पहले बिना हथियारों के भारतीय सीमा में घुसा आतंकी समूह , फिर पाकिस्तान ने ड्रोन से भेजे हथियार

आतंकियों का यह समूह बिना हथियारों के सीमा पार से घुसा था और ड्रोन के जरिए उन तक हथियार पहुंचाए गए हैं। सूत्रों का कहना है कि मई-जून में थन्ना मंडी इलाके में सुरक्षाबलों ने ड्रोन से भेजे गए हथियार बरामद किए, लेकिन कोई आतंकी पकड़ा नहीं गया
पहले बिना हथियारों के भारतीय सीमा में घुसा आतंकी समूह , फिर पाकिस्तान ने ड्रोन से भेजे हथियार

जिले के चामरेड और भटाधुलियन के जंगलों में आतंकी जिन हथियारों का इस्तेमाल कर रहे हैं, उन्हें सीमा पार से ड्रोन की मदद से आतंकियों तक पहुंचाया गया है। स्थिति साफ है, इस साजिश के पीछे पाकिस्तान आतंकियों का मास्टर है।

दो महीने से है सक्रिय इलाके में आतंकी गुट

सूत्रों के मुताबिक इस इलाके में पिछले दो महीने से आतंकियों का यह गुट सक्रिय है। सबसे पहले इन आतंकियों ने पुंछ के चामरेड जंगल में सेना की टीम पर हमला किया, जिसमें जेसीओ समेत पांच जवान शहीद हो गए। इस घटना के ठीक चार दिन बाद आतंकी चामरेड जंगल को छोड़कर भटधूलिया के जंगल में पहुंच गए। यहां आतंकियों की सेना के जवानों से भीषण मुठभेड़ हुई, जिसमें जेसीओ समेत चार जवानों की जान चली गई. तब से सेना ने इस दल को भटाधुलियन के जंगल में घेर लिया है।

ड्रोन के जरिये मिले हथियार

सूत्रों के मुताबिक, आतंकियों का यह समूह बिना हथियारों के सीमा पार से घुसा था और ड्रोन के जरिए उन तक हथियार पहुंचाए गए हैं। सूत्रों का कहना है कि मई-जून में थन्ना मंडी इलाके में सुरक्षाबलों ने ड्रोन से भेजे गए हथियार बरामद किए, लेकिन कोई आतंकी पकड़ा नहीं गया | इसके बाद ड्रोन की हरकत फिर से भारतीय क्षेत्र में देखने को मिली।

ड्रोन के जरिए भारतीय क्षेत्र में हथियार पहुंचाए गए और आतंकियों के मददगार इन हथियारों को आतंकियों तक ले गए। इसके बाद आतंकी इलाके में पूरी तरह सक्रिय हो गए और अपनी गतिविधियों को अंजाम देने लगे। पिछले दो महीने में सुरक्षाबलों ने चार आतंकियों को भी ढेर किया है। इसके बाद यह समूह कुछ दिनों के लिए शांत हो गया और अब यह एक बार फिर सक्रिय हो गया है। हालांकि, अब यह समूह पूरी तरह से सेना की घेराबंदी में है और इसके बचने की उम्मीद कम ही है।

१० अक्टूबर से ऑफ है फोन

सूत्रों के मुताबिक आठ दिन पहले यानी 10 अक्टूबर को आतंकियों ने अपने एक साथी से मोबाइल फोन में सिम डालकर बात की थी। उसके बाद वह नंबर निकल रहा है। दरअसल, चमरेड जंगल के पास रहने वाले एक शख्स के मोबाइल में आतंकियों ने अपना सिम डाला था। सुरक्षा एजेंसियां ​​शख्स से पूछताछ में जुटी हैं।

Related Stories

No stories found.
Since independence
hindi.sinceindependence.com