खारकिव को खाक करने से पहले रूस ने रोका अपना ऑपरेशन, भारतीयों को निकालने की कोशिश तेज

इस बीच, भारत सरकार ने रूस के साथ एक महत्वपूर्ण समझौता किया है। रूस खारक़िव में फंसे भारतीयों को निकालने के लिए 6 घंटे के लिए युद्ध रोकने पर राजी हो गया है। इस गैप में खारक़िव से फंसे भारतीय लोगों को यूक्रेन के आस-पास के देशों की सीमाओं तक सुरक्षित पहुंचाने के लिए लिया गया है।
खारकिव को खाक करने से पहले रूस ने रोका अपना ऑपरेशन, भारतीयों को निकालने की कोशिश तेज

गुरुवार को रूस-यूक्रेन युद्ध का आठवां दिन है। इस बीच, भारत सरकार यूक्रेन में फंसे भारतीयों को सुरक्षित वापस लाने के लिए लगातार अपने प्रयास को तेज कर रही है। इसके लिए वायुसेना की भी मदद ली जा रही है। इस बीच, भारत सरकार ने रूस के साथ एक महत्वपूर्ण समझौता किया है। रूस खारक़िव में फंसे भारतीयों को निकालने के लिए 6 घंटे के लिए युद्ध रोकने पर राजी हो गया है। इस गैप में खारक़िव से फंसे भारतीय लोगों को यूक्रेन के आस-पास के देशों की सीमाओं तक सुरक्षित पहुंचाने के लिए लिया गया है।

अब भी हजारों छात्रों के खारक़िव शहर में फंसे होने की खबर

यूक्रेन के खारक़िव शहर में अब भी हजारों छात्रों के फंसे होने की खबर है। बताया गया कि भारतीयों को जाने नहीं दिया जा रहा है। भारतीय प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार रात रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन से बात की। इस दौरान पीएम मोदी ने यूक्रेन में फंसे भारतीयों को सुरक्षित निकालने का मुद्दा उठाया। रूस के राष्ट्रपति ने पीएम से कहा था कि रूस हर संभव मदद देने को तैयार है। यूक्रेन की सेना खार्किव में भारतीय छात्रों को मानव ढाल के रूप में इस्तेमाल कर रही है।

पुतिन ने दिया था मदद का आश्वासन

पीएम मोदी से बातचीत के दौरान व्लादिमीर पुतिन ने आश्वासन दिया था कि भारतीय छात्रों को युद्ध क्षेत्र से निकालकर भारत भेजने के लिए सभी जरूरी निर्देश जारी कर दिए गए हैं। रूसी सेना इस दिशा में हर संभव प्रयास करेगी। उन्होंने भारतीय छात्रों के तत्काल बचाव के लिए रूसी सेना द्वारा खारक़िव से रूस तक एक सुरक्षित रास्ता बनाने की भी बात की। अगले ही दिन रूस 6 घंटे के लिए युद्ध रोकने पर राजी हो गया है।

भारतीय नागरिक खारक़िव से निकलकर का आदेश

भारतीय दूतावास ने बुधवार को छात्रों सहित अपने सभी नागरिकों को उनकी सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए जल्द से जल्द खारक़िव छोड़ने को कहा। दूतावास ने एडवाइजरी में कहा था कि भारतीय नागरिक खारक़िव से निकलकर पेसोचिन, बाबे और बेज़लुडोव्का पहुंचे, जो करीब 16 किलोमीटर के दायरे में है। इस बीच, ऑपरेशन गंगा के तहत, 3,726 भारतीयों को आज बुखारेस्ट से 8 उड़ानें, सुसेवा से 2 उड़ानें, कोसिसे से 1 उड़ान, बुडापेस्ट से 5 उड़ानें और रज्जो से 3 उड़ानें भारत वापस लाई जाएंगी।

Related Stories

No stories found.