यूनिट-लिंक्ड इंश्योरेंस प्लान (ULIP) में शामिल होते हैं ये 11 शुल्क, जिनके बारे में आपको पता होना चाहिए

यूनिट-लिंक्ड इंश्योरेंस प्लान (यूलिप) एक प्रकार की बीमा पॉलिसी है जो बीमा और निवेश के दोहरे लाभ प्रदान करती है। आइये इस आर्टिकल में आपको बताते हैं कि यूनिट-लिंक्ड इंश्योरेंस प्लान (ULIP) में शामिल 11 शुल्क कौन–कौन से हैं।
यूनिट-लिंक्ड इंश्योरेंस प्लान (ULIP) में शामिल होते हैं ये 11 शुल्क, जिनके बारे में आपको पता होना चाहिए

यूनिट-लिंक्ड इंश्योरेंस प्लान (यूलिप) एक प्रकार की बीमा पॉलिसी है जो बीमा और निवेश के दोहरे लाभ प्रदान करती है। पारंपरिक बीमा उत्पादों के विपरीत, यूलिप विभिन्न जोखिम कारकों के अधीन हैं, जहां लाभ सीधे बाजार की स्थितियों के अनुपात में होता है। विभिन्न बीमा कंपनियों द्वारा पेश किए जाने वाले यूलिप के शुल्क प्रकार अलग-अलग होते हैं।

आइये इस आर्टिकल में आपको बताते हैं कि यूनिट-लिंक्ड इंश्योरेंस प्लान (ULIP) में शामिल 11 शुल्क कौन – कौन से हैं।

यूनिट लिंक्ड बीमा योजना के बारे में जानिए

यूनिट लिंक्ड बीमा योजना  बाजार से जुड़ी हुई बीमा पॉलिसी है। भारत में मौजूद कई बीमा कम्पनियां यूनिट लिंक्ड बीमा योजना  की सुविधा लोगों को प्रदान करती हैं। आपके द्वारा चुकाये गए प्रीमियम का बाजार से जुड़े वित्तीय उपकरणों में निवेश किया जाता है। यह उपकरण विभिन्न प्रकार के फंड होते है, और आप अपनी जोखिम उठाने की क्षमता के हिसाब से अपनी पसंद के फंड का चुनाव कर सकते हैं। निवेश करने से पहले आपके प्रीमियम से कुछ शुल्क (जिन्हें चार्ज भी कहते हैं) काटे जाते हैं, जिनके बारे में हम इस लेख में जानेंगे।

यूलिप में शामिल 11 शुल्क जिनके बारे में आपको पता होना चाहिए

प्रीमियम ऐलकैशन शुल्क:- यह पॉलिसी जारी करने से पहले बीमाकर्ता द्वारा वसूल किए गए पहले वर्ष के प्रीमियम का कुछ प्रतिशत हिस्सा होता है। ये पॉलिसी जारी करने के समय बीमा कंपनी द्वारा किए गए शुरुआती खर्च हैं। इसमें स्वीकृति की लागत, चिकित्सा व्यय, एजेंट का कमीशन आदि जैसे शुल्क शामिल हैं। इन शुल्कों को काटने के बाद, शेष राशि को चुने हुए फंड में निवेश किया जाता है। उदाहरण के तौर पर मान लीजिए, आपका प्रीमियम आवंटन शुल्क 20 प्रतिशत है और आपका कुल प्रीमियम 50,000 रुपये है। अब बीमाकर्ता द्वारा प्रीमियम आवंटन शुल्क के रूप में 10,000 रुपये काटे जाएंगे और 40,000 रुपये का निवेश किया जाएगा।

ऐड्मिनिस्ट्रैशन शुल्क:- हर महीने, बीमाकर्ता द्वारा आपकी पॉलिसी के देखरेख के लिए एक शुल्क लिया जाता है। आपके द्वारा चुने गए प्रत्येक फंड से आनुपातिक रूप से इकाइयों (यूनिट्स) को रद्द करके इन शुल्कों की कटौती की जाती है। यह या तो पूरे कार्यकाल में समान रहेगा या पूर्वनिर्धारित दर पर बदलेगा।

फंड मैनिज्मन्ट  शुल्क:- ये शुल्क आपके फंड के प्रबंधन के लिए लगाए जाते हैं। यह बीमाकर्ता द्वारा आपके फंड के कुल मूल्य के प्रतिशत के रूप में लिया जाता है और फंड के कुल परिसंपत्ति मूल्य (NAV)  की गणना करने से पहले इसे घटा दिया जाता है। इरडा (IRDAI) के नियमों के अनुसार, यह 1.5% से अधिक नहीं होना चाहिए।

सरेंडर या डिसकन्टिन्यू करने पर शुल्क:- ये शुल्क तब लगाए जाते हैं जब बीमाकर्ता समय से पहले यूलिप का समर्पण कर देता है। इरडा के नियमों के अनुसार, पॉलिसी के बंद होने की स्थिति में बीमाकर्ता केवल अधिग्रहण लागत की वसूली करेगा। यह शुल्क फंड मूल्य और प्रीमियम के प्रतिशत के रूप में लिया जाता है। बीमाधारक द्वारा भुगतान किए गए प्रीमियम के आधार पर, पहले चार वर्षों के लिए यूलिप में समर्पण शुल्क 1000 रुपये से 3,000 रुपये तक होगा। पांचवें वर्ष के बाद, कोई समर्पण शुल्क नहीं लगाया जाता है।

पार्शियल विथ्ड्रॉअल शुल्क:- पाँच वर्ष पूरे होने के बाद, निवेशकों को अपनी पॉलिसी की शर्तों के अधीन, अपने यूलिप में इखट्टी जमापूँजी से कुछ हिस्सा (जिसकी सीमा बीमा कंपनी द्वारा तय की जाती है) निकालने की अनुमति है। हालांकि, इस तरह की निकासी पर कुछ शुल्क लागू हो सकते हैं।

मॉरटैलिटी शुल्क:- ये बीमाकर्ता द्वारा बीमाधारक को जीवन बीमा प्रदान करने के लिए लगाया जाता है। इसकी गणना बीमाकर्ता द्वारा आपकी आयु, स्वास्थ्य जोखिम और बीमाकर्ता द्वारा उपयोग की जाने वाली मृत्यु तालिका में दर्ज होने के बाद की जाती है।

फंड स्विचिन्ग शुल्क:- एक निवेशक को हर साल विभिन्न फंड विकल्पों के बीच एक निश्चित संख्या में निःशुल्क निवेश बदलाव की अनुमति है। इसके बाद, प्रत्येक बदलाव पर शुल्क लगेगा, जो प्रति बदलाव 100-500 रुपये तक जा सकता है, जो बीमाकर्ता की शुल्क संरचना के अधीन है।

प्रीमियम रिडाइरेक्शन शुल्क:- बीमाकर्ता प्रीमियम पुनर्निर्देशन शुल्क लगाते हैं यदि आप अपने भविष्य के प्रीमियम को मौजूदा फंड संरचना को बदले बिना किसी अन्य कम जोखिम वाले फंड विकल्पों में पुनर्निर्देशित करते हैं।

गारंटी शुल्क:- बीमाकर्ता उच्च-एनएवी गारंटी किस्म के यूलिप पर गारंटी शुल्क लगाते हैं। इसका भुगतान बीमाधारक द्वारा गारंटीड लाभ प्राप्त करने के लिए किया जाता है। उदाहरण के लिए, यदि कोई यूलिप 10 वर्षों के बाद 120% का वादा करता है, तो आपको उसके लिए गारंटी शुल्क का भुगतान करना होगा।

राइडर शुल्क:- ये साधारण प्लान पर खरीदे गए अतिरिक्त लाभों पर लगाए जाते हैं। उदाहरण के लिए, यदि आप एक क्रिटिकल इलनेस राइडर चुनते हैं तो आपको अतिरिक्त शुल्क का भुगतान करना होगा।

अन्य शुल्क:- यह शुल्क संरचना में अपेक्षाकृत छोटा तत्व है। उदाहरण के लिए, यदि आप प्रीमियम भुगतान मोड को वार्षिक से त्रैमासिक में बदलने का निर्णय लेते हैं, तो आपको विविध शुल्क चुकाने पर सकते हैं।

निष्कर्ष

एक ग्राहक के तौर पर आपको यह पता होना चाहिए कि जीवन बीमा पॉलिसी क्या है, और आप जो जीवन बीमा लेना चाहते हैं, उस बीमा के लिए कितने प्रकार के शुल्क चुकाने होंगे। ताकि आप निवेश करने से पहले, उन शुल्कों की पेचीदगियों को बेहतर तरीके से समझ सकें, जिनका आपको पूरी अवधि के दौरान भुगतान करना होगा। इसके साथ ही इस जानकारी की सहायता से आपको अपने लिए सर्वश्रेष्ठ यूलिप योजना खरीदने में भी मदद मिलेगी।

logo
Since independence
hindi.sinceindependence.com