Amrit Mahotsav 2022: ASI की बड़ी घोषणा, 5 से 15 अगस्त तक सभी स्‍मारक और संग्रहालयों में एंट्री नि:शुल्क

भारतीय पुरातत्‍व सर्वेक्षण ने सभी स्‍मारक, पुरातत्‍व स्‍थल और संग्रहालयों में एंट्री को नि:शुल्क करने का ऐलान किया है। 5 अगस्त से 15 अगस्त तक आजादी के 75 साल पूरे होने पर मनाए जा रहे अमृत महोत्सव के तहत यह ऐलान किया गया है।
Amrit Mahotsav 2022: ASI की बड़ी घोषणा, 5 से 15 अगस्त तक सभी स्‍मारक और संग्रहालयों में एंट्री नि:शुल्क

आजादी के 75 साल पूरे होने पर देश भर में आजादी का अमृत महोत्सव का आयोजन किया जा रहा है। इसी क्रम में आज भारतीय पुरातत्‍व सर्वेक्षण की तरफ से ऐलान किया गया है । अब अमृत महोत्सव के तहत 5 अगस्त से 15 अगस्‍त तक सभी स्‍मारक, पुरातत्‍व स्‍थल और संग्रहालयों में एंट्री को नि:शुल्क कर दिया गया है।

पुरातात्विक स्थलों और संग्रहालयों में प्रवेश निशुल्क

ASI के मेमोरियल-2 के निदेशक डॉ. एनके पाठक की ओर से 3 अगस्त को यह आदेश जारी किया गया है। कि 5 अगस्त से सभी स्मारकों, पुरातात्विक स्थलों और संग्रहालयों आदि को पर्यटकों के लिए पूरी तरह से नि:शुल्क किया जा रहा है। इस संबंध में सभी क्षेत्रीय निदेशकों और संबंधित अधिकारियों को आदेश भेज दिए गए हैं।

अमृत महोत्सव के तहत तिरंगा बाइक रैली का आयोजन

अमृत महोत्सव के तहत आज दिल्ली में केन्द्र सरकार के द्वारा तिरंगा बाइक रैली का आयोजन भी किया गया था। जिसमें सभी सांसदों को बुलाया गया था। दिल्ली के लाल किले, इंडिया गेट से संसद भवन तक इस तिरंगा मार्च में राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (एनडीए) के सभी सांसदों और मंत्रियों ने हिस्सा लिया था।

आजादी के 75 साल पूरे होने पर आजादी का अमृत महोत्सव

देश की आजादी के 75 साल पूरे हो होने जा रहे हैं। 15 अगस्त को देश की आजादी के 75 साल के मौके को खास बनाने के लिए सरकार की ओर से आजादी के अमृत महोत्सव के तहत कई तरह के कार्यक्रम आयोजित किए जा रहे हैं। आजादी के अमृत महोत्सव के तहत 3 अगस्त को दिल्ली में तिरंगा यात्रा निकाली गई। प्रधानमंत्री द्वारा हर-घर तिरंगा मुहिम भी चलाई जा रही है ।इसी के साथ आज भारतीय पुरातत्‍व सर्वेक्षण के द्वारा देश में स्मारक और संग्रालयों में 5 अगस्त से 15 अगस्त तक नि-शुल्क प्रवेश के आदेश जारी किए गए है। सरकार के द्वारा आजादी के 75 साल पूरे होने पर आजादी के अमृत महोत्सव को खास बनाने के लिए हरसंभव प्रयास किया जा रहा है।

Related Stories

No stories found.
Since independence
hindi.sinceindependence.com