राम ध्वज लेकर अनामिका शर्मा ने विदेशी धरती पर 13 हजार फीट से लगाई छलांग, कहा- आस्था को सम्मान

Ram Mandir: USPA का C कैटेगरी का स्काई डाइविंग लाइसेंस प्राप्त कर चुकीं अनामिका ने थाईलैंड के रेयांग शहर में आसमान से 13000 फीट की ऊंचाई से जय श्रीराम के जयकारे के साथ छलांग लगाई।
राम ध्वज लेकर अनामिका शर्मा ने विदेशी धरती पर 13 हजार फीट से लगाई छलांग, कहा- आस्था को सम्मान
राम ध्वज लेकर अनामिका शर्मा ने विदेशी धरती पर 13 हजार फीट से लगाई छलांग, कहा- आस्था को सम्मान

Ram Mandir: अयोध्या में बन रहे भव्य राम मंदिर की प्राण प्रतिष्ठा को लेकर लोग तरह-तरह से अपनी आस्था और खुशी का इजहार कर रहे हैं।

संगमनगरी की 22 वर्षीय स्काई डाइवर अनामिका शर्मा ने भी विदेशी धरती पर राम मंदिर का ध्वज फहराते हुए अनूठे अंदाज में अपनी खुशी जाहिर की है।

अनामिका ने थाईलैंड में 13 हजार फीट की उंचाई से राम मंदिर के ध्वज के साथ स्काई डाइव कर अपनी आस्था और खुशी को दुनिया के सामने जाहिर किया है।

अनामिका की इस कामयाबी की शहर में खूब चर्चा हो रही है। बता दें कि थाईलैंड वही देश है जो, हनुमानजी को अपना रक्षक भी मानता है.

राम मंदिर ध्वज लेकर 13 हजार फीट की ऊंचाई से की Skydiving

UPCA (यूनाइटेड स्टेट पैराशूट एसोसिएशन) का C कैटेगरी का स्काई डाइविंग लाइसेंस प्राप्त कर चुकीं अनामिका ने एक पखवाड़े पहले ही रोडियो स्काई डाइव जंप कर इतिहास रचा था।

उन्होंने थाईलैंड के रेयांग शहर में आसमान से 13000 फीट की ऊंचाई से जय श्रीराम के जयकारे के साथ छलांग लगाई।

इस दौरान उनके हाथ में राम मंदिर का ध्वज भी था। ध्वज पर जय श्री राम लिखा था। अनामिका ने बताया कि प्रभु श्री राम की प्राण प्रतिष्ठा को लेकर वह बहुत उत्साहित हैं। भगवान राम के भव्य राम मंदिर को सम्मान देने के लिए ही उन्होंने ध्वज के साथ छलांग लगाई है।

अनामिका ने अपनी पहली स्काई डाइविंग महज दस वर्ष की उम्र में ही की थी, अब तक वह 300 स्काई डाइव पार कर चुकी हैं।

स्काई डाइविंग का हुनर अनामिका ने अपने पिता अजय शर्मा से सीखा है। वह भारतीय वायुसेना से सेवानिवृत्त जूनियर वारंट ऑफिसर, प्रशिक्षित कमांडो और प्रोफेशनल स्काई डाइवर हैं।

राम ध्वज लेकर अनामिका शर्मा ने विदेशी धरती पर 13 हजार फीट से लगाई छलांग, कहा- आस्था को सम्मान
Ram Mandir: प्राण प्रतिष्ठा पर प्रसाद में मिलेगा भक्तों को राम हलवा, 7 हजार किलो होगा तैयार

Related Stories

No stories found.
logo
Since independence
hindi.sinceindependence.com