लाखो की नौकरी छोड़ बुजुर्ग दंपत्ति ने मुंबई से 120 KM दूर गांव में बनाया होमस्टे, अब हर महिने कमा रहे 50 हजार

कई वर्षों तक एक बहुराष्ट्रीय कंपनी में एक अच्छे पद पर काम करने के बावजूद, विनोद ने लाखों की नौकरी छोड़ दी और अपनी पत्नी के साथ एक ऐसे गाँव में बस गए जहाँ न तो बिजली थी और न ही पानी की सुविधा। 4 साल में पति-पत्नी ने मिलकर 'बनयान ब्लिस' नाम का ऐसा होमस्टे तैयार किया है, जहां आज देश-विदेश से हजारों की संख्या में सैलानी ठहरने आते हैं। लोग घर से दूर प्रकृति में घर का आनंद लेते हैं।
लाखो की नौकरी छोड़ बुजुर्ग दंपत्ति ने मुंबई से 120 KM दूर गांव में बनाया होमस्टे, अब हर महिने कमा रहे 50 हजार
Photo | Dainik Bhaskar

डेस्क न्यूज़- जो लोग शहर से दूर जीवन में आराम चाहते हैं वे भी अच्छी कमाई कर सकते हैं। इसका उदाहरण मुंबई के एक बुजुर्ग दंपत्ति विनोद और उनकी पत्नी बीना ने दिया है। कई वर्षों तक एक बहुराष्ट्रीय कंपनी में एक अच्छे पद पर काम करने के बावजूद, विनोद ने लाखों की नौकरी छोड़ दी और अपनी पत्नी के साथ एक ऐसे गाँव में बस गए जहाँ न तो बिजली थी और न ही पानी की सुविधा। 4 साल में पति-पत्नी ने मिलकर 'बनयान ब्लिस' नाम का ऐसा होमस्टे तैयार किया है, जहां आज देश-विदेश से हजारों की संख्या में सैलानी ठहरने आते हैं। लोग घर से दूर प्रकृति में घर का आनंद लेते हैं।

Photo | Dainik Bhaskar
Photo | Dainik Bhaskar

हर महिने हो रही 50,000 रुपये की कमाई

प्रकृति के बीच में एक पहाड़ पर बने इस होमस्टे में अब तक 10 हजार से ज्यादा मेहमान ठहरने आ चुके हैं। इस इको-फ्रेंडली होमस्टे से एक बुजुर्ग दंपत्ति प्रति माह लगभग 50,000 रुपये कमा रहे हैं। वे अपना जीवन बदलने के साथ-साथ ग्रामीणों को रोजगार के अवसर भी दे रहे हैं। आइए बात करते हैं विनोद, बीना और उनके 'बनयन ब्लिस' होमस्टे की।

बीमार हुए तो आया कुछ अलग करने का आइडिया

68 वर्षीय विनोद 2009 से पहले एक बहुराष्ट्रीय विज्ञापन कंपनी के अध्यक्ष थे। विनोद ने लगभग 35 वर्षों तक कई विज्ञापन कंपनियों के लिए काम किया। इस दौरान उन्हें यात्रा भी करनी पड़ी। विनोद बताते है कि "मैं मुंबई में 18 घंटे काम करता था। ज्यादातर समय घूमने और काम करने में बीतता था, अपने लिए और परिवार के साथ समय बिताने का मौका नहीं मिलता था। भागदौड़ और तनाव से भरी जिंदगी थी, इसी बीच मैंने 'स्लिप डिस्क' की शिकायत की और फिर मैंने अपनी जीवनशैली बदलने का फैसला किया। मैं मुंबई से दूर किसी गांव में बसना चाहता था।

4 साल में तैयार किया होमस्टे

2009 में विनोद और बीना आधुनिक सुख-सुविधाओं को छोड़कर मुंबई से 120 किलोमीटर दूर वसुंडे गांव में बस गए। एक ऐसा गांव जहां न बिजली थी और न पानी की सुविधा। इतना ही नहीं वसुंदे तक पहुंचने के लिए कोई बस या ट्रेन की सुविधा नहीं है। यहां तक ​​कि वसुंडे के लोग भी बाहरी दुनिया के बारे में ज्यादा नहीं जानते थे। कई चुनौतियों के बावजूद, विनोद और बीना ने 4 साल में एक होमस्टे बनाया जो कई लोगों का पसंदीदा वीकेंड डेस्टिनेशन बन गया है। लोग यहां अपने परिवार के साथ छुट्टियां बिताने आते हैं, खासकर बच्चे और बुजुर्ग यहां आना पसंद करते हैं।

Photo | Dainik Bhaskar
Photo | Dainik Bhaskar

मिट्टी, लकड़ी और गोबर से बना होमस्टे

बनयान ब्लिस पारंपरिक शैली में बनाया गया है, जो शहर में बन रहे भवन से बिल्कुल अलग है। एक एकड़ का बनयान ब्लिस लकड़ी, मिट्टी और गाय के गोबर से बनाया गया है। यहां खिड़की और दरवाजे में इस्तेमाल की गई लकड़ी को लगाया गया है। इस होम स्टे की खासियत यह है कि इसके कमरे न तो जाड़े में ज्यादा ठंडे होते हैं और न ही गर्मियों में ज्यादा गर्म। यहां आने वाले मेहमानों को एयर कंडीशनर (एसी), टेलीविजन या इंटरनेट जैसी कोई सुविधा नहीं मिलती है। जबकि किताबें पढ़ने के शौकीन लोगों के लिए रखी गई हैं। होमस्टे में 4 बड़े कॉटेज और 2 छोटे कॉटेज हैं, जहां रहने और खाने की सभी सुविधाएं उपलब्ध कराई जाती हैं।

