जयपुर में युवती को ठग ने घर बैठे पैसे कमाने का दिया झांसा, Upi से पेमेंट करा 4 लाख से ज्यादा ठगे

जब पीड़िता ने उस अकाउंट में से राशि को विड्रॉ और ट्रांसफर करने का प्रयास किया तो वह नहीं हो सका। वह जब भी इस साइड को ओपन करती हर बार उस लिंक से एक नई साइड ओपन हो जाती
परिवादी से 26 जुलाई तक 4 लाख 2 हजार रुपए की राशि onilne हड़प ली
परिवादी से 26 जुलाई तक 4 लाख 2 हजार रुपए की राशि onilne हड़प ली

राजधानी जयपुर में cyber ठगी का मामला सामने आया है। ऑनलाइन घर बैठे पैसे कमाने के झांसे में आकर युवती से ठगों ने 4 लाख से अधिक की ठगी की है।

ठग ने झांसा देकर उससे 4 लाख रुपए से अधिक राशि हड़प ली। आरोपियों ने सबसे पहले पीड़िता को एक वेबसाइट पर रजिस्टर करवाया और फिर अलग-अलग बारी में उससे 4 लाख रुपए से अधिक की राशि हड़प ली। ठगो ने युवती से कई - अलग अलग UPI के द्वारा पेमेंट करवाया। ठगी का एहसास होने के बाद पीड़िता ने पुलिस कमिश्नर के पास जाकर कार्रवाई की गुहार लगाई। जयपुर कमिशनर आनंद श्रीवास्तव के निर्देश पर बजाज नगर थाने में बुधवार रात ठगी का मुकदमा दर्ज किया गया। फिलहाल पुलिस Transaction डिटेल और मोबाइल नंबर के आधार पर प्रकरण की जांच कर रही है।

मुख्यमंत्री से लेकर DGP तक के साथ ऑनलाइन ठगी करने का प्रयास किया जा रहा है।
मुख्यमंत्री से लेकर DGP तक के साथ ऑनलाइन ठगी करने का प्रयास किया जा रहा है।
राजस्थान में ठगों का बोलबाला ! चपेट में आए मंत्री-मुख्यमंत्री से लेकर पुलिस अधिकारी की वॉट्सएप पर फोटो लगाकर मांगे जा रहे महंगे गिफ्ट और पैसे गौरतलब है की जयपुर में cyber ठगी के मामले आम नागरिक के साथ ही नहीं बल्कि राजस्थान के मुख्यमंत्री से लेकर DGP तक के साथ ऑनलाइन ठगी करने का प्रयास किया जा रहा है।

वही मामले में जांच अधिकारी मूलचंद मीणा ने दी जानकारी

मीणा ने बताया की ठगों ने 10 जुलाई को परिवादी को मैसेज भेज कर घर बैठे ऑनलाइन काम कर प्रतिदिन 5 हजार रुपए कमाने का झांसा दिया था। इसके बाद ठगों ने एक वेबसाइट पर रजिस्टर कर उसका अकाउंट बनवाया और उस अकाउंट पर दिए गए कुछ टास्कों को पूरा करने की बात कही। शुरू में परिवादी के खाते में दो-तीन बार पेमेंट भी किया गया। जिस पर परिवादी को यह विश्वास हो गया कि वह प्रतिदिन 5 हजार रुपए तक कमा सकती है। ठग युवती को लगातार पेमेंट करने के लिए force करते रहे।

पीड़िता ने ठगों की ओर से दिए गए टास्क पूरे किए ठगों की ओर से बनाई गई वेबसाइट के अकाउंट में लाखों रुपए की राशि जमा होना बताया गया। इस पर जब परिवादी ने उस अकाउंट में से राशि को विड्रॉ और ट्रांसफर करने का प्रयास किया तो वह नहीं हो सका। वह जब भी इस साइड को ओपन करती हर बार उस लिंक से एक नई साइड ओपन हो जाती। वही परिवादी ने जब उसका ऑनलाइन अकाउंट बनाने वाले लोगों से संपर्क किया तो उन्होंने उक्त राशि पर लगने वाला टैक्स और अन्य चार्ज बताकर अलग-अलग बारी में परिवादी से 26 जुलाई तक 4 लाख 2 हजार रुपए की राशि onilne हड़प ली। इसके बाद भी ठग परिवादी से और राशि की मांग करने लगे। पीड़िता को ठगी का जैसे ही एहसास हुआ फ़ौरन पुलिस स्टेशन में रिपोर्ट दर्ज कराई। फ़िलहाल पुलिस मामले में अनुसंधान कर रही है।

Related Stories

No stories found.
Since independence
hindi.sinceindependence.com