JJS-2021: एक साल बाद फिर से सजा बहुमूल्य आभूषणों का संसार, 800 बूथ के साथ 4 दिन तक जुटेगें दुनियाभर के जूलरी डिजायनर और आर्टिस्ट्स

जूलरी बिजनेस में चल रही मंदी और भारतीय ग्राहकों को आकर्षित करेगा शो
JJS-2021: एक साल बाद फिर से सजा बहुमूल्य 
आभूषणों का संसार, 800 बूथ के साथ 4 दिन तक जुटेगें दुनियाभर के जूलरी डिजायनर और आर्टिस्ट्स

JJS-2021लगे जूलरी बूथ

डेस्क न्यूज. जयपुर के सीतापुरा औद्योगिक क्षेत्र के जेईसीसी में शुक्रवार से ज्वैलरी शो 'JJS-2021' की शुरूआत हो गई है। ये ज्वैलरी शो जयपुर में 24 से 27 दिसंबर तक चलेगा।

<div class="paragraphs"><p>ज्वैलरी शो को देखने दुनियाभर से आए&nbsp;जूलरी डिजायनर और आर्टिस्ट्स</p></div>

ज्वैलरी शो को देखने दुनियाभर से आए जूलरी डिजायनर और आर्टिस्ट्स

<div class="paragraphs"><p> </p></div>

ज्वैलरी बिजनेस में चल रही मंदी और भारतीय ग्राहकों को आकर्षित करना उद्देश्य

गौरतलब है कि ज्वैलरी शो "JJS-2021" की शुरुआत ज्वैलरी बिजनेस में चल रही मंदी से निपटने और भारतीय ग्राहकों को जयपुर के ज्वैलरी की ओर आकर्षित करने के उद्देश्य से की गई है। इस बार सीतापुरा औद्योगिक क्षेत्र स्थित जेईसीसी में इसका आयोजन किया जा रहा है।

<div class="paragraphs"><p>ज्वैलरी शो  रिलिजियस आर्टवर्क ने भी विजिटर्स को आकर्षित किया।</p></div>

ज्वैलरी शो रिलिजियस आर्टवर्क ने भी विजिटर्स को आकर्षित किया।

<div class="paragraphs"><p>ज्वैलरी शो के पहले दिन एक बूथ पर महिलाओं की भीड़।</p></div>

ज्वैलरी शो के पहले दिन एक बूथ पर महिलाओं की भीड़।

घरेलू ग्राहकों के शो में अधिक आने की उम्मीद

शो में ज्वैलर्स ज्वैलरी को प्रदर्शित करने के प्रभावी तरीके पर जोर दे रहे हैं। इस बार घरेलू ग्राहकों के शो में अधिक आने की उम्मीद अधिक है। क्योंकि कोरोना के कारण कई देशों में प्रतिबंध है, इससे माना जा रहा है कि "JJS-2021" में हल्के वजन के आभूषणों के अलावा पारंपरिक आभूषणों को भी बड़े पैमाने पर प्रदर्शित और बेचा जाएगा। इस बार शो में कुछ अवॉर्ड विनिंग ज्वैलरी और डिजाइन भी शोकेस किए जा रहे हैं।

Like Follow us on :- Twitter | Facebook | Instagram | YouTube

<div class="paragraphs"><p>JJS-2021लगे&nbsp;जूलरी बूथ</p></div>
"कोरोना की वजह से यूपी चुनाव पर लगे दो माह की रोक ",इलाहाबाद हाईकोर्ट ,जानिए किन परिस्थितियों में टल सकता है चुनाव

Related Stories

No stories found.
Since independence
hindi.sinceindependence.com