यूपी में भाजपा की बड़ी रैलियों पर रोक लगाने के लिए कांग्रेस ने उठाया यह कदम

कांग्रेस ने भारत निर्वाचन आयोग को पत्र लिखकर विधानसभा चुनाव के लिए हो रही बड़ी रैलियों पर रोक लगाने की मांग की है| पार्टी ने आयोग से सरकारी खर्च पर प्रधानमंत्री, मुख्यमंत्री/उपमुख्यमंत्री और भाजपा नेताओं की रैलियों पर रोक लगाने को कहा है
यूपी में भाजपा की बड़ी रैलियों पर रोक लगाने के लिए कांग्रेस ने उठाया यह कदम

CONGRESS DEMANDS BAN BJP RAILY

कांग्रेस ने भारत निर्वाचन आयोग को पत्र लिखकर विधानसभा चुनाव के लिए हो रही बड़ी रैलियों पर रोक लगाने की मांग की है| पार्टी ने आयोग से सरकारी खर्च पर प्रधानमंत्री, मुख्यमंत्री/उपमुख्यमंत्री और भाजपा नेताओं की रैलियों पर रोक लगाने को कहा है | भाजपा नेताओं पर संवैधानिक मंचों से अलोकतांत्रिक भाषा का प्रयोग कर सत्ता के दुरूपयोग का आरोप लगाते हुए इसे भी रोकने की मांग की गई है।

कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू, विधायक दल की नेता आराधना मिश्रा, पूर्व सांसद प्रमोद तिवारी व पीएल पुनिया व पूर्व मंत्री नसीमुद्दीन सिद्दीकी द्वारा संयुक्त रूप से भेजे गए इस पत्र की जानकारी कांग्रेस नेताओं ने गुरुवार को प्रेस वार्ता के माध्यम से दी | आराधना मिश्रा मोना ने कहा कि फिलहाल कोविड महामारी की तीसरी लहर की आशंका है | ऐसे में छोटी सभाएं, चौपाल, वर्चुअल बैठकें और घर-घर जाकर अभियान जैसे आयोजनों का आयोजन किया जाए और बड़ी रैलियों पर रोक लगाई जाए |

यूपी में दलितों और महिलाओं पर सबसे ज्यादा अत्याचार : पुनिया

अमेठी में एक दलित लड़की की पिटाई का जिक्र करते हुए राष्ट्रीय अनुसूचित जाति आयोग के पूर्व अध्यक्ष पीएल पुनिया ने कहा कि राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की दलित और महिला विरोधी सोच के कारण दलितों के खिलाफ सबसे ज्यादा हिंसा और अत्याचार होता है | उत्तर प्रदेश की भाजपा सरकार में देश की महिलाएं। हो रहा है। इसका सीधा कारण यह है कि अपराधियों को सरकार का संरक्षण मिल जाता है और वे उन्हें बचा लेते हैं। राज्य में प्रतिदिन औसतन दलितों के खिलाफ अपराध की 34 घटनाएं हो रही हैं और अपराध के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं |

Like Follow us on :- Twitter | Facebook | Instagram | YouTube

<div class="paragraphs"><p>CONGRESS DEMANDS BAN BJP RAILY </p></div>
साउथ अफ्रीका के खिलाफ टीम इंडिया की जीत, क्या इंडिया रच पाएगा इतिहास ?

Related Stories

No stories found.
Since independence
hindi.sinceindependence.com