लाइक बटन को लेकर फंसा फेसबुकः लाइक बटन को छिपाने की हो रही तैयारी, उसी ने प्लेटफॉर्म पर फेक कंटेंट वायरल किया

फेसबुक पिछले कुछ दिनों से लगातार चर्चा में है। कहने को तो यह एक सोशल प्लेटफॉर्म है, लेकिन इन दिनों दूसरे सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म्स पर ट्रोल हो रहा हैं। चर्चा यह भी है कि फेसबुक जल्द ही एक नए नाम और नए अवतार में आने वाला है। इसकी रिसर्च टीम इस प्लेटफॉर्म को बेहतर बनाने के लिए लगातार काम कर रही है। 2019 में, कंपनी के कुछ शोधकर्ताओं ने सोशल नेटवर्क की मूलभूत विशेषताओं पर शोध शुरू किया। उन्हीं में से एक उनका लाइक बटन भी है।
लाइक बटन को लेकर फंसा फेसबुकः लाइक बटन को छिपाने की हो रही तैयारी, उसी ने प्लेटफॉर्म पर फेक कंटेंट वायरल किया

फेसबुक पिछले कुछ दिनों से लगातार चर्चा में है। कहने को तो यह एक सोशल प्लेटफॉर्म है, लेकिन इन दिनों दूसरे सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म्स पर ट्रोल हो रहा हैं। चर्चा यह भी है कि फेसबुक जल्द ही एक नए नाम और नए अवतार में आने वाला है। इसकी रिसर्च टीम इस प्लेटफॉर्म को बेहतर बनाने के लिए लगातार काम कर रही है। 2019 में, कंपनी के कुछ शोधकर्ताओं ने सोशल नेटवर्क की मूलभूत विशेषताओं पर शोध शुरू किया। उन्हीं में से एक उनका लाइक बटन भी है।

फेसबुक जल्द ही एक नए नाम और नए अवतार में आने वाला है

कंपनी के दस्तावेजों के अनुसार, शोधकर्ता ने जांच की कि अगर फेसबुक ने थम्स-अप आइकन और इमोजी प्रतिक्रिया को इंस्टाग्राम से हटा दिया तो लोग क्या करेंगे? इस पर उन्होंने पाया कि ये बटन कभी-कभी इंस्टाग्राम के सबसे कम उम्र के यूजर्स को 'तनाव और चिंता' में डाल देते हैं। खासकर तब जब उनकी पोस्ट को दोस्तों से जरूरी लाइक्स नहीं मिले। उन्होंने यह भी देखा कि जब लाइक बटन छिपा हुआ था, तब यूजर्स पोस्ट और विज्ञापनों को कम इंटरैक्ट करते थे।

दस्तावेजों से पता चलता है कि फेसबुक के सीईओ मार्क जुकरबर्ग और अन्य प्रबंधकों ने इंस्टाग्राम उपयोगकर्ताओं के लिए लाइक बटन को छिपाने पर चर्चा की। अंत में, Instagram के आसपास एक पॉजिटिव प्रेस नरेटिव को तैयार करके टेस्टिंग शुरू की गई।

लाइक बटन से कंपनी को संकट का सामना करना पड़ा

लाइक बटन पर शोध इस बात का उदाहरण था कि कैसे फेसबुक ने सोशल नेटवर्किंग की बुनियादी विशेषताओं पर सवाल उठाया है। गलत सूचना, गोपनीयता और अभद्र भाषा के कारण कंपनी को संकट का सामना करना पड़ा है। लाइक बटन के साथ-साथ फेसबुक ने अपने शेयर बटन पर भी शोध किया है। ताकि उपयोगकर्ता अन्य लोगों द्वारा पोस्ट की गई सामग्री को तुरंत साझा कर सकें। इससे पता चलता है कि 3.5 अरब लोग ऑनलाइन कैसे प्रतिक्रिया दे रहे हैं। हजारों पन्नों के आंतरिक दस्तावेजों में किए गए शोध ने इस बात पर प्रकाश डाला है कि कंपनी ने जो बनाया है उससे बार-बार संघर्ष किया है।

