PAK के सिंध में हिंदू लड़की की हत्या: जबरन इस्लाम कुबूल करा शादी का विरोध किया तो सिर में मारी गोली

यहां के सुक्कुर जिले में किशोरी ने अपहरण का विरोध किया, जिसके बाद अपहरणकर्ताओं ने उसके सिर में गोली मार दी। लड़की का नाम पूजा कुमारी ओड बताया जा रहा है, उम्र 18 साल बताई जा रही है। खबर के अनुसार जबरन धर्म परिवर्तन और अपहरण के असफल प्रयास के बाद उनकी हत्या कर दी गई।
PAK के सिंध में हिंदू लड़की की हत्या: जबरन इस्लाम कुबूल करा शादी का विरोध किया तो सिर में मारी गोली

पाकिस्तान के सिंध प्रांत (Pakistan's southern Sindh province) में सोमवार को एक हिंदू युवती (Pooja Oad) की गोली मारकर हत्या कर दी गई। जानकारी के अनुसार यहां के सुक्कुर (Sukkur) जिले में किशोरी ने अपहरण का विरोध किया, जिसके बाद अपहरणकर्ताओं ने उसके सिर में गोली मार दी। लड़की का नाम पूजा कुमारी ओड बताया जा रहा है, उम्र 18 साल बताई जा रही है। खबर के अनुसार जबरन धर्म परिवर्तन और अपहरण के असफल प्रयास के बाद उनकी हत्या कर दी गई थी।

सुक्कुर जिला एसपी ने बताया कि पूजा की हत्या के मुख्य आरोपी वाहिद बख्श लशारी को गिरफ्तार कर लिया गया है। पुलिस ने लशारी से हथियार भी जब्त किए हैं। एसपी ने बताया कि आरोपी वाहिद बख्श पूजा से शादी करने के लिए उसका अपहरण करना चाहता था।

(Source: Twitter)

पिता ने कहा आरोपी पिछले कई महीनों से बेटी को परेशानकर रहा था
पूजा के पिता ने इंडिपेंडेंट उर्दू से बातचीत में बताया है कि सिंध में हिंदू लड़कियों के अपहरण और जबरन धर्म परिवर्तन के कई मामले सामने आ रहे हैं, लेकिन इन मामलों में कहा जाता है कि हिंदू लड़कियों ने स्वेच्छा से इस्लाम धर्म अपना लिया है। मेरी बेटी ने शादी और धर्म परिवर्तन से इनकार कर दिया, जिसके बाद आरोपी ने उसकी हत्या कर दी।
पूजा के पिता ने कहा- आरोपी मेरी बेटी को पिछले कई महीनों से परेशान कर रहा था। वह कई बार जबरन घर में घुस भी जाता था। मैंने सुक्कुर पुलिस से भी सुरक्षा मांगी लेकिन पुलिस ने सुरक्षा नहीं देने से मना कर दिया। घटना के बाद परिजनों ने शव को नेशनल हाईवे पर रखकर विरोध भी किया। जिससे करीब 2 घंटे तक हाईवे जाम रहा।
हिंदुओं, सिखों, ईसाइयों और अहमदियों पर अत्याचार हो रहे
पाकिस्तान ने कई मौकों पर अल्पसंख्यक समुदायों की सुरक्षा का आश्वासन दिया है, लेकिन अल्पसंख्यकों के साथ भेदभाव किया गया है। इनके साथ हिंसा, हत्या, अपहरण, बलात्कार, जबरन धर्म परिवर्तन जैसी घटनाएं होती हैं। हिंदू, ईसाई, सिख, अहमदिया और शियाओं को बड़ी कठिनाइयों का सामना करना पड़ रहा है।
सिंध में हर साल लगभग 1,000 हिंदू लड़कियों का अपहरण : सिंध फाउंडेशन
पाकिस्तान में अक्सर जबरन धर्म परिवर्तन के मामले सामने आते हैं। इनमें हाल के दिनों में बढ़ोतरी हुई है। अमेरिका में सिंधी फाउंडेशन के अनुसार, सिंध प्रांत में हर साल लगभग 1,000 हिंदू लड़कियों (12 से 28 वर्ष की आयु) का अपहरण किया जाता है। उनका जबरन धर्म परिवर्तन कराया जाता है। इसके बाद मुसलमानों की शादी कर दी जाती है।
कई मानवाधिकार संगठनों ने पाकिस्तान सरकार पर हिंदुओं और अन्य अल्पसंख्यकों के खिलाफ बढ़ते अपराधों पर आवश्यक कार्रवाई नहीं करने का आरोप लगाया है।

बता दें कि इससे पहले, सिंध में प्रांतीय सरकार ने जबरन धर्मांतरण और विवाह को प्रतिबंधित करने का प्रयास किया था। हालांकि, धार्मिक प्रदर्शनकारियों ने यह कहते हुए बिल का विरोध किया कि लड़कियां मुस्लिम पुरुषों के प्यार में पड़ने के बाद ही धर्म परिवर्तन करती हैं।

पाकिस्तान की अधिकांश हिंदू आबादी सिंध प्रांत में बसी है जहां वे मुस्लिम निवासियों के साथ संस्कृति, परंपराओं और भाषा को साझा करते हैं। लेकिन यहां के हिंदू हमेशा चरमपंथियों की ओर से उत्पीड़न की शिकायत करते हैं।

Related Stories

No stories found.
Since independence
hindi.sinceindependence.com