सरकार ने ASI को दिए कुतुब मीनार परिसर में खुदाई के आदेश की खबरों को नकारा

ऐसी खबरें आ रहीं थी कि संस्कृति मंत्रालय ने भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण (Archaeological Survey of India) को कुतुब मीनार की खुदाई का आदेश दिया है। इसके साथ ही वहां मिली मूर्तियों की आइकोनोग्राफी के लिए भी आदेश दिए गए हैं। इसके बाद सरकार ने इन खबरों को नकार दिया।
सरकार ने ASI को दिए कुतुब मीनार परिसर में खुदाई के आदेश की खबरों को नकारा

उत्तर प्रदेश के वाराणसी में स्थित ज्ञानवापी मस्जिद (Gyanvapi Mosque) को लेकर चल रहे विवाद के बीच ऐसी खबरें आ रही थी कि भारत सरकार के संस्कृति मंत्रालय ने एएसआई (Archaeological Survey of India) को कुतुब मीनार (Qutub Minar) परिसर में खुदाई करने का आदेश दिया है‚ जिसके बाद सरकार ने इस प्रकार कि किसी भी तरह की खबरों को सिरे से खारिज कर दिया है।

केंद्रीय संस्कृति मंत्री जी.के. रेड्डी ने कहा, "ऐसा कोई फैसला नहीं लिया गया है।" दरअसल, एएसआई के पूर्व क्षेत्रीय निदेशक धर्मवीर शर्मा का दावा था कि स्मारक को राजा विक्रमादित्य ने बनवाया था और यहां हिंदू देवताओं की मूर्तियां हैं।
ज्ञानवापी मस्जिद के सर्वे के बाद दिल्ली की कुतुब मीनार को लेकर विवाद खड़ा हो गया है। हिंदू देवी-देवताओं की मूर्तियों के मिलने का हवाला देते हुए यह दावा किया जा रहा है कि कुतुब मीनार का निर्माण हिंदू शासक राजा विक्रमादित्य ने करवाया था। इसके बाद ऐसी खबरें आई कि अब संस्कृति मंत्रालय ने भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण (Archaeological Survey of India) को कुतुब मीनार की खुदाई का आदेश दिया है। इसके साथ ही वहां मिली मूर्तियों की आइकोनोग्राफी के लिए भी आदेश देने की खबर आई थी।
सरकार ने ASI को दिए कुतुब मीनार परिसर में खुदाई के आदेश की खबरों को नकारा
ज्ञानवापी मस्जिद विवाद: क्या है पूजा स्थल अधिनियम? क्यों मुस्लिम पक्ष ने वाराणसी अदालत के आदेश को 1991 एक्ट का उल्लंघन बताया, इस माथापच्ची की जड़ क्या है?

खुदाई की रिपोर्ट ASI को सौंपने का आदेश

ये भी कहा जा रहा था कि एएसआई के पूर्व क्षेत्रीय निदेशक धर्मवीर शर्मा ने दावा किया कि कुतुब मीनार को राजा विक्रमादित्य ने बनवाया था न कि कुतुब अल-दीन ऐबक ने इसे विक्रमादित्य ने सूर्य की दिशा का अध्ययन करने के लिए बनवाया था।
ऐसा कहा जा रहा था कि संस्कृति मंत्रालय ने भी एएसआई को अपनी खुदाई रिपोर्ट सौंपने को कहा है। मीनार के दक्षिण में मस्जिद से 15 मीटर की दूरी पर खुदाई शुरू की जा सकती है। संस्कृति मंत्रालय के सचिव गोविंद मोहन ने अधिकारियों के साथ शनिवार को कुतुब मीनार का दौरा किया। इसके बाद फैसला लिया गया। बहरहाल सरकार ने भारतीय पुरातत्व विभाग (एएसआई) को कुतुब मीनार परिसर में खुदाई का आदेश देने की खबरों को नकारा है।
सरकार ने ASI को दिए कुतुब मीनार परिसर में खुदाई के आदेश की खबरों को नकारा
ज्ञानवापी मस्जिद विवाद: क्या है पूजा स्थल अधिनियम? क्यों मुस्लिम पक्ष ने वाराणसी अदालत के आदेश को 1991 एक्ट का उल्लंघन बताया, इस माथापच्ची की जड़ क्या है?

हिंदू संगठनों ने की विष्णु स्तंभ नाम रखने की मांग की

गोविंद मोहन ने तीन इतिहासकारों, चार एएसआई अधिकारियों और शोधकर्ताओं के साथ साइट का दौरा किया। एएसआई के अधिकारियों ने सचिव को बताया कि कुतुब मीनार परिसर में 1991 के बाद से कोई खुदाई कार्य नहीं किया गया है। आपको बता दें कि इससे पहले विश्व हिंदू परिषद (विहिप) के प्रवक्ता विनोद बंसल ने दावा किया था कि कुतुब मीनार वास्तव में एक 'विष्णु स्तंभ' था।
कई हिंदू संगठनों ने कुतुब मीनार का नाम बदलकर विष्णु स्तम्भ करने की मांग की है। हिंदू संगठनों की ओर से कहा गया है कि कुतुब मीनार के अंदर भगवान नरसिंह की 1200 साल पुरानी मूर्ति, भगवान गणेश और भगवान कृष्ण की मूर्तियां मिली थीं। कुतुब मीनार के अलावा महरौली के लालकोट किले और अनंगताल में भी खुदाई की जाएगी।
सरकार ने ASI को दिए कुतुब मीनार परिसर में खुदाई के आदेश की खबरों को नकारा
Thomas Cup विजेता लक्ष्य सेन से फेवरेट मिठाई लेकर खुश हो गए PM, तुरंत ले लिया डिब्बा

Related Stories

No stories found.
Since independence
hindi.sinceindependence.com