मोदी ने ग्राम प्रधानों को लिखा पत्र, बारिश के पानी को बचाने की अपील

ग्राम पंचायतों में गांव वालों से पानी बचाने के लिए चर्चा करें
मोदी ने ग्राम प्रधानों को लिखा पत्र, बारिश के पानी को बचाने की अपील

नई दिल्ली – मानसून देश में प्रवेश कर चुका है, लेकिन देश में ऐसा कोई सिस्टम अभी भी मौजूद नहीं है, जो बारिश के पानी को बचा सकें और उसे संग्रहित कर सकें। इसी को लेकर अब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने चिंता जताई है। और देशभर के ग्राम प्रधानों को पत्र लिखकर बारिश के पानी को बचाने की अपील की है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपील में कहा कि बारिश के पानी के संग्रहण को लेकर ग्राम सभाओं में चर्चा की जाए, पूर्वी उत्तर प्रदेश के 637 ग्राम प्रधानों को प्रधानमंत्री का पत्र मिला है, वंहा के कलेक्टर ने खुद गांव जाकर ग्राम प्रधानों को पत्र दे रहे है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जल संरक्षण के लिए देशभर के ग्राम प्रधानों और मुखियाओं को निजी तौर पर पत्र लिखा। उन्होंने इस मानसून सीजन में ज्यादा से ज्यादा वर्षा जल को संग्रहित करने की अपील की है। ताकि गर्मी के दौरान पैदा होने वाले जलसंकट से निपटा जा सके। प्रधानमंत्री के हस्ताक्षर वाले यह पत्र कलेक्टर खुद गांव जाकर मुखियाओं को दे रहे हैं।

मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी के पास पूर्वी उप्र के 637 गांवों के मुखियाओं को प्रधानमंत्री का पत्र मिला है। जो ग्रामीण इलाकों में चर्चा का विषय बना हुआ है। इसमें कहा गया है कि ज्यादा से ज्यादा लोगों को बारिश का पानी संग्रहित करने के लिए प्रेरित करें।

प्रधानमंत्री ने लिखा प्रिय सरपंच जी, नमस्कार। मैं आशा करता हूं कि आप और आपकी पंचायत में रहने वाले मेरे सारे भाई और बहन की सेहत अच्छी होगी। मानसून आने को है। हम सौभाग्यशाली है कि भगवान हमें बारिश के पानी के रूप में बहुत सारा जल देते हैं। हम सभी को मिलकर इसे सहेजने की कोशिश करना चाहिए। आपसे निवेदन है कि पानी को कैसे संग्रहित किया जाए, ग्राम सभाओं में इस विषय पर चर्चा करें। मुझे पूरा भरोसा है कि आप सभी बारिश के पानी की एक-एक बूंद को संग्रहित कर सकते हैं।

नीति आयोग की बैठक के दौरान प्रधानमंत्री बारिश के पानी के संग्रहण के मुद्दे को विशेष रूप से उठाएंगे ताकि देश के बड़े हिस्से के जल संकट की समस्या से निपटा जा सके। जलशक्ति मंत्रालय ने जल संकट की स्थिति का आंकलन करने के लिए मुख्यमंत्रियों के साथ बैठक की थी।

Related Stories

No stories found.
Since independence
hindi.sinceindependence.com