होमस्टे में ठहरने के नियम

यहां ठहरने के भी कुछ नियम हैं, जैसे अतिथि को अपने तौलिए और प्रसाधन सामग्री स्वयं लानी पड़ती है। प्लास्टिक की बोतलों का उपयोग नहीं किया जाता है। मेहमानों को अपनी खुद की बोतल लानी होगी जिसे वे अपनी आवश्यकता के अनुसार फिर से भर सकते हैं। होमस्टे में ही मेहमानों के लिए जैविक फल और सब्जियां उगाई जाती हैं। इसके अलावा यहां बारिश का पानी भी जमा होता है, जिसका इस्तेमाल पेड़-पौधों के लिए किया जाता है।

तनावपूर्ण जीवन के कारण लोगों का एग्रो टूरिज्म की ओर रुझान बढ़ रहा है। एग्रोटूरिज्म का मतलब ऐसी जगहों की यात्रा करना है जहां घूमने के साथ-साथ गांव और खेती का मजा लिया जा सके। पिछले कुछ सालों में लोगों में एग्रोटूरिज्म का क्रेज बढ़ा है। पर्यटक होटल या रिसॉर्ट में ठहरने की बजाय प्रकृति के करीब होम स्टे में रहना पसंद कर रहे हैं। लोग शहर की भीड़-भाड़ वाली जिंदगी से काफी ऊब चुके हैं और वे अपना फुरसत का समय ऐसी जगहों पर बिताना पसंद करते हैं जो प्रकृति के करीब हों।

फुरसत का समय बिताने आते है लोग

विनोद बताते हैं, "हमारे ज्यादातर मेहमान शहर की भीड़-भाड़ वाली जिंदगी से दूर अपना फुरसत का समय बिताने के लिए यहां आते हैं। हम यहां लोगों को खासकर बच्चों को उस गांव को देखने का मौका देते हैं जो इस पीढ़ी के बच्चों ने नहीं देखा है। यहां न तो वाहनों का शोर होता है और न ही प्रदूषण, इन्हीं खूबियों की वजह से यहां कई लोग आते हैं। कोरोना से पहले ज्यादातर लोग बनयान ब्लिस में वीकेंड मनाने आते थे, लेकिन अभी पूरे हफ्ते भीड़ रहती है।

गांव के लोगो को भी दे रहे रोजगार

विनोद और बीना की इस अनूठी पहल से गांव के लोगों को भी रोजगार के अवसर मिल रहे हैं। होम स्टे में कई महिलाएं काम करती हैं जो खाना बनाने से लेकर मेहमान की देखभाल तक का काम करती हैं। इससे वहां के लोग पैसे भी कमा रहे हैं। विनोद कहते हैं, "अगर हमें किसी जगह पर बदलाव लाना है तो उसकी शुरुआत वहां के लोगों से करनी होगी। हम यहां के लोगों को इलेक्ट्रीशियन, प्लंबर, ड्राइविंग और कुकिंग जैसे कामों में कुशल बना रहे हैं। ये लोग हमारी मदद भी करते हैं और बदले में पैसा कमाते हैं।"

कोई भी कर सकता है इस मॉडल पर काम

विनोद बताते हैं कि कुछ नया करने के लिए सबसे जरूरी है आपकी नीयत सही होनी चाहिए और फिर लगातार प्रयास करने की जरुरत है। फिर एक दिन ऐसा आता है कि भले ही आप एक छोटे से गांव में बसे हों, लेकिन बहुत से लोग आपको ढूंढते हुए आएंगे। विनोद कहते हैं, "ऐसे मॉडल पर कोई भी काम कर सकता है। लोग पैसे के लिए शहर की ओर भागते हैं, जबकि लोग यह नहीं जानते कि कोई गांव में भी रह सकता है। साथ ही अच्छा जीवन व्यतीत करें। और मैं खुद इसका सबूत हूं।"

कई लोग विनोद और बीना की जिंदगी से प्रभावित हैं और ऐसे ही होम स्टे में रहना चाहते हैं। कुछ ऐसे लोगों के लिए विनोद 5 एकड़ में और होमस्टे बना रहे हैं, जो करीब 4 साल में बनकर तैयार हो जाएंगे। "नए प्रोजेक्ट में होम स्टे के अलावा डेयरी का काम किया जाएगा और महिलाओं को सशक्त बनाने के लिए कढ़ाई, बुनाई और योग सिखाया जाएगा।"

कैसे पहुंच सकते है "बनयान ब्लिस"

जिस संपत्ति में बनयान ब्लिस बनाया गया है, उसमें एक बरगद (बरगद) का पेड़ है जो 150 साल पुराना है। बनयान ब्लिस में 6 कॉटेज हैं और उनमें से 5 कॉटेज बरगद के पेड़ के बीच में बने हैं, जबकि एक कॉटेज बाहर बना हुआ है। बरगद के पेड़ के बीच में बना होमस्टे, जहां लोग प्रकृति का लुत्फ उठाने आते हैं। इसलिए इस जगह का नाम बनयान ब्लिस रखा गया है। यह मुंबई और पुणे दोनों से 120 किमी दूर महाराष्ट्र के अहमदनगर जिले के वसुंडे गांव में बना है। जहां जाने के लिए निजी वाहन होना चाहिए। आप 2 घंटे 45 मिनट का सफर तय कर यहां पहुंच सकते हैं।

Related Stories

No stories found.
Since independence
hindi.sinceindependence.com