पालतू कुत्ते को हुई स्किन डिजीज, क्रूर मालिक ने काली प्लास्टिक में लपेट कर सड़क पर फेंका

कुत्ते को इंसान का सबसे अच्छा दोस्त माना जाता है। कुत्ते सबसे वफादार होते हैं। वे न केवल मालिक के घर की रखवाली करते हैं बल्कि उनके साथ खेलकर अपने मन का मनोरंजन भी करते हैं। कुत्तों और इंसानों के बीच संबंधों पर हुए कई शोधों में यह पाया गया है कि कुत्ते के साथ रहने वाला व्यक्ति बहुत खुश होता है।
पालतू कुत्ते को हुई स्किन डिजीज, क्रूर मालिक ने काली प्लास्टिक में लपेट कर सड़क पर फेंका

कुत्ते को इंसान का सबसे अच्छा दोस्त माना जाता है। कुत्ते सबसे वफादार होते हैं। वे न केवल मालिक के घर की रखवाली करते हैं बल्कि उनके साथ खेलकर अपने मन का मनोरंजन भी करते हैं। कुत्तों और इंसानों के बीच संबंधों पर हुए कई शोधों में यह पाया गया है कि कुत्ते के साथ रहने वाला व्यक्ति बहुत खुश होता है। साथ ही कई बीमारियों के होने की संभावना भी कम हो जाती है। लेकिन दुनिया में जहां कुत्ते प्रेमी हैं वहीं कुत्तों के साथ बदसलूकी के मामले भी कम नहीं हैं।

मालिक ने सड़क पर फेंक दिया अपना पिल्ला

हाल ही में ब्रिटेन के साउथ वेल्स के रोंडा से एक चौंकाने वाली खबर सामने आई है। यहां सड़क पर एक शख्स ने अपने 12 से 13 सप्ताह के पिल्ले को चलती कार से सड़क पर फेंक दिया। यह प्लास्टिक की थैली सड़क से गुजर रहे एक व्यक्ति की नजर में आ गई। जब उसने बैग खोला तो उसमें एक छोटा सा पिल्ला देखा। वह तुरंत पिल्ले को डॉक्टरों के पास ले गया, जहां पता चला कि उसे चर्म रोग है, जिसके इलाज में काफी पैसा खर्च होता है। इसलिए उसके मालिक ने उसे सड़क पर फेंक दिया।

कुत्ते को था चर्म रोग

वेल्स ऑनलाइन की खबर के अनुसार, कुत्ते को क्रोनिक स्किन कंडीशन है, जिसका इलाज करना बहुत महंगा है। पपी को फिलहाल फ्रेंड्स ऑफ एनिमल्स नाम के रेस्क्यू सेंटर में रखा गया है। इसके फाउंडर और रेस्क्यू को-ऑर्डिनेटर एलीन जोन्स ने बताया कि अब पप्पी की हालत बेहतर है और वह ठीक हो रहा है। एलिन ने कहा कि यह जानकर उनका दिल टूट जाता है कि कुछ लोग जानवरों को केवल शौक के लिए रखते हैं। बेजुबान बीमार हो जाते हैं तो ऐसे ही सड़क पर फेंक देते हैं।

जब पपी को बचाव केंद्र लाया गया, तो वह सदमे में था। उसका किसी से मेलजोल नहीं होता था। उसकी हालत को देखते हुए दवा दी गई। पिल्ले की हालत फिलहाल बेहतर है। उसने टीम के सदस्यों के साथ घुलना-मिलना शुरू कर दिया है। जल्द ही उसे गोद लेने के लिए भी ले जाया जाएगा लेकिन तभी तब जब वह पूरी तरह से स्वस्थ हो जाएगा। इस रेस्क्यू फाउंडेशन ने ऐसे कई कुत्तों को नया जीवन दिया है। अब यह संस्था फंड रेज पेज के जरिए डोनेशन जमा कर इन बेजुबानों की मदद करती है।

Related Stories

No stories found.
Since independence
hindi.sinceindependence.com