सपा,बसपा से नहीं बनी बात, भीम आर्मी चीफ ने कहां - अखिलेश यादव अब तक सामाजिक न्याय को नहीं समझ पाए

भीम आर्मी के संस्थापक चंद्रशेखर ने शनिवार को पीसी कर बताया कि उनकी पार्टी और समाजवादी पार्टी में गठबंधन नहीं हो सका है.
सपा,बसपा से नहीं बनी बात, भीम आर्मी चीफ ने कहां - अखिलेश यादव अब तक सामाजिक न्याय को नहीं समझ पाए

इस समय देश की सभी बड़ी पार्टीयों की नज़रे उत्तरप्रदेश पर है. कहां जाता है की दिल्ली का रास्ता उत्तरप्रदेश से होकर ही गुजरता है. इसी के चलते हर कोई उत्तरप्रदेश पर सत्ता की चाहत में है. वही शनिवार को हुई पीसी में आजाद समाज पार्टी के अध्यक्ष और भीम आर्मी के संस्थापक चंद्रशेखर ने बताया की उनकी पार्टी और सपा में गठबंधन नहीं हो सका. उन्होने कहा कि समाजवादी पार्टी से क‌ई मुद्दों पर बात हुई. लेकिन बात नहीं बन सकी. अगर सरकार बनती भी है तब भी हमारी पार्टी के प्रतिनिधि वहां नहीं होंगे. अखिलेश यादव समाजिक न्याय को समझते ही नहीं है. क्योकी उनके केवल एक लक्ष्य है बीजेपी को रोकना. उसके लिए वे दिन-रात एक कर रहे है. अखिलेश जी को दलितों की जरूरत नहीं है. अखिलेश यादव ने हमें अपमानित किया.

चंद्रशेखर ने ये भी बताया की उन्होने शाम तक जवाब देने के लिए कहा था लेकिन उनका फोन अभी तक नहीं आया. हमने 1 महीने 10 दिन अखिलेश जी से बात की थी, उन्होंने ये मन में तय कर रखा है की वह दलितों की लीडरशिप खड़ी होने ही नहीं देगें. वही अब हमने तय कर लिया है कि हम समाजवादी पार्टी के साथ गठबंधन में नहीं करेंगे. वही अपने बारे में उन्होने कहा की मैं 25% दलितों के हितों की रक्षा के लिए हूं. दलित समाज अपनी लडाई स्वयं लड़ेगा. अपने दम पड़ लड़ेंगे. हमारी कोशिश थी की हम बिखरे विपक्ष को एकजुट करें. बहन जी से भी बात की लेकिन बातचीत विफल रही.

सपा,बसपा से नहीं बनी बात, भीम आर्मी चीफ ने कहां - अखिलेश यादव अब तक सामाजिक न्याय को नहीं समझ पाए
अखिलेश यादव से मिले भीम आर्मी चीफ चंद्रशेखर आजाद, कहा- पीएम पद मिल भी जाए तो बीजेपी के साथ नहीं जाएंगे

अखिलेश यादव को नहीं है दलितों की जरूरत –

भीम आर्मी के संस्थापक ने कहा कि भाजपा सरकार को रोकने के लिए हम सभी ने काम किया है. पिछले 9 साल से हम लोगों के बीच हैं. हमने बहुत कोशिशो के बाद लोगों में विश्वास जगाया है. लेकिन लोगों का मानना है की सरकार बनने के बाद भी हमारा लीड़र वहां नहीं होगा तो हमारा काम भी नहीं होगा.

उन्होंने कहा कि 2 दिन तक यहां रहने और एक महीने तक सपा प्रमुख से बात करने के बाद मुझे लास्ट में यहीं लगता है कि उन्हें बहुजन समाज की जरुरत नहीं है. वो इस गठबंधन में दलित समाज को चाहते हीं नहीं है. अखिलेश यादव अब तक सामाजिक न्याय को नहीं समझ पाए हैं.

Related Stories

No stories found.
Since independence
hindi.sinceindependence.com