सनकी प्रेमी ने एकतरफा प्यार में महिला की कुल्हाड़ी से काटकर हत्या कर दी. मारने के बाद घंटों शव से लिपटा रहा

राजस्थान के जालोर में एक सनकी प्रेमी ने एकतरफा प्यार में एक महिला की हत्या कर दी. उसने महिला की गर्दन पर कुल्हाड़ी से तब तक वार किया जब तक कि उसकी मौत नहीं हो गई। इसके बाद सनकी प्रेमी महिला के शरीर पर घंटों लिपटा रहा। पुलिस के आने के बाद भी उसने शव नहीं छोड़ा, जिसके बाद पुलिस ने उसे जबरन शव से अलग कर युवक को गिरफ्तार कर लिया और महिला के शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया
सनकी प्रेमी ने एकतरफा प्यार में महिला की कुल्हाड़ी से काटकर हत्या कर दी. मारने के बाद घंटों शव से लिपटा रहा

राजस्थान के जालोर में एक सनकी प्रेमी ने एकतरफा प्यार में एक महिला की हत्या कर दी. उसने महिला की गर्दन पर कुल्हाड़ी से तब तक वार किया जब तक कि उसकी मौत नहीं हो गई। इसके बाद सनकी प्रेमी महिला के शरीर पर घंटों लिपटा रहा। पुलिस के आने के बाद भी उसने शव नहीं छोड़ा, जिसके बाद पुलिस ने उसे जबरन शव से अलग कर युवक को गिरफ्तार कर लिया और महिला के शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया.

बोला-आज तुझे जान से मार ही दूंगा

घटना अहोर इलाके की बताई जा रही है. पुलिस के मुताबिक गांव के गणेश का पुत्र थानाराम मीणा मनरेगा में काम करने वाली शांतिदेवी से एकतरफा प्यार करता था. वह कई बार महिला का पीछा कर उसे प्रताड़ित भी कर चुका था। घटना के दिन शांतिदेवी मनरेगा में काम कर रही थी। इस दौरान गणेश आया और अपने प्यार का इजहार किया। महिला के मना करने पर उसने आपा खो दिया और कई बार कुल्हाड़ी से हमला कर दिया। इस दौरान वह बार-बार चिल्लाता रहा कि आज मैं तुम्हें मार डालूंगा। जब महिला की गर्दन, हाथ, कंधे पर कई वार करने से महिला की मौत हुई, तो गणेश उसके शरीर से चिपक गया।

महिला की हो चुकी है शादी

मृतक शांतिदेवी की शादी गांव के ही शांतिलाल चौधरी से हुई थी। शांतिलाल काम के सिलसिले में महाराष्ट्र में रहता हैं। महिला ससुराल में रह रही थी। बताया जा रहा है कि महिला ने कई बार अपने पति को गणेश के बारे में बताया था। शांतिलाल के मना करने के बाद भी गणेश नहीं माना और महिला को प्रताड़ित करते रहा।

पुलिस ने किया गिरफ्तार 

महिला के शरीर से गणेश को अलग करने के बाद पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर लिया। पुलिस का कहना है कि इस मामले में महिला के साले गोमाराम की ओर से हत्या का मामला दर्ज किया गया।

Related Stories

No stories found.
Since independence
hindi.sinceindependence.com