों रुपए इकट्ठा कर लिए थे।

बिना वैध कागजात के क्रिप्टोकरेंसी विभिन्न देशों में भेजी जा रही थी

ईडी की जांच में ये भी सामने आया था कि बिना वैध कागजात के ही किसी को भी किसी भी देश में क्रिप्टोकरेंसी सेंड की जा सकती है। यानी इसका इस्तेमाल अवैध गतिविधियों के तौर पर किया जा सकता है।

बता दें कि वजीर एक्स पर वर्तमान में जीएसटी चोरी का आरोप लगा है। जीएसटी कमिश्नर ने जांच में पाया कि कंपनी ने करीब 40 करोड़ रुपए की टैक्स चोरी की है। ये चोरी लंबे समय से की जा रही थी। कंपनी ने अपनी क्रिप्टोकरेंसी जारी की थी।

WazirX से सेंट्रल GST ने 49.2 करोड़ नकद वसूले, पहले भी 2790 करोड़ से ज्यादा की क्रिप्टोकरेंसी के लेन-देन पर दिया था नोटिस
सपा MLC पुष्पराज के लखनऊ, कन्नौज, कानपुर, नोएडा और हाथरस सहित 50 ठिकानों पर IT की छापेमारी

Related Stories

No stories found.
Since independence
hindi.sinceindependence.com