REET: अपनी नौकरी दांव पर लगाकर सरकारी शिक्षक बुआ के बेटे को पास कराने के लिये खुद परीक्षा में बैठा, भाई से वसूले 7 लाख, ऐसे आया पकड़ में

रीट परीक्षा के पूरा होने के बाद इसमें नकल करने के तरीके और कहानियां सामने आ रही हैं। कहीं स्लिपर में डिवाइस लगाकर नकल करने की कोशिश की गई तो कहीं ब्लूटूथ का सहारा लिया गया. पकड़े गए डमी अभ्यर्थियों व गिरोह के सदस्यों की साजिश को सुनने के बाद पुलिस भी असमंजस में है। ऐसा ही एक शातिर डमी प्रत्याशी कोटा में पकड़ा गया। यह डमी उम्मीदवार खुद सरकारी शिक्षक है। लेकिन लाखों रुपये के चक्कर में आकर उन्होंने ऐसा कदम उठाया कि अब खुद की नौकरी पर बन आई है. उसने अपनी बुआ के बेटे को पास कराने के लिए सात लाख का सौदा किया था लेकिन सफल नहीं हुआ।
REET: अपनी नौकरी दांव पर लगाकर सरकारी शिक्षक बुआ के बेटे को पास कराने के लिये खुद परीक्षा में बैठा, भाई से वसूले 7 लाख, ऐसे आया पकड़ में

रीट परीक्षा के पूरा होने के बाद इसमें नकल करने के तरीके और कहानियां सामने आ रही हैं। कहीं स्लिपर में डिवाइस लगाकर नकल करने की कोशिश की गई तो कहीं ब्लूटूथ का सहारा लिया गया. पकड़े गए डमी अभ्यर्थियों व गिरोह के सदस्यों की साजिश को सुनने के बाद पुलिस भी असमंजस में है। ऐसा ही एक शातिर डमी प्रत्याशी कोटा में पकड़ा गया। यह डमी उम्मीदवार खुद सरकारी शिक्षक है। लेकिन लाखों रुपये के चक्कर में आकर उन्होंने ऐसा कदम उठाया कि अब खुद की नौकरी पर बन आई है. उसने अपनी बुआ के बेटे को पास कराने के लिए सात लाख का सौदा किया था लेकिन सफल नहीं हुआ।

अपनी बुआ के बेटे को पास कराने के लिए सात लाख का सौदा किया था

कोटा ग्रामीण पुलिस अधीक्षक शरद चौधरी ने बताया कि पकड़ा गया डमी प्रत्याशी सुरेश कुमार विश्नोई सरकारी शिक्षक है. एसओजी से मिली जानकारी के आधार पर उसे कैथून थाना क्षेत्र के एक सेंटर में पकड़ा गया। वह अपनी बुआ के बेटे की जगह परीक्षा दे रहा था। इसके लिए उसने अपनी बुआ के बेटे से 7 लाख रुपये लिए थे। आधार कार्ड में सुरेश विश्नोई ने मूल उम्मीदवार की फोटो भी चिपका दी थी। इससे पुलिस भी एक बार चकमा खा गई। लेकिन जब आरोपी सुरेश और असली उम्मीदवार के पैन कार्ड की डिटेल का मिलान किया गया तो पूरी पोल खुल गयी. उसके बाद पुलिस ने आरोपी सुरेश विश्नोई को गिरफ्तार कर लिया। मूल प्रत्याशी की गिरफ्तारी के लिए टीमें भेजी गई हैं।

सुरेश 2018 में सरकारी शिक्षक बना था

गिरफ्तार आरोपी सुरेश परिवार में इकलौता कमाने वाला है। उसके परिवार में माता-पिता, 4 बहनें, पत्नी और दो बेटे हैं। पढ़ाई में अच्छा होने के कारण सुरेश विश्नोई ने वर्ष 2018 की रीट परीक्षा पास की और तीसरी कक्षा का सरकारी शिक्षक बना। वह वर्तमान में जालोर जिले के सांचौर क्षेत्र स्थित प्राथमिक विद्यालय अरन्या में पदस्थापित हैं।

अलग-अलग नाम बताकर गुमराह करता रहा

पुलिस की गिरफ्त में आने के बाद आरोपी सुरेश पुलिस को गुमराह करता रहा। उसने सबसे पहले अपना नाम बाड़मेर जिले के भंवर थाना सेधवा निवासी हनुमानराम बताया. साइबर टीम ने जब संबंधित थाने से जानकारी जुटाई तो उसका झूठ पकड़ा गया. बाद में उसने अपना नाम हरीश विश्नोई निवासी रतनपुरा, थाना चीतलवाना, जिला जालोर बताया. पुलिस ने दोबारा संबंधित थाने से उसकी जानकारी जुटाई तो वह भी गलत निकली। तीसरी बार पूछताछ में आरोपी ने अपना नाम प्रकाश राम बताया। आखिरकार लंबी पूछताछ के बाद आरोपी ने अपना असली नाम बता दिया।

आईडी द्वारा पकड़ा गया

सुरेश बहुत स्मार्ट और चालक टाइप का है। पूछताछ के दौरान वह पुलिस को अलग-अलग नाम बताता रहा। साइबर टीम उसे दिए गए नामों की पड़ताल करती रही। इस दौरान उसके वोटर आईडी, आधार कार्ड, पैन कार्ड और सोशल मीडिया अकाउंट की डिटेल्स भी मैच की, तब वह पुलिस के काबू में आया. पुलिस को संदेह है कि सुरेश पहले भी डमी उम्मीदवार बनकर अन्य परीक्षाओं में शामिल हो चुका है। इस संबंध में उससे और पूछताछ की जा रही है।

Related Stories

No stories found.
Since independence
hindi.sinceindependence.com