थाने में ही चोरीः सोते रहे पुलिस वाले, टूट गए मालखाने के ताले, थाने के मालखाने से 25 लाख की चोरी

आगरा के जगदीशपुरा थाने के मालखाने के दरवाजे और बक्सों के ताले तोड़कर 25 लाख रुपये कर ली चोरी कर ली गई, लेकिन पुलिसकर्मी सोते रहे. रविवार सुबह हेड मोहर्रिर के पहुंचने पर तैनात पुलिसकर्मियों को इस बात का पता चला. पुलिस अधिकारियों का कहना है कि चोर ने पहले मालखाने के पिछले गेट के पास की खिड़की खोलने की कोशिश की, लेकिन सफलता नहीं मिली. इसके बाद वह दरवाजे का ताला तोड़कर अंदर घुस गये। बॉक्स का ताला तोड़कर नकदी की चोरी कर ली। इस घटना ने कई सवाल खड़े किए हैं।
थाने में ही चोरीः सोते रहे पुलिस वाले, टूट गए मालखाने के ताले, थाने के मालखाने से 25 लाख की चोरी

आगरा के जगदीशपुरा थाने के मालखाने के दरवाजे और बक्सों के ताले तोड़कर 25 लाख रुपये कर ली चोरी कर ली गई, लेकिन पुलिसकर्मी सोते रहे. रविवार सुबह हेड मोहर्रिर के पहुंचने पर तैनात पुलिसकर्मियों को इस बात का पता चला. पुलिस अधिकारियों का कहना है कि चोर ने पहले मालखाने के पिछले गेट के पास की खिड़की खोलने की कोशिश की, लेकिन सफलता नहीं मिली. इसके बाद वह दरवाजे का ताला तोड़कर अंदर घुस गये। बॉक्स का ताला तोड़कर नकदी की चोरी कर ली। इस घटना ने कई सवाल खड़े किए हैं।

आगरा के जगदीशपुरा थाने के मालखाने के दरवाजे और बक्सों के ताले तोड़कर 25 लाख रुपये कर ली चोरी कर ली गई

थाना जगदीशपुरा में दो गेट हैं। एक गेट बोदला-लोहामंडी रोड पर है। यह गेट बंद रहता है। आसपास दुकानें हैं। सीज वाहन थाना परिसर में गेट के अंदर खड़े रहते हैं। स्टेशन की इमारत 25-30 मीटर अंदर है। यहां गोदाम है। यहाँ एक खिड़की और एक दरवाजा है। दूसरा गेट रोडवेज कॉलोनी के रास्ते में है। यहीं पर पुलिसकर्मियों और लोगों की एंट्री होती है। मेन गेट से एंट्री करने पर ऑफिस के गेट पर सीसीटीवी कैमरा लगा होता है।

मालखाने में घुसे चोर ने पिछले गेट की खिड़की और दरवाजे के ताले तोड़ दिए

मालखाने के पास ही ऑफिस है, जबकि सामने लॉकअप बना हुआ है। हवालात के बाहर जाली लगे स्थान पर तीन अभियुक्तों को रखा गया था। मालखाने में घुसे चोर ने पिछले गेट की खिड़की और दरवाजे के ताले तोड़ दिए। इसके बाद बॉक्स का ताला तोड़ा गया। इस दौरान जरूर कोई आवाज आई होगी। लेकिन कोई पुलिसकर्मी आवाज नहीं सुन सका। आशंका जताई जा रही है कि थाना परिसर में तैनात पुलिसकर्मी सो रहे होंगे।

आशंका जताई जा रही है कि चोर जानकार है

चोर पिछले गेट से मॉल में आया था। इस गेट से बोड़ला रोड की ओर जा सकते हैं। झाड़ियाँ भी हैं। इसके अलावा उसने वह बॉक्स खोला जिसमें नकदी रखी थी। मालखाने में कीमती जेवरात के साथ हथियार, कारतूस और दस्तावेज रखे जाते हैं। चोर ने उन्हें छुआ तक नहीं। आशंका जताई जा रही है कि चोर जानकार है। उसने पहले ही रेकी कर ली होगी। वह यह भी जानता था कि रेलवे ठेकेदार के घर में चोरी का पर्दाफाश हो गया है। यहां 24-25 लाख रुपये नकद रखे हैं।

कर्मचारी की मिलीभगत तो नहीं

मालखाने में क्या रखा है ये तो पुलिस वाले ही जानते हैं. इसके अलावा मालखाने में कोई और आ-जा नहीं सकता। जो लोग अपना सामान छुड़ाने आते हैं वे भी आते हैं। यह भी आशंका जताई जा रही है कि चोरी में किसी कर्मचारी का हाथ भी हो सकता है। एसएसपी मुनिराज जी. का कहना है कि जांच जारी है. यदि कोई कर्मचारी शामिल है तो कार्रवाई की जाएगी।

ये सवाल उठते हैं

-बोड़ला रोड पर थाने के गेट के आसपास दुकानें हैं. अंदर पुराने वाहन खड़े हैं। यह तीन फुट की दीवार है। यहां से कोई भी आसानी से अंदर जा सकता है। सुरक्षा के इंतजाम क्यों नहीं किए गए?

-थाना परिसर में सीसीटीवी कैमरे लगाए गए हैं। हालांकि, मालखाना में कोई सीसीटीवी नहीं है। थाने के मालखाने में सीसीटीवी कैमरे लगे होने चाहिए। क्या थाना परिसर के कैमरे चल रहे थे तो रात में कौन थाना परिसर में आया।

-चोरी करने वाला थाने में आने वाला ही हो सकता है, क्योंकि गोदाम में कैश आने की बात जानकार ही जान सकता हैं. अक्सर थाने में कौन आता है?

-घटना के वक्त पुलिसकर्मी क्या कर रहे थे, थाना कार्यालय में ड्यूटी पर पुलिसकर्मियों के अलावा एक गार्ड भी गेट पर तैनात किया जाता है। वो लोग कहां पर थे।

Related Stories

No stories found.
Since independence
hindi.sinceindependence.com