कन्हैयालाल हत्याकांड के विरोध में जयपुर बंद,1 हजार जवान तैनात

कन्हैयालाल की हत्या के खिलाफ जयपुर में हिन्दू संगठनों की बैठक में RSS, विश्व हिन्दू परिषद, बजरंग दल समेत कई सामाजिक और धार्मिक संगठनों के पधाधिकारियों के साथ BJP के प्रदेश अध्यक्ष सतीश पूनिया भी मौजूद रहे थे
1 हजार जवानों का पुलिस जाब्ता तैनात किया गया
1 हजार जवानों का पुलिस जाब्ता तैनात किया गया

राजस्थान के उदयपुर में कन्हैयालाल टेलर की हत्या के विरोध में गुरुवार को जयपुर बंद रखा गया है। इससे पहले हिंदू संगठनों की बैठक बुलाई गई, इसमें बंद को लेकर सहमति बनी। इसी के चलते गुरुवार को आवश्यक सेवाओं को छोड़कर शहर के सभी बाजार और दुकानों को बंद रखने का निर्णय लिया गया है।

एडिशनल डीसीपी नॉर्थ धर्मेंद्र सागर ने बताया कि जयपुर बंद को लेकर व्यापारियों से बातचीत की है। सभी ने बंद बुलाया है। एहतियात के तौर पर करीब 1 हजार जवानों का पुलिस जाब्ता तैनात किया गया है। इधर, बंद के दौरान जयपुर शहर में सभी दुकानें बंद रही।

अब राजधानी जयपुर में 3 जुलाई को हिंदू संगठनों द्वारा जयपुर में बड़ा विरोध मार्च निकाला जाएगा। कन्हैयालाल की हत्या के खिलाफ जयपुर में हिन्दू संगठनों की बैठक में RSS, विश्व हिन्दू परिषद, बजरंग दल समेत कई सामाजिक और धार्मिक संगठनों के पधाधिकारियों के साथ BJP के प्रदेश अध्यक्ष सतीश पूनिया भी मौजूद रहे थे। संवेदनशील इलाकों में पुलिस गश्त बढा दी गई है। एडिशनल कमिश्नर अजयपाल लांबा ने बताया कि शहर में सुरक्षा को लेकर पुलिस जाप्ता तैनात किया गया है। है। उपद्रव करने पर पुलिस सख्ती से कार्रवाई करेगी।

चारदीवारी में पसरा सन्नाटा
चारदीवारी में पसरा सन्नाटा

जयपुर में इंटरनेट सेवा को लेकर अपडेट

वही प्रदेश में कानून व्यवस्था बनाए रखने को लेकर लगातार हाई लेवल पर बैठकों का दौर जारी है। जिसके आधार पर प्रदेश में इंटरनेट बंद का समय बढ़ाया गया है। जयपुर संभाग के लिए संभागीय आयुक्त सीतारामजी भाले की ओर से आदेश जारी किए गए है। पहले इंटरनेट बंद का समय बुधवार शाम 5:30 बजे तक का था। जिसे अब बढ़ाकर गुरूवार शाम 5:30 बजे तक कर दिया गया है।

जयपुर संभाग में अलवर, दौसा, सीकर, जयपुर, झुंझुनूं के लिए यह आदेश जारी किए गए है। वहीं, जयपुर बंद के आह्वान को देखते हुए प्रशासन पूरी तरह से अलर्ट मोड पर है। इंटरनेट सेवाओं को आगामी 24 घंटे के लिए इसलिए स्थगित किया गया है ताकि किसी तरीके से सोशल मीडिया पर कोई आपत्तिजनक पोस्ट न कर सके। जिससे सांप्रदायिक तनाव उत्पन्न न हो। इसलिए कानून व्यवस्था को बनाए रखने के लिए इंटरनेट बंद कर दिया गया है।

Since independence
hindi.sinceindependence.com