देश में फिर छिडी विधानसभा और लोकसभा के चुनाव एक साथ कराने पर बहस,

आजादी के बाद शुरू के कुछ लोकसभा और विधानसभा चुनाव एक साथ ही हुए थे,
देश में फिर छिडी विधानसभा और लोकसभा के चुनाव एक साथ कराने पर बहस,

नई दिल्ली – नरेंन्द्र मोदी ने जब 2014 में चुनाव जीता था, तो सरकार बनाने के बाद देश में एक साथ चुनाव कराने की पहल की थी, हालाकि कई राजनीतिक दल इससे सहमत नही थे। और यह मुद्दा कुछ समय के लिए थोड़ा नरम पड गया था। लेकिन मोदी सरकार ने दुसरा कार्यकाल संभालते ही एक बार फिर इस पर बहस शुरू कर दी है।

देश में एक साथ चुनाव कराने को लेकर मोदी ने संसद में बैठने वाले सभी दलों के प्रमुखों के साथ 19 जून को एक बैठक बुलाई है।

इसके एक दिन बाद लोकसभा और राज्यसभा के सांसदो के साथ बैठक करेगें। इसकी जानकारी संसदीय कार्यमंत्री प्रहलाद जोशी ने दी।

 संसदीय मंत्री प्रहलाद जोशी ने बताया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 19 जून को होने वाली बैठक में सभी राजनीतिक दलों के प्रमुखों के साथ कई मुद्दो पर चर्चा करने का फैसला किया था, जोशी ने बताया कि मोदी इस बैठक में देश में विधानसभा और लोकसभा चुनाव साथ कराने के विषय पर चर्चा करेंगे। इसके अलावा महात्मा गांधी की इस वर्ष 150 वीं जंयती पर भी चर्चा करेगें।

17 वीं लोकसभा का गठन होने के बाद सोमवार से पहला सत्र शुरू हो रहा है। इससे पहले सर्वदलीय बैठक में शामिल नेता भी संसद को शांति से चलाने पर सहमत हुए।

 सोमवार से शुरू हो रहे पहले सत्र में बीजेपी तीन तलाक बिल पेश कर सकती है, हालाकि इस पर फिलहाल कोई औपचारिक बयान नही आया है, लेकिन जानकारी मिली है। बीजेपी तीन तलाक बिल को इसी सत्र में ला सकती है।

इससे पहले शनिवार को नीति आयोग की बैठक में नरेंद्र मोदी ने एक साथ चुनाव कराने को बातचीत आगे बढ़ाने का प्रस्ताव दिया था।

Related Stories

No stories found.
Since independence
hindi.sinceindependence.com