शोध के दौरान पाया गया कि सकारात्मकता इस प्लेटफॉर्म से कोसों दूर है। समय-समय पर लोगों ने इस प्लेटफॉर्म का गलत इस्तेमाल किया। सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म्स पर लोगों ने लगातार नफरत फैलाने वाले कंटेंट को बढ़ाया है। 2019 में, कुछ शोधकर्ताओं ने कहा कि फेसबुक एक 'कोर प्रोडक्ट मशीन' की तरह बन गया है, जिसने अपने प्लेटफॉर्म पर गलत सूचना और अभद्र भाषा को बढ़ने दिया है। उन्होंने पाया कि यह सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म के रूप में एक न्यूट्रल मशीन नहीं है।

कंपनी को फीचर्स में बदलाव भारी पड़ा

शोध दस्तावेजों में स्लाइड डेक, आंतरिक चर्चा सूत्र, चार्ट, मेमो और प्रस्तुतियां शामिल हैं, लेकिन कोई भी यह उल्लेख नहीं करता है कि परिणाम आने के बाद फेसबुक ने क्या कार्रवाई की। पिछले कुछ सालों में कंपनी ने फेसबुक के कुछ फीचर्स में बदलाव किए हैं। इससे लोगों के लिए उन पोस्ट को छिपाना आसान हो गया है जिन्हें वे नहीं देखना चाहते हैं। फेसबुक एक नेटवर्क संचालित करता है जहां सूचना तेजी से फैल सकती है। जहां यूजर्स अपने दोस्तों और फॉलोअर्स को लिंक कर सकते हैं।

फेसबुक की कीमत 900 अरब डॉलर से ज्यादा है

इसके उपाध्यक्ष ब्रायन बोलैंड, जिन्होंने पिछले साल फेसबुक छोड़ दिया था, ने कहा कि एक कर्मचारी के रूप में आप फेसबुक के अंदर खुलकर बात कर सकते हैं, लोगों के लिए ऐसा सोचना गलत है। परिवर्तन करना वास्तव में कठिन हो सकता है। फेसबुक के कर्मचारी फ्रांसेस हौगेन ने भी कंपनी छोड़ दी है। उन्होंने द वॉल स्ट्रीट जर्नल को दस्तावेज दिए, जिसमें उन्होंने कंपनी के बारे में कई बड़े खुलासे किए। वह लगातार फेसबुक से जुड़े नए खुलासे कर रही हैं.

हालांकि, फेसबुक के प्रवक्ता एंडी स्टोन ने दस्तावेजों को झूठा बताते हुए प्रकाशित होने वाले लेख की आलोचना की है। उन्होंने कहा- यह सच है कि हम व्यापार करते हैं और मुनाफा कमाते हैं, लेकिन यह मानना ​​गलत है कि हम इसके लिए लोगों की सुरक्षा को दूर रखते हैं। फेसबुक ने 13 अरब डॉलर का निवेश किया है। उन्होंने लोगों को सुरक्षित रखने के लिए 40,000 से अधिक लोगों को काम पर रखा है।

जुकरबर्ग ने भी इन सभी आरोपों का जोरदार खंडन किया है। उन्होंने कहा कि इन दावों में कोई सच्चाई नहीं है कि सोशल मीडिया की एक डिवीजन बच्चों को नुकसान पहुंचाती है और फायदे को सुरक्षा के मुकाबले में ज्‍यादा तवज्‍जो देती है। हम कभी भी ऐसे विज्ञापन अपने प्लेटफॉर्म पर नहीं लाना चाहते, जो नफरत फैलाने का काम करते हैं।

Related Stories

No stories found.
Since independence
hindi.sinceindependence.com