JPIS स्कूल जयपुर के 11 छात्र कोरोना की चपेट में: स्कूल प्रबंधन ने 4 दिन के लिए बंद की ऑफलाइन पढ़ाई

कोरोना जिसने पुरे विश्व को अपना शिकार बनाया, एक बार फिर से अपने पैर पसारने लगा है। कुछ समय से कोरोना मामलों में थोड़ी राहत मिली थी, लेकिन एक बार फिर राजस्थान में कोरोना का संक्रमण फैलने लगा है।
JPIS स्कूल जयपुर के 11 छात्र कोरोना की चपेट में: स्कूल प्रबंधन ने 4 दिन के लिए बंद की ऑफलाइन पढ़ाई
Image Credit: CGTN

कोरोना जिसने पुरे विश्व को अपना शिकार बनाया, एक बार फिर से अपने पैर पसारने लगा है। कुछ समय से कोरोना मामलों में थोड़ी राहत मिली थी, लेकिन एक बार फिर राजस्थान में कोरोना का संक्रमण फैलने लगा है। शत-प्रतिशत क्षमता के साथ स्कूल खोलने के बाद अब स्कूली छात्र-छात्राएं भी कोरोना की चपेट में आ रहे हैं। मंगलवार को जयपुर के जयश्री पेडीवाल इंटरनेशनल स्कूल में पढ़ने वाले 11 छात्र कोरोना संक्रमित पाए गए हैं। जिसके बाद स्कूल प्रबंधन ने अगले 4 दिनों के लिए ऑफलाइन पढ़ाई पर रोक लगा दी है।

4 दिन तक ऑनलाइन पढ़ाई का लिया निर्णय

जयश्री पेडीवाल इंटरनेशनल स्कूल के समन्वयक अनुज शर्मा ने कहा कि डे-बोर्डिंग के कारण स्कूल में नियमित रूप से छात्रों की जांच की जाती है। इस दौरान ग्यारहवीं कक्षा का एक छात्र कोरोना संक्रमित पाया गया। जो मूल रूप से मुंबई का रहने वाला हैं। ऐसे में एहतियात के तौर पर स्कूल प्रबंधन ने अगले 4 दिन तक स्कूल बंद रखने का फैसला किया है। शर्मा ने बताया कि इस दौरान ऑनलाइन पढ़ाई जारी रहेगी, जिससे स्कूल के अन्य बच्चे घर से ही पढ़ाई कर सकें।

अभिभावक एकता संघ ने किया विरोध

अभिभावक एकता संघ के संयोजक मनीष विजयवर्गीय ने कहा कि हमारे बच्चे प्रयोगशाला नहीं हैं। ऐसे में जब तक कोरोना खत्म नहीं हो जाता, तब तक जयपुर ही नहीं पूरे राजस्थान में ऑनलाइन पढ़ाई होनी चाहिए। ताकि बच्चे घर बैठे सुरक्षित पढ़ाई कर सकें। विजयवर्गीय ने कहा कि सरकार ने निजी स्कूलों को फायदा पहुंचाने के लिए शत-प्रतिशत क्षमता वाले स्कूल खोलने का जल्दबाजी में फैसला लिया है, जो गलत है। राजस्थान अभिभावक एकता संघ इसका कड़ा विरोध करता है।

अभिभावकों में भय का माहौल

वहीं जयश्री पेडीवाल इंटरनेशनल स्कूल में बच्चों के कोरोना पॉजिटिव आने से अभिभावकों में भय का माहौल है। अभिभावक अमित खंडेलवाल ने बताया कि सरकार ने शत-प्रतिशत क्षमता के साथ स्कूल खोलने का जल्दबाजी में फैसला लिया है, जो कि बिल्कुल गलत है। वर्तमान में, छोटे बच्चों के लिए टीका उपलब्ध नहीं है। ऐसे में जब तक छोटे बच्चों को टीके की दोनों खुराक नहीं मिल जाती, तब तक पूरी क्षमता से स्कूल नहीं खोले जाने चाहिए।

जानिए, कोरोना के नए आकंड़े

बता दें कि राजस्थान में पिछले 24 घंटे में जयपुर, अजमेर समेत 7 जिलों में 22 नए कोरोना मरीज मिले हैं। राजस्थान में 21 अगस्त के बाद आज कोरोना के 20 से ज्यादा मामले सामने आए हैं। सबसे ज्यादा 11 केस जयपुर में मिले हैं। जिसमें गंभीर बात यह है कि 3 व्यक्ति ऐसे हैं जिनका चिकित्सा विभाग पता नहीं लगा पाया है। वहीं, 11वीं कक्षा की एक लड़की भी पॉजिटिव पाई गई है। जिसके बाद उसके संपर्क में आए 12 बच्चों का सैंपल विभाग ने लिया है। इससे पहले जयपुर के महाराजा सवाई मानसिंह स्कूल में पढ़ने वाले दो छात्र कोरोना संक्रमित पाए गए थे। जिसके बाद स्कूल प्रबंधन ने अगले 4 दिनों के लिए ऑफलाइन पढ़ाई पर रोक लगा दी थी।

Related Stories

No stories found.
Since independence
hindi.sinceindependence.com