Agnipath Scheme: ट्वीटर पर ट्रेंड कर रहा #ModiMustResign, सोशल मीडिया पर ट्रोल हुए PM मोदी

Agnipath Scheme Protest: सोशल मीडिया पर लोग सरकार की अग्नीपथ योजना का विरोध कर रहे है। इसके साथ ही ट्वीटर पर इन दिनों #ModiMustResign काफी ट्रेंड कर रहा है।
Agnipath Scheme: ट्वीटर पर ट्रेंड कर रहा #ModiMustResign, सोशल मीडिया पर ट्रोल हुए PM मोदी

Agnipath Scheme Protest: 14 जून को आई अग्निपथ योजना के बाद अब देश के कई राज्यों में इस योजना का विरोध हो रहा है। लंबे समय से सेना में जाने का सपना देखने वाले युवाओं का कहना है कि इससे उनके भविष्य के साथ खिलवाड़ होगा।

बिहार, उत्तरप्रदेश, राजस्थान सहित कई राज्यों में इस योजना के विरोध में हजारों युवक सड़कों पर उतर आएं है। उनका कहना है कि सरकार इस योजना को रद्द कर पुरानी भर्ती प्रक्रिया को फिर से लागू करे।

ऐसे में सड़को से उठा यह विरोध अब सोशल मीडिया पर भी भभकता दिख रहा है। इन दिनों इंटनेट मीडिया पर भी इस योजना का काफी विरोध किया जा रहा है।

ट्वीटर पर उठी मोदी के इस्तीफे की मांग

ट्वीटर पर इन दिनों Agnipath Scheme को लेकर कई मीम्स सामने आ रहे है। ऐसे में लोग सोशल मीडिया पर भी इस योजना का विराध करते नजर रहें है। इसी विरोध के चलते इन दिनों ट्वीटर पर नया हैशटैग #ModiMustResign ट्रेंड कर रहा है।

लोगों का कहना है कि सरकार इस योजना के माध्यम से छात्रों के भविष्य के साथ खिलवाड़ कर रही है। इस योजना से सेना में जाने का सपना देखने वाले लाखों युवाओं का ख्वाब अधूरा रह जाएगा।

Agnipath Scheme को लेकर वायरल हो रहे मीम्स
इन दिनों सोशल मीडिया पर Agnipath Scheme को लेकर कई मीम्स वायरल हो रहे हैं। इन मीम्स में प्रधानमंत्री मोदी को जमकर ट्रोल किया जा रहा है। एक यूजर ने ट्वीट करते हुए लिखा की जिस व्यक्ति ने सालाना 2 करोड़ युवाओं को जॉब देने की बात की थी वह अब 10 लाख लोगों को भी जॉब नहीं दे पा रहा है।

वहीं एक यूजर ने PM मोदी से इस योजना के माध्यम से आर्मी को बरबाद ना करने की अपील की है।

क्या है अग्निपथ योजना
अग्निपथ योजना की बात करें तो इस योजना में देश के लाखों युवाओं को 4 सालों के लिए जल, थल और वायु सेना में भर्ती किया जाएगा। सेना में भर्ती होने वाले वीरों को अग्निपथ के नाम से जाना जाएगा। भर्ती होने वाले सभी युवाओं को सेना के अलग-अलग फील्ड की ट्रेनिंग दी जाएगी। इस योजना के लिए आवेदक की उम्र 17 से 21 साल होगी। इसमें अग्निवीरों को 30-40 हजार सैलरी भी दी जाएगी।

क्यों हो रहा सरकार की इस योजना का विरोध

दरअसल, कोविड के चलते सेना की बहाली पर भी असर पड़ा था। पिछले 2 साल से सरकार सेना में भर्तियां नहीं कर पाई और कुछ भर्तियों के परिणाम लंबित पड़े रहे। ऐसे में सरकार ने अग्निपथ योजना को लॉन्च कर दिया जिससे पुरानी सभी भर्तीयों को भी इस योजना के दायरे में लेने का फैसला किया गया।

ऐसे में पुरानी भर्तियों के परिणाम का इंतजार कर रहे युवाओं को सरकार से नराजगी है। युवाओं का कहना है कि हम कड़ी मेहनत करने के बाद सेना में भर्ती होते हैं। ऐसे में किस हिसाब से 4 साल की नौकरी होगी क्योंकि सेना में 8 महीने की ट्रेनिंग और 6 महीने की छुट्टी होती है तो लगभग 1 साल तो ट्रेनिंग में ही निकल जाएगा,और बाकि बचे लगभग 3 साल में हम देश की क्या रक्षा करेंगे। सरकार को यह निर्णय वापस लेना होगा।

Related Stories

No stories found.
Since independence
hindi.sinceindependence.com