बच्चों के टीकाकरण के बाद 10 जनवरी से लोगों को लगेगी बूस्टर डोज

देश में कोरोना ने बढ़ते संक्रमण के बीच सरकार कई महत्वपूर्ण निर्णय ले रही है. 3 जनवरी से बच्चों को वैक्सीनेशन के बाद 10 जनवरी से कोरोना वैक्सीन की बूस्टर डोज लगाई जाएगी.
बच्चों के टीकाकरण के बाद 10 जनवरी से लोगों को लगेगी बूस्टर डोज

3 जनवरी 2022 से देश में 15-18 वर्ष की आयु के बच्चों के लिए टीकाकरण शुरू किया गया। वहीं अब आगामी ’10 जनवरी’ से देश में कोरोना वैक्सीन की ‘बूस्टर डोज’ लगाई जाएगी। इसे लेकर सारी तैयारियां कर ली गई हैं। याद हो पीएम मोदी ने कोरोना से सीधी लड़ाई लड़ रहे अग्रिम मोर्चे के कर्मियों (फ्रंटलाइन वर्कर्स) और हेल्थकेयर वर्कर्स को वैक्सीन की प्रिकॉशनरी डोज देने की बात कही थी। इसके साथ-साथ जो लोग 60 साल से ऊपर के हैं उन्हें वैक्सीन की तीसरी डोज यानि बूस्टर डोज दी जाएगी। गौरतलब हो देश के भीतर अभी तक 90 प्रतिशत व्यस्क जनता को पहली डोज दी जा चुकी है। वहीं 62 प्रतिशत लोग ऐसे हैं जिन्हें दोनों डोज दी जा चुकी है।

बता दें, भारत में तीसरी खुराक को बूस्टर डोज नहीं ‘एहतियाती खुराक’ कहा गया है। एहतियाती खुराक के निर्णय से स्वास्थ्य सेवा और अग्रिम पंक्ति के कर्मियों का विश्वास मजबूत होगा। प्रधानमंत्री ने यह भी घोषणा की कि 10 जनवरी, 2022 से डॉक्टरों की सलाह पर सह-रुग्णता वाले 60 वर्ष से अधिक आयु के वरिष्ठ नागरिकों के लिए भी एहतियाती खुराक लेने का विकल्प उपलब्ध होगा।

बच्चों के टीकाकरण के बाद 10 जनवरी से लोगों को लगेगी बूस्टर डोज
"PM SIR आपकी चुप्पी देश के लिए खतरनाक है" -IIM अहमदाबाद और बेंगलुरु

देश में कैसी है तैयारी?

जैसे-जैसे वायरस के नए-नए रूप सामने आ रहे हैं, चुनौती का सामना करने की देश की क्षमता और आत्मविश्वास भी अभिनव भावना के साथ कई गुना बढ़ रहा है। आज देश में 18 लाख आइसोलेशन बेड, 5 लाख ऑक्सीजन सपोर्टेड बेड, 1 लाख 40 हजार आईसीयू बेड, 90 हजार आईसीयू और नॉन आईसीयू बेड विशेष रूप से बच्चों के लिए, 3 हजार से ज्यादा पीएसए ऑक्सीजन प्लांट, 4 लाख ऑक्सीजन सिलेंडर उपलब्ध हैं। टीकाकरण और जांच तेज करने के लिए राज्यों को सहायता प्रदान की जा रही है।

किन्हें और क्यों दी जा रही बूस्टर डोज ?

’10 जनवरी’ से शुरू हो रही बूस्टर डोज प्रक्रिया में कोरोना वैक्सीन की एहतियाती खुराक अभी केवल फ्रंटलाइन वर्कर्स और हेल्थकेयर वर्कर्स को ही लगाई जाएगी। इनकी संख्या करीब 3 करोड़ के आसपास है। इनके अलावा 60 साल से ऊपर के ऐसे बुजुर्ग जो किसी गंभीर बीमारी से जूझ रहे हैं, उन्हें भी तीसरी डोज दी जाएगी। डॉक्टर से परामर्श लेकर बुजुर्ग तीसरी डोज ले सकते हैं। बता दें, बुजुर्गों को तीसरी डोज दिए जाने की यह क्रम 9 महीने अर्थात 39 सप्ताह का होगा। क्योंकि इन्हें सबसे ज्यादा खतरा है। फ्रंटलाइन वर्कर्स और हेल्थ केयर वर्कर्स कोरोना से सीधी लड़ाई लड़ रहे हैं। ऐसे लोगों को वैक्सीन लगे कई महीने हो चुके हैं। क्योंकि देश में जब वैक्सीनेशन शुरू हुई थी तब भी सबसे पहले ही इन्हें ही वैक्सीन लगाई गई थी। समय के साथ इम्युनिटी कम होने लगती है। वहीं, कोरोना से बुजुर्गों को ज्यादा खतरा है। ऐसे बुजुर्ग जो किसी बीमारी से जूझ रहे हैं, उनकी जान जाने का खतरा ज्यादा है। इसलिए इन्हें तीसरी डोज लगाई जा रही है।

बच्चों के टीकाकरण के बाद 10 जनवरी से लोगों को लगेगी बूस्टर डोज
Assembly Elections 2022 : ECI की तैयारियां पूरी, 5 राज्यों में चुनावी तारीखों की घोषणा आज, जानिए नए साल में आयोग की क्या हैं तैयारियां ?

कितने अंतर से लगेगी वैक्सीन की तीसरी डोज -
सरकारी दिशानिर्देशों के मुताबिक, बूस्टर डोज उन्हें दी जाएगी जिन्हें वैक्सीन की दूसरी डोज लगे 9 महीने बीत गए हैं। मतलब यह है कि अगर आपने पिछले साल जनवरी से मार्च के बीच दूसरी डोज लगवाई होगी तो आप तीसरी डोज के पात्र होंगे।

कोई बीमारी नहीं, तब भी लगवा सकते हैं तीसरी डोज -
अभी केवल उन्हीं बुजुर्गों को बूस्टर डोज लगाई जाएगी जो किसी गंभीर बीमारी से जूझ रहे हैं। ऐसे बुजुर्ग अपने डॉक्टर की सलाह पर तीसरी डोज ले सकते हैं। इसके लिए ‘कोमोरबिडिटी सर्टिफिकेट’ जरूरी नहीं होगा।

कौन होंगे तीसरी डोज के पात्र -
यदि आप तीसरी डोज के दायरे में आते हैं तो आपको सरकार की ओर से एक मैसेज भेजा जाएगा। जी हां, तीसरी डोज का यह मैसेज कोविन प्लेटफॉर्म की ओर से भेजा जाएगा।

कौन सी दी जाएगी वैक्सीन -
बूस्टर डोज में वही वैक्सीन दी जाएगी जिसकी पहली दो डोज पात्र को लगी होगी। अगर पात्र ने पहली दो डोज कोवैक्सीन की ली होंगी तो तीसरी डोज भी कोवैक्सीन की ही लगेगी। इसी तरह अगर पहली दो डोज कोविशील्ड की लगवाई होगी तो तीसरी डोज भी कोविशील्ड की ही लगेगी।

बच्चों के टीकाकरण के बाद 10 जनवरी से लोगों को लगेगी बूस्टर डोज
कोरोना को लेकर राजस्थान में सख्ती, आज से नाइट कर्फ्यू, मास्क न लगाने पर हजार रुपए का चालान

कैसे होगा रजिस्ट्रेशन -
बूस्टर डोज के लिए अब फिर से रजिस्ट्रेशन करने की जरूरत नहीं होगी। क्योंकि कोविन पर आपका अकाउंट बन चुका है। अब बस मैसेज आने के बाद आप कोविन के जरिए बूस्टर डोज के लिए स्लॉट बुक कर सकते हैं।

बूस्टर डोज का सर्टिफिकेट भी मिलेगा -
जैसे वैक्सीन की पहली और दूसरी डोज लगने पर वैक्सीनेशन सर्टिफिकेट मिला है, ठीक उसी तरह बूस्टर डोज का सर्टिफिकेट भी मिलेगा। वैक्सीन की यह बूस्टर डोज बेहद जरूरी है। इसलिए इससे चूकिए मत। कोरोना के नए ओमिक्रॉन वैरिएंट ने इसकी जरूरत को और बढ़ा दिया है। यदि आप इसकी पात्रता के दायरे मे आते हैं तो इस वैक्सीन को जरूर लीजिए।

Like Follow us on :- Twitter | Facebook | Instagram | YouTube

बच्चों के टीकाकरण के बाद 10 जनवरी से लोगों को लगेगी बूस्टर डोज
सेक्स स्कैंडल लीक मामला: जब स्टार फुटबॉलर ने Onlyfans मॉडल को होटल में बुलाया!

Related Stories

No stories found.
Since independence
hindi.sinceindependence.com