Sammed Shikhar ji: केंद्र का बड़ा फैसला, पर्यटन पर लगाई तत्काल रोक; कमेटी भी बनाई

सम्मेद शिखरजी पर्वत क्षेत्र को अंतरराष्ट्रीय महत्व का पर्यटन स्थल घोषित किए जाने के खिलाफ जैन समाज लगातार प्रदर्शन कर रहा था, जिसके बाद अब केंद्र सरकार ने बड़ा फैसला लिया है। केंद्रीय मंत्री भूपेंद्र यादव ने बताया है कि पर्यटन, इको-टूरिज्म गतिविधियों पर तत्काल रोक लगा दी गई है।
Sammed Shikhar ji: केंद्र का बड़ा फैसला, पर्यटन पर लगाई तत्काल रोक; कमेटी भी बनाई

सम्मेद शिखरजी पर्वत क्षेत्र को अंतरराष्ट्रीय महत्व का पर्यटन स्थल घोषित किए जाने के खिलाफ जैन समाज लगातार प्रदर्शन कर रहा था, जिसके बाद अब केंद्र सरकार ने बड़ा फैसला लिया है। केंद्रीय मंत्री भूपेंद्र यादव ने बताया है कि पर्यटन, इको-टूरिज्म गतिविधियों पर तत्काल रोक लगा दी गई है।

उन्होंने यह भी बताया कि पारसनाथ क्षेत्र में शराब की बिक्री, तेज आवाज में गाने और मांस की बिक्री पर प्रतिबंध लगाया जा रहा है। इस फैसले के बाद जैन समाज ने खुशी जाहिर करते हुए सरकार के प्रति आभार व्यक्त किया है।

जैन समाज ने केंद्रीय मंत्री से की मुलाकात

दरअसल, लंबे समय से देश भर में जैन समाज के लोग आंदोलन कर रहे थे, उनकी मांग थी कि झारखंड के गिरिडीह जिले के पारसनाथ की पहाड़ी में स्थित सम्मेद शिखरजी को पर्यटन स्थल घोषित करने के फैसले को वापस लिया जाए। क्योंकि वहां मांस और शराब की बिक्री हो रही है. इसको लेकर जैन समाज के तमाम पदाधिकारियों ने पर्यटन मंत्री भूपेंद्र यादव से मुलाकात की। जिसके बाद उन्होंने जैन समुदाय को भरोसा दिलाया कि उनकी धार्मिक भावनाओं का ख्याल रखा जाएगा।

मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने लिखा था पत्र

मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने गुरुवार को केंद्रीय पर्यावरण, वन एवं जलवायु परिवर्तन विभाग मंत्री भूपेंद्र यादव को पत्र लिखा था। मुख्यमंत्री ने पत्र में जैन अनुयायियों की धार्मिक भावनाओं को ध्यान में रखते हुए पारसनाथ सम्मेद शिखर के संबंध में पर्यावरण, वन एवं जलवायु परिवर्तन मंत्रालय की अधिसूचना पर उचित निर्णय लेने का आग्रह किया था।

जैन समाज ने आंदोलन समाप्त कर दिया

पारसनाथ मामले में केंद्र सरकार ने एक कमेटी बनाई है। इस संबंध में कहा गया है कि राज्य सरकार जैन समुदाय