आठ लाख भारतीयों को छोड़ना पड़ेगा कुवैत, सरकार ला रही है नया कानून

प्रधानमंत्री शेख सबा अल खालिद अल सबा ने प्रवासियों की संख्या को 70 प्रतिशत से घटाकर 30 प्रतिशत कर दिया
आठ लाख भारतीयों को छोड़ना पड़ेगा कुवैत, सरकार ला रही है नया कानून

इंटरनेशनल डेस्क न्यूज.  कुवैत में प्रवासी कोटा बिल के मसौदे को मंजूरी दे दी गई है। परिणामस्वरूप, आठ लाख भारतीयों को खाड़ी देश छोड़ना पड़ सकता है। कानून के अनुसार, देश में भारतीयों की आबादी 15 प्रतिशत से अधिक नहीं हो सकती है। वर्तमान में वहां लगभग 1.5 मिलियन भारतीय रह रहे हैं। एक मीडिया रिपोर्ट में यह बात कही गई।

कुवैत की वर्तमान कुल जनसंख्या 4.3 मिलियन है। इनमें कुवैती की आबादी 1.3 मिलियन है, जबकि प्रवासियों की संख्या 3 मिलियन है। रिपोर्ट में कहा गया है कि मसौदा बिल को कुवैत की नेशनल असेंबली की कानूनी और विधायी समिति द्वारा अनुमोदित किया गया था।

भारतीयों की संख्या कुल आबादी के 15 प्रतिशत से अधिक नहीं होनी चाहिए

बिल के अनुसार, भारतीयों की संख्या कुल आबादी के 15 प्रतिशत से अधिक नहीं होनी चाहिए। इसके कारण, आठ लाख भारतीयों को कुवैत छोड़ना पड़ सकता है, क्योंकि भारतीय समुदाय की आबादी 14.5 लाख है। रिपोर्ट के अनुसार, कोरोना वायरस महामारी के बाद, कुवैत विदेशियों की संख्या को कम करने को लेकर सांसदों और सरकारी अधिकारियों के बीच मजबूत बयानबाजी कर रहा है।

पिछले महीने, कुवैत के प्रधान मंत्री शेख सबा अल खालिद अल सबा ने प्रवासियों की संख्या को 70 प्रतिशत से घटाकर 30 प्रतिशत कर दिया।

भारत ने वेलफेयर सेंटर तैयार किया

भारतीय दूतावास ने 2009 में भारतीय श्रमिक कल्याण केंद्र की स्थापना की, जहाँ श्रमिकों की शिकायतों के लिए सुविधाएं प्रदान की गईं और संकट में घरेलू श्रमिकों के लिए आवास प्रदान किए गए। साथ ही, भारतीयों के सामने आने वाली कठिनाइयों के लिए कार्य अनुबंध, 24-घंटे टोल-फ्री टेलीफोन हेल्पलाइन, मुफ्त कानूनी सलाह क्लिनिक और हेल्पडेस्क संलग्न करने की व्यवस्था बनाई गई।

कम पढ़े-लिखे आएंगे वापस

कुवैत टाइम्स ने उनके हवाले से कहा, '' कुवैत की वास्तविक समस्या आबादी का ढांचा है जहां पर 70 प्रतिशत आबादी विदेशी कामगारों की है. इससे भी गंभीर बात यह है कि 33.5 लाख विदेशियों में 13 लाख या तो अनपढ़ हैं या मुश्किल से लिख-पढ़ सकते हैं.''

इस साल 70 फीसदी, अगले साल 65 फीसदी और इसी तरह आने वाले वर्षों में कमी आएगी

गहनेम ने कहा, '' मैं समझता हूं कि हम डॉक्टर और कुशल कामगारों की भर्ती कर सकते हैं न कि अकुशल मजदूरों की. यह विकृति का संकेत है और वीजा कारोबारियों ने इस संख्या के बढ़ने में योगदान किया है.असेंबली अध्यक्ष ने कहा कि मसौदा कानून में उनकी कोशिश विदेशी कामगारों की अधिकतम संख्या तय करने की है,

जिनकी संख्या में चरणबद्ध तरीके से कमी लाई जाएगी जैसे इस साल 70 फीसदी है, अगले साल 65 फीसदी और इसी तरह आने वाले वर्षों में कमी आएगी.

अरब न्यूज की खबर के मुताबिक विदेशी कोटा विधेयक को संबंधित समिति को विचार करने के लिए भेजा जाएगा। इसमें कहा गया है कि भारतीय की संख्या राष्ट्रीय जनसंख्या के 15 फीसदी से अधिक नहीं होनी चाहिए जिसका मतलब है कि आठ लाख भारतीयों को कुवैत छोड़ना पड़ेगा.

Like and Follow us on :

Since independence
hindi.sinceindependence.com