झारखंड कांग्रेस के 3 विधायक, गाड़ी में मिला 48 लाख कैश, बंगाल पुलिस ने पकड़ा

पश्चिम बंगाल के हावड़ा जिले में 3 विधायकों से 48 लाख मिले नकद । बंगाल पुलिस ने 30 जुलाई की रात को की कार्रवाई । तीनों विधायक का मिलने के बाद झारखंड कांग्रेस में हलचल तेज हो गई है
झारखंड कांग्रेस के 3 विधायक, गाड़ी में मिला 48 लाख कैश, बंगाल पुलिस ने पकड़ा

पश्चिम बंगाल के हावड़ा जिले में 3 विधायकों से 48 लाख नकद मिलने के बाद झारखंड कांग्रेस में हलचल तेज हो गई है । एक काले रंग की फॉर्च्यूनर कार से मिले नकदी को गिनने के लिए एक मशीन को मंगाया गया । पुलिस तीनों कांग्रेस विधायकों को हिरासत में लेकर पूछताछ कर रही है। झारखंड कांग्रेस विधायक दल के नेता आलमगीर आलम ने कहा कि कांग्रेस के तीन विधायकों को निलंबित कर दिया गया है ।

कांग्रेस के तीन विधायक थे गाड़ी में

हावड़ा सिटी पुलिस की डीसीपी साउथ प्रतीक्षा झाखरिया ने बताया कि वाहन में राजेश कच्छप, नमन विक्सेल कोंगारी और इरफान अंसारी सवार थे । मुखबिरों से सूचना मिली थी कि पंचला थाना क्षेत्र के रानीहाटी में एनएच-16 से निकलने वाली फॉर्च्यूनर में भारी मात्रा में नकदी है । हमने नाकाबंदी कर गाड़ी रोकी तो सूचना सही निकली।

कैश का असम कनेक्शन

पुलिस ने यह खुलासा नहीं किया है कि नकदी का स्रोत क्या है। यह जरूर सामने आ रहा है कि नकदी का कनेक्शन पूर्वोत्तर राज्य असम से है। वहीं पार्टी सूत्रों के मुताबिक कुछ दिन पहले झारखंड प्रदेश कांग्रेस कमेटी (जेपीसीसी) के एक पूर्व अध्यक्ष ने असम के एक कद्दावर बीजेपी नेता से मुलाकात की थी।

ये मुलाकात दिल्ली के एक फाइव स्टार होटल के बंद कमरे में हुई । उस मुलाकात के दौरान उनके साथ कांग्रेस नेता का बेटा भी था। पार्टी सूत्रों का दावा है कि बैठक के बाद कांग्रेस नेता ने खामोशी से अपना सारा खेल जमा दिया । इसमें मुख्य रूप से कांग्रेस के पांच विधायक शामिल हुए। इनमें से तीन को कोलकाता पुलिस ने शनिवार देर रात पकड़ लिया।

तीन विधायकों की विधानसभा सीट

हावड़ा पुलिस ने बताया कि जामताड़ा से इरफान अंसारी विधायक हैं, जबकि नमन विक्सल कोंगड़ी सिमडेगा के कोलेबिरा से विधायक हैं और राजेश कच्छप रांची जिले के खिजरी विधानसभा क्षेत्र से विधायक हैं । काले रंग की फॉर्च्यूनर गाड़ी बोकारो के नईम अंसारी के नाम पर पंजीकृत है ।

बंगाल पुलिस को नकद इनपुट मिला था

बंगाल पुलिस को कार में कैश मिलने की सूचना पहले ही मिल चुकी थी। यह इनपुट झारखंड और दिल्ली से मिला, जिसके बाद बंगाल पुलिस हरकत में आई। हालांकि, अभी तक तीनों में से किसी भी विधायक ने यह स्पष्ट नहीं किया है कि नकदी का स्रोत क्या है।

झारखंड कांग्रेस का दावा- सरकार को अस्थिर करने की साजिश

नकद वसूली के बाद झारखंड प्रदेश कांग्रेस कमेटी (जेपीसीसी) के अध्यक्ष राजेश ठाकुर ने कहा कि यह झारखंड सरकार को अस्थिर करने की साजिश है । आने वाले समय में चीजें और स्पष्ट होंगी। उन्होंने कहा कि पिछले महीने उद्धव ठाकरे सरकार के गिरने के साथ ही महाराष्ट्र में राजनीतिक उथल-पुथल देखने को मिली। झारखंड में भी ऐसी ही तस्वीर बनाने की कोशिश की जा रही है ।

Related Stories

No stories found.
Since independence
hindi.sinceindependence.com