‘आख़िर क्या मज़बूरी है कि उन्हें पडरौना छोड़कर भागना पड़ा’ - अनुराग ठाकुर

समाजवादी पार्टी ने अपने तीन उम्मीदवारों का ऐलान किया है. जिसमें बीजेपी छोड़कर सपा में शामिल हुए स्वामी प्रसाद मौर्य को फाजिलनगर से उम्मीदवार बनाया गया है.
‘आख़िर क्या मज़बूरी है कि उन्हें पडरौना छोड़कर भागना पड़ा’ - अनुराग ठाकुर

उत्तरप्रदेश में अब चुनाव चंद कदम दूर है. उस तारीख से पहले सत्ताधारी पार्टी और विपक्ष के एक दूसरे पर आरोप प्रत्यारोप का दौर जारी है. हाल ही में बीजेपी छोड़ समाजवादी पार्टी में शामिल हुए स्वामी प्रसाद मौर्य को सपा ने फाजिलनगर से उम्मीदवार बनाने का ऐलान किया है. पिछली बार वे बीजेपी के टिकट पर पडरौना से जीतकर आए थे और योगी सरकार में मंत्री थे. पिछले महिने ही उन्होंने अपना मंत्री पद छोड़ा और पार्टी भी.

इस बीच केंद्रीय मंत्री और बीजेपी के नेता अनुराग ठाकुर ने चुटकी ली और कहा कि स्थिति ऐसी हो गई है कि स्वामी प्रसाद मौर्य अपनी पुरानी सीट से चुनाव लड़ने को तैयार नहीं है. उन्होंने कहा- आख़िर क्या मज़बूरी है कि उन्हें पडरौना छोड़कर भागना पड़ा. क्या उन्हें हार का डर सता रहा था? जहाँ एक ओर समाजवादी पार्टी का सूपड़ा साफ़ हो रहा है, तो दूसरी तरफ स्वामी प्रसाद मौर्य को हारने का का डर सता रहा है.

सपा ने एक अपने तीन उम्मीदवारों की लिस्ट जारी की है. जिसमें लखनऊ के सरोजनी नगर से अभिषेक मिश्रा,कौशाम्बी के सिराथू से पल्लवी पटेल को और भाजपा का दामन छोड़ सपा में शामलि हुए स्वामी प्रसाद मौर्य को कुशीनगर के फाजिलनगर से उम्मीदवार बनाया गया है. हालाँकि वे 2017 में पडरौना से विधायक चुने गए थे. ये अटकलें लगाई जा रही थी कि कांग्रेस छोड़कर बीजेपी में शामिल पूर्व केंद्रीय मंत्री आरपीएन सिंह के साथ उनका मुक़ाबला पडरौना में हो सकता है. लेकिन अब समाजवादी पार्टी ने उन्हें फाजिलनगर से अपनी पार्टी का उम्मीदवार बनाया है. आपको बता दे की फाजिलनगर से साल 2017 में बीजेपी के गंगा सिंह कुशवाहा की जीत हुई थी. पिछले महिने में स्वामी प्रसाद मौर्य के साथ योगी सरकार के कुछ मंत्री और बीजेपी के कुछ विधायक भी समाजवादी पार्टी में शामिल हुए थे.

Related Stories

No stories found.