सीबीआई के सामने पूँछ ताछ के दौरान फूट- फूट कर रोये आनंद गिरी ,पढ़ें

सीबीआई के सवालो के चक्रव्यूह में फसे आनंद गिरी सवालो के दौरान फूट फूट कर रोने लग गए , और नरेंद्र लगे आरोपों को गलत ठहराते रहे।
सीबीआई के सामने पूँछ ताछ के दौरान  फूट- फूट कर रोये आनंद गिरी ,पढ़ें
Photo ; PTI

सीबीआई  पूछताछ के लिए आनंद गिरि, आद्या प्रसाद तिवारी और संदीप तिवारी को रिमांड पर ले लिया और पुलिस लाइन लेकर आई। रात जारी रही। ने थर्ड डिग्री का प्रयोग तो नहीं किया पर सीडी और ब्लैक मेलिंग के सवाल पर आनंद गिरि कई बार फूट-फूटकर रोए। हर दफा यही कहते रहे कि मैंने गुरुदेव को ब्लैकमेल नहीं किया | मेरे पास कोई सीडी नहीं है।

सीडी और ब्लैक मेलिंग के सवाल पर आनंद गिरि कई बार फूट-फूटकर रोए

पुलिस लाइन ले जाने के बाद आनंद गिरि को सबसे अलग बैठाया गया। उसे चाय-बिस्किट भी ऑफर किया गया। आनंद ने कुछ नहीं खाया और चुप रहे। इसके बाद अफसरों की टीम ने आनंद से पूछताछ शुरू की। सीबीआई के अफसरों ने एक ही सवाल को अलग अलग वक्त पर कई दफा पूछा। यह पूछताछ देर रात जारी रही। इस दौरान आनंद को खाने-पीने के लिए भी पूछा गया। आनंद ने सीबीआई के सवालों का जवाब तो दिया पर गुरु को ब्लैकमेलिंग और महिला के साथ वीडियो बनाने वाली बात से हर बार इनकार करते रहे। जब सीबीआई ने सख्ती की तो आनंद की आंखों में आंसू आ गए। आनंद गिरी ने पुलिस को बताया कि उसने अपना मोबाइल और लैपटॉप दे दिया है। उसके पास किसी भी प्रकार की वीडियो और सीडी नहीं है।

इसके बाद मठ में जमीन बेचने से लेकर छोटे बड़े सभी विवादों की एक एक परत सीबीआई के अफसरों ने खोलनी शुरू की
|महंत नरेंद्र गिरि से उसके सम्बन्ध बिगड़ने के पीछे कई लोगों का हाथ बताया |आशीष गिरि के कथित सुसाइड केस में जांच की मांग करने पर दोनों के संबंध और खटास आ गई |

सीबीआई ने पूछी समझौते के पीछे की कहानी

CBI ने आनंद से पूछा महंत नरेंद्र गिरी से कैसे खराब हुए रिश्ते , वो तो आपको बहुत मानते थे? आनंद ने सीबीआई के सवालों का जवाब तो दिया पर बीच बीच में अटक जा रहे थे। सीबीआई ने आनंद के अखाड़े से निष्कासन के बाद उनके द्वारा मीडिया को दिए गए बयानों का भी संज्ञान लिया | आनंद ने बताया कि कैसे बाद में कुछ लोगों के प्रयास से लखनऊ में दोनों में लिखित समझौता हुआ, लेकिन गुरुजी ने उसे दोबारा मठ और अखाड़े में प्रवेश नहीं दिलवाया।

Related Stories

No stories found.
Since independence
hindi.sinceindependence.com