JAIPUR CRIME: जयपुर की मेडिकल छात्रा 5 माह से लापता, पुलिस के हाथ अब तक खाली‚ पिता को तस्करी का शक

जयपुर के मुहाना थाना क्षेत्र में एक मेडिकल छात्रा के पिता ने कुछ लोगों पर अपनी 21 वर्षिय बेटी के लापता होने के बाद उसे मानव तस्करी में धकेले जाने और हत्या करने का आरोप लगाया है।
JAIPUR CRIME: जयपुर की  मेडिकल छात्रा 5 माह से लापता, पुलिस के हाथ अब तक खाली‚ पिता को तस्करी का शक

image source - india.com

जयपुर. राज्य में महिलाओं के खिलाफ अपराधों की संख्या बढ़ती जा रही है। ऐसे में जयपुर के मुहाना थाना क्षेत्र में एक मेडिकल छात्रा के पिता ने कुछ लोगों पर अपनी 21 वर्षिय बेटी के लापता होने के बाद उसे मानव तस्करी में धकेले जाने और हत्या करने का आरोप लगाया है। छात्रा का अपहरण पिछले साल अक्टूबर में हुआ था। पिता ने आरोपियों के खिलाफ मुहाना थाने में FIR दर्ज करवाई है।

पिता ने आरोपियों पर लगाया बेटी को अनैतिक कार्यों में धकेलने का आरोप
लापता छात्रा के पिता ने मुहाना थाने में FIR दर्ज करवाई। उन्होंने पुलिस को बताया कि अपनी बेटी को एमबीबीएस की पढ़ाई के लिए उन्होंने लोन लिया और जयपुर के बाहरी इलाके में स्थित एक निजी मेडिकल यूनिवर्सिटी में उसे एडमिशन दिलाया। कॉलेज के सैकेण्ड ईयर में उनकी बच्ची के साथ जय वर्मा और उसके सहयोगियों ने छेड़छाड की और उसे लग्जरी लाइफ का लालच दिया। पिता ने आरोपी पर शक जताया है कि उसने उनकी बेटी को लापता कर अनैतिक धंधे में धकेल दिया, और वह जिंदा है या मर गई इसका कोई सुराग नहीं है।
आरोपी की तलाश में जुटी पुलिस- लखन सिंह खटाना‚ मुहाना SHO
मेडिकल छात्रा के पिता ने मुहाना में FIR दर्ज करवाई । मुहाना के एसएचओ ‘लखन सिंह खटाना’ का कहना है कि पुलिस ने FIR दर्ज कर ली है। पुलिस मुख्य आरोपी जय वर्मा को पकड़ने का प्रयास कर रही है। उन्होंने बताया कि आरोपी हिस्ट्रीशीटर अपराधी है। जिसके कई संदिग्ध नामों से पहचान की गई है। मुहाना एसएचओ का कहना है कि आरोपी जय वर्मा पर पहले भी कई छात्राओं ने विश्वविद्यालय परिसर में लड़कियों को परेशान करने के आरोप लगाए है। आरोपी कथित तौर पर जय वर्मा, जय शर्मा और यहां तक कि जय यादव जैसे अलग-अलग नामों का इस्तेमाल कर रहा था।
इन धाराओं के तहत दर्ज की गई FIR
आरोपी जय वर्मा पर धारा 354 (महिला का शील भंग करने के इरादे से हमला या आपराधिक बल), 465 (जालसाजी), 365 (अपहरण), 370 (किसी भी व्यक्ति को गुलाम के रूप में खरीदना या निपटाना), 420 (धोखाधड़ी) के तहत दर्ज की गई थी। और आईपीसी की 120बी (आपराधिक साजिश) के तहत FIR दर्ज की गई है।
पहले भी हुआ था छात्रा का अपहरण
छात्रा के पिता ने बताया कि उनकी बेटी पहली बार 2020 में लापता हुई थी। तब उन्होंने एक अलग पुलिस स्टेशन में गुमशुदगी की रिपोर्ट (MPR) भी दर्ज कराई थी। उस समय उनकी बेटी को ढूंढ लिया गया था। बेटी के लापता होने से पिता सहित पूरा परिवार डिप्रेशन में है।
JAIPUR CRIME: जयपुर की  मेडिकल छात्रा 5 माह से लापता, पुलिस के हाथ अब तक खाली‚ पिता को तस्करी का शक
राज्यभर में मनाया जा रहा शीतलाष्टमी का त्यौहार, मंदिरों में पूजा के लिए उमड़ा सैलाब, माता को लगाया ठंडे पकवानों का भोग
Since independence
hindi.sinceindependence.com