पुलिस कांस्टेबल की ढाई साल की बच्ची को पड़ोसी महिला ने जिंदा दफनाया, पुलिस ने किया मामले का खुलासा

पुलिस कांस्टेबल की ढाई साल की बच्ची को पड़ोसी महिला ने जिंदा दफनाया, पुलिस ने किया मामले का खुलासा

लुधियाना के शिमलापुरी इलाके में रविवार दोपहर एक दिल दहला देने वाली घटना सामने आई. पंजाब पुलिस के सिपाही की ढाई साल की बच्ची को एक महिला ने उसके घर के बाहर से अगवा कर जिंदा जमीन में गाड़ दिया। घटना का पता तब चला जब लड़की के परिजन उसकी तलाश में निकले लेकिन लड़की का कहीं पता नहीं चला। जब आसपास के सीसीटीवी कैमरों की जांच की गई, तो पता चला कि लड़की को उसकी पड़ोसी महिला ले गयी थी।

महिला ने बताया कि वह सलेम टाबरी इलाके में बच्ची को दफना आई

महिला से पूछा तो उसने कोई सही जवाब नहीं दिया। इसके बाद लड़की के परिजनों ने पुलिस को सूचना दी। सूचना मिलते ही शिमलापुरी थाने की पुलिस मौके पर पहुंची और महिला से सख्ती से पूछताछ की गई. यह सुनकर सभी दंग रह गए कि महिला ने बताया कि वह सलेम टाबरी इलाके में बच्ची को दफना आई। आरक्षक हरप्रीत सिंह की शिकायत पर पुलिस ने आरोपी नीलम को अपहरण व हत्या समेत अन्य धाराओं में मामला दर्ज कर गिरफ्तार कर लिया है.

हरप्रीत सिंह पंजाब पुलिस में कांस्टेबल के पद पर कार्यरत हैं और वर्तमान में थर्ड आईआरबी में तैनात हैं। उनका पांच साल का एक बेटा और ढाई साल की एक बेटी दिलरोज है। रविवार दोपहर दिल रोज अपने घर के बाहर खेल रही थी कि अचानक गायब हो गयी। परिजनों ने कई जगह बच्ची की तलाश की, लेकिन वह नहीं मिली, इसलिए सीसीटीवी कैमरे खंगाले। पता चला है कि दिल रोज को उसकी पड़ोसी नीलम अपने साथ स्कूटी से ले गयी है। उसने जाकर नीलम से पूछा तो उसने सही जवाब नहीं दिया, जिस पर परिवार को शक हुआ।

बच्ची को तुरंत डीएमसी अस्पताल ले जाया गया, जहां उसकी मौत हो गई

थाना शिमलापुरी ने सीसीटीवी कैमरों को चेक किया और पूछताछ के बाद नीलम ने बताया कि वह लड़की को स्कूटी पर लेकर सीधे सलेम टाबरी पहुंची थी, जहां उसने बच्ची को जिंदा एक खेत में दफना दिया. यह सुनते ही पुलिस की टीम नीलम को कार में बिठाकर फौरन वहां पहुंच गई. पीसीआर कर्मियों की मदद से खुदाई की गई और बच्ची को तुरंत डीएमसी अस्पताल ले जाया गया, जहां उसकी मौत हो गई.

पुलिस पूछताछ में पता चला कि नीलम का उसके पति से तलाक हो चुका था और वह कई सालों से अपने दो बेटों के साथ अपनी मां के घर में रह रही थी। वह अक्सर अपने आसपास रहने वाले लोगों से किसी न किसी बात को लेकर झगड़ती रहती थी।

हरप्रीत और नीलम के बच्चों के बीच झगड़ा हुआ था

पुलिस का कहना है कि अगर बच्चों के बीच किसी बात को लेकर झगड़ा हो जाता था तो नीलम सभी से झगड़ा शुरू कर देती थी कि उसके बच्चों को ही निशाना बनाया जाता है। काफी समय पहले हरप्रीत और नीलम के बच्चों के बीच झगड़ा हुआ था। उसके बाद हरप्रीत के परिवार और नीलम के बीच काफी नोकझोंक हुई, लेकिन लोगों के बीच बचाव होने से मामला शांत हो गया। नीलम उसी बात की दुश्मनी अपने मन में बैठा रखी थी। वह एक मौके की तलाश में थी कि हरप्रीत के परिवार को कैसे नुकसान पहुंचाया जा सके।

क्षेत्र के लोगों का कहना है कि नीलम जिस तरह से छोटी-छोटी बातों पर सभी से बहस करने लगती थी और बच्चों की लड़ाई को अपनी लड़ाई बना लेती थी, उससे लग रहा था कि उसकी मानसिक स्थिति ठीक नहीं है. उसका कई बार इलाके के लोगों से झगड़ा हो चुका था और हर बार यही बात होती थी लोग उसके बच्चों को निशाना बनाते हैं.

वहीं लोगों का कहना है कि बच्चों के मामले में क्षेत्र का एक भी व्यक्ति किसी बच्चे को निशाना नहीं बनाकर मामले को खत्म करने की बात करता था. ज्वाइंट पुलिस कमिश्नर जे एलनचेजियन ने बताया कि आरोपी महिला को गिरफ्तार कर लिया गया है. बच्ची के शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया है, आरोपी महिला से पूछताछ की जा रही है.

Related Stories

No stories found.