श्रद्धालुओं के लिए खुले हनुमानगढ़ी और राम जन्मभूमि के पट, जानिए बाहर से आने वालों के लिए ये हैं नियम

अयोध्या के संत और धर्मगुरु भक्तों से अपील कर रहे हैं कि वे बिना टीकाकरण के अयोध्या न आएं. हनुमानगढ़ी में बजरंगबली के दर्शन के लिए श्रद्धालुओं की लंबी लाइन लगी रही
श्रद्धालुओं के लिए खुले हनुमानगढ़ी और राम जन्मभूमि के पट, जानिए बाहर से आने वालों के लिए ये हैं नियम

डेस्क न्यूज़- अयोध्या में पांच हजार मंदिरों के रामनगरी के सभी मठ मंगलवार से श्रद्धालुओं के दर्शन के लिए खोल दिए गए हैं, सभी धार्मिक स्थलों पर श्रद्धालुओं को कोरोना से बचाव के नियमों का पालन करते हुए दर्शन में प्रवेश दिया जा रहा है, मंदिरों में एक साथ पांच लोगों को ही प्रवेश की अनुमति दी जा रही है, वहीं अयोध्या के संत और धर्मगुरु भक्तों से अपील कर रहे हैं कि वे बिना टीकाकरण के अयोध्या न आएं. हनुमानगढ़ी में बजरंगबली के दर्शन के लिए श्रद्धालुओं की लंबी लाइन लगी रही।

डेढ़ साल से सभी धार्मिक उत्सव स्थगित हैं

सप्तपुरियों के मुखिया कहे जाने वाले रामनगरी में देशभर से श्रद्धालुओं की भारी भीड़ उमड़ती है, लेकिन कोरोना संक्रमण के चलते पिछले डेढ़ साल से सभी धार्मिक उत्सव स्थगित हैं, कोरोना संक्रमण को देखते हुए भगवान राम की जयंती के बाद से ही अयोध्या के सभी मठों और मंदिरों में दर्शन पर रोक लगा दी गई थी, कोरोना संक्रमण में कमी और मरीजों के ठीक होने की दर में वृद्धि को देखते हुए एक बार फिर श्रद्धालुओं के दर्शन के लिए मंदिरों के कपाट खोल दिए गए हैं।

एक बार फिर श्रद्धालुओं की आवाजाही

अयोध्या में राम जन्मभूमि, हनुमानगढ़ी समेत सभी धार्मिक स्थलों के कपाट खोल दिए गए हैं, कोरोना से बचाव के नियमों के पालन के साथ ही ज्येष्ठ मास के पहले मंगलवार से अयोध्या नगरी में एक बार फिर श्रद्धालुओं की आवाजाही देखने को मिल रही है।

बाहरी श्रद्धालुओं के लिए कोरोना जांच रिपोर्ट जरूरी

अयोध्या आने वाले बाहरी श्रद्धालुओं को 72 घंटे पहले कोविड की रिपोर्ट निगेटिव लाना जरूरी है, संतों का कहना है कि मंदिरों में दर्शन करने आने वाले सभी लोग कोरोना गाइडलाइंस का पालन करें, भक्तों को मास्क-सैनिटाइजर और सामाजिक दूरी बनाए रखते हुए भगवान की पूजा करनी होगी, मठों और मंदिरों में एक बार में केवल 5 भक्त ही भगवान के दर्शन कर पाएंगे।

प्रसाद और माला पर प्रतिबंध

हनुमानगढ़ी के महंत राजू दास ने प्रशासन का आभार जताया, उन्होंने कहा कि पिछले डेढ़ महीने से भक्त भगवान के दर्शन के लिए बेताब थे, पिछले डेढ़ महीने में भक्तों को कई तरह के कष्टों का सामना करना पड़ा, लंबे इंतजार के बाद उन्हें मंदिरों में दर्शन मिले हैं, सुबह तीन बजे से ही मंदिरों में भक्तों का आना शुरू हो गया था, मंदिर प्रशासन ने प्रसाद और माला नहीं चढ़ाने का फैसला किया है।

टीकाकरण कराकर ही मंदिर में आएं

रात 11 बजे तक करीब 50 हजार श्रद्धालुओं के हनुमानगढ़ी के दर्शन करने की संभावना है, उन्होंने अपील की है कि कोरोना से बचाव के लिए लोग टीकाकरण कराकर ही मंदिर में आएं।

Like and Follow us on :

Related Stories

No stories found.
Since independence
hindi.sinceindependence.com