रेमडेसिविर की खाली शीशी से भरकर बिकने का खेल, नर्स बहन खाली शीशी देती, भाई एंटीबायोटिक भर 8 हजार में दलालों को देता

इंजेक्शन के खाली शीशी पर लिखे मरीज का नाम सैनिटाइजर से मिटा दिया और उसे काला बाजार वालों को 6 से 8 हजार रुपये में बेच दिया
रेमडेसिविर की खाली शीशी से भरकर बिकने का खेल, नर्स बहन खाली शीशी देती, भाई एंटीबायोटिक भर 8 हजार में दलालों को देता

डेस्क न्यूज़- मध्य प्रदेश के रतलाम में नकली रेमडेसिविर इंजेक्शन बनाने का बड़ा रैकेट पकड़ा गया है,

एक युवक गैंग नर्स बहन के साथ चलाता था, बहन उसे मेडिकल कॉलेज से रेमडेसिविर इंजेक्शन की

खाली शीशी देती थी, भाई उसमें सामान्य एंटीबायोटिक सेफ्ट्रिक्सोन पाउडर मिलाता और फेविकिक

से उसे दोबारा पैक करता था, इंजेक्शन के खाली शीशी पर लिखे मरीज का नाम सैनिटाइजर से मिटा

दिया और उसे काला बाजार वालों को 6 से 8 हजार रुपये में बेच दिया।

नकली इंजेक्शन जरूरतमंद ग्राहकों को 30 से 35 हजार रुपये में बेचा जाता था

फर्जी एजेंटों के जरिए यह नकली इंजेक्शन जरूरतमंद ग्राहकों को 30 से 35 हजार रुपये में बेचा जाता था,

पुलिस ने इस मामले में अब तक 7 आरोपियों को गिरफ्तार किया है, इनमें रतलाम के जीवनवंश

अस्पताल के डॉ. उत्सव नायक, डॉ. यशपाल सिंह, मेडिकल व्यवसायी प्रणव जोशी,

मेडिकल कॉलेज की नर्स रीना प्रजापति, रीना के भाई पंकज प्रजापति, जिला अस्पताल गोपाल

मालवीय और रोहित मालवीय शामिल हैं।

इस तरह गिरोह पकड़ा गया

शनिवार की रात पुलिस ने जीवांश अस्पताल में छापा मारा और वहां के दो ड्यूटी डॉक्टरों को

30 हजार के साथ इंजेक्शन की डिलीवरी देते हुए रंगे हाथों पकड़ लिया, यहां से डॉ. उत्सव

नायक और डॉ. यशपाल सिंह को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया, पूछताछ के दौरान सामने आए

खुलासे में फरार आरोपी प्रणव जोशी को मंदसौर से गिरफ्तार किया गया था, इसके बाद मेडिकल

कॉलेज की नर्स रीना प्रजापति, उनके भाइयों पंकज प्रजापति, गोपाल मालवीय और रोहित मालवीय

का नाम सामने आया, चारों को पुलिस ने सोमवार को गिरफ्तार किया था।

फर्जी इंजेक्शन टेस्ट के लिए सागर लैब भेजा जाना है

पुलिस ने आरोपियों के पास से नकली इंजेक्शन, औजार और अन्य सामान जब्त किए हैं,

जब्त नकली इंजेक्शन और सामग्री को फोरेंसिक जांच के लिए सागर भेजा जाएगा,

पुलिस इस मामले में आरोपियों से पूछताछ कर रही है, पुलिस जीवन रक्षक इंजेक्शनों को ब्लैकलिस्ट

करने वालों पर रासुका लगाने की तैयारी कर रही है।

सीरिंज की तरह रेमडेसिविर की खाली शीशियों को भी नष्ट किया जाना चाहिए।

सभी कंपनियां रेमडेसिविर को इंजेक्शन पाउडर के रूप में बेचती हैं, इसे लगाने से पहले घोल तैयार किया जाता है,

डॉ. अतुल नाहर कहते हैं कि इसे कहीं से भी लें, इसे पाउडर के रूप में ही लें, समाप्त इंजेक्शन का

उपयोग किसी भी समय सीमा के बाद नहीं किया जा सकता है, कुछ लोगों को निजी तौर पर इंजेक्शन

लगाया जाता है, यह गलत है, अस्पतालों, सीरिंज की तरह, इसकी खाली शीशियों को नष्ट कर देना चाहिए

ताकि कोई दुरुपयोग न हो।

Like and Follow us on :

Related Stories

No stories found.