अफगानिस्तान से भाग US पहुँचा ,रिफ्यूजी कैंप में 3 नाबालिगों का शोषण किया, बीवी का गला घोंट मारने की कोशिश
मोहम्मद हारून इमाद (दाएँ) और बहरुल्लाह नूरी (बाएँ), (साभार: Newyork post)

अफगानिस्तान से भाग US पहुँचा ,रिफ्यूजी कैंप में 3 नाबालिगों का शोषण किया, बीवी का गला घोंट मारने की कोशिश

बहरुल्लाह ने 3 नाबालिगों के साथ जबरन यौन संबंध बनाए। ये अपराध उसने अमरीकी रिफ्यूजी कैंप में ही किया गया। उसने इन यौन हमलों में से एक को सैन्य बैरक में अंजाम दिया जबकि अन्य दो बाथरूम में किए।

अमेरिका में फोर्ट मैक्कॉय में रहने वाले दो अफगान शरणार्थियों पर बीवी के साथ मारपीट और बाल यौन अपराधों सहित कई चौंकाने वाले अपराधों का आरोप लगाया गया है। बता दें कि अफगानिस्तान में तालिबान का शासन आने के बाद से अब तक हजारों लोग देश छोड़ कर भाग चुके हैं और दूसरे देशों में रिफ्यूजी की तरह रह रहे हैं।
इसी क्रम में अमेरिका लाए गए अफगानी रिफ्यूजी को विस्कॉन्सिन में फोर्ट मैक्कॉय में सैन्य बेस पर रखा गया है। जानकारी के मुताबिक इन दोनों आरोपित अफगानी रिफ्यूजी ने यहीं पर इस अपराध को अंजाम दिया है। यह अफगानी रिफ्यूजी जो बायडेन प्रशासन द्वारा अफगानिस्तान से निकाल कर लाए गए लगभग 13000 शरणार्थियों में शामिल हैं।

न्याय विभाग ने जारी एक बयान में कहा –

न्याय विभाग ने जारी एक बयान में कहा कि 20 वर्षीय बहरुल्लाह नूरी तीन नाबालिग के साथ यौन संबंध में शामिल था। इसमें से एक के साथ उसने बल का भी प्रयोग किया। बयान में कहा गया कि पीड़ितों की उम्र 16 वर्ष से भी कम है और आरोपित से वह कम से कम 4 साल छोटा है। नूरी ने तीन अलग-अलग मौकों पर पीड़ितों में से एक के गुप्तांग (genitalia) को छुआ। आरोपित ने इन यौन हमलों में से एक को बैरक में अंजाम दिया जबकि अन्य दो बाथरूम में किए।न्य दो बाथरूम में किए।

बयान में आगे कहा गया कि एक अन्य अफगानिस्तानी शरणार्थी पर बीवी के साथ मारपीट करने का आरोप है। जिसकी पहचान 32 वर्षीय मोहम्मद हारून इमाद के रूप में की गई है। इस पर यह आरोप है कि इसने अपनी बीवी का गला घोंटकर जान से मारने की कोशिश की।

पीड़िता ने जाँचकर्ताओं को बताया कि इमाद ने उसे वापस अफगानिस्तान भेजने की धमकी दी। आरोपित ने पीड़िता को यह भी कहा कि तालिबान उससे अच्छी तरह से निपटेगा और उसे बताया कि फोर्ट मैक्कॉय में आने के बाद से नौ महिलाओं को मार दिया गया है और वह दसवीं होगी।

Related Stories

No stories found.
Since independence
hindi.sinceindependence.com