कॉलेज में चुनावी माहौल, कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने की SFI के धीरज की हत्या, केरल के इडुक्की इंजीनियरिंग कॉलेज की घटना

पुलिस का कहना है कि कन्नूर निवासी धीरज राजेंद्रन (21) और दो अन्य पर दोपहर करीब एक बजे हमला किया गया। पुलिस ने पीटीआई को बताया कि कॉलेज में पिछले कुछ दिनों से चुनाव को लेकर काम चल रहा है
कॉलेज में चुनावी माहौल, कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने की SFI के धीरज की हत्या, केरल के इडुक्की इंजीनियरिंग कॉलेज की घटना

धीरज

Source: Facebook

डेस्क न्यूज. इडुक्की इंजीनियरिंग कॉलेज में सोमवार को यूथ कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने स्टूडेंट्स फेडरेशन ऑफ इंडिया (एसएफआई) के एक कार्यकर्ता की चाकू मारकर हत्या कर दी। पुलिस का कहना है कि कन्नूर निवासी धीरज राजेंद्रन (21) और दो अन्य पर दोपहर करीब एक बजे हमला किया गया। पुलिस ने पीटीआई को बताया कि कॉलेज में पिछले कुछ दिनों से चुनाव को लेकर काम चल रहा है। दो छात्र संगठनों के बीच मामूली बात को लेकर विवाद हुआ

एक मजदूर की हालत गंभीर

हमले में घायल हुए अन्य दो छात्र अभिजीत और अमल हैं। पुलिस ने बताया कि एक की हालत गंभीर है। पुलिस ने प्रारंभिक जांच के अनुसार युवा कांग्रेस के जिला नेता निखिल पैल्ली बाहर से एक गिरोह के साथ कॉलेज पहुंचे और धीरज व अन्य छात्रों को चाकू मारकर परिसर से फरार हो गए। बाद में उसे हिरासत में ले लिया गया। मुख्यमंत्री पिनाराई विजयन ने छात्र की मौत पर शोक व्यक्त किया और कहा कि परिसरों में हिंसा पैदा करने के प्रयासों को स्वीकार नहीं किया जा सकता है।

एसएफआई कार्यकर्ता धीरज राजेंद्रन की हत्या अत्यंत दुखद और अत्यंत निंदनीय- ख्यमंत्री पिनाराई विजयन

सीएम विजयन ने कहा, इडुक्की पेनावु गवर्नमेंट इंजीनियरिंग कॉलेज के छात्र और एक एसएफआई कार्यकर्ता धीरज राजेंद्रन की हत्या अत्यंत दुखद और अत्यंत निंदनीय है। किसी भी सूरत में कॉलेज परिसरों में हिंसा फैलाने का प्रयास नहीं होने दिया जाएगा। पुलिस को जल्द से जल्द न्याय के लिए धीरज के हत्यारों को पकड़ने के लिए कहा गया है। उच्च शिक्षा मंत्री आर बिंदू ने कहा कि एक युवा कांग्रेस नेता के नेतृत्व में एक गिरोह ने कॉलेज में प्रवेश किया और छात्रों पर हमला किया।

परिसरों में इस तरह की हिंसक हरकतों की पुनरावृत्ति न हो- सरकार

एक छात्र की हालत गंभीर बनी हुई है। सरकार इस हत्या में शामिल लोगों को सजा दिलाने के लिए सभी आवश्यक कदम उठाने की बात कह रही है। साथ ही सरकार का कहना है कि हम सुनिश्चित करेंगे कि परिसरों में इस तरह की हिंसक हरकतों की पुनरावृत्ति न हो। विचारधारा की लड़ाई हथियारों से नहीं विचारों से होनी चाहिए।

Related Stories

No stories found.
Since independence
hindi.sinceindependence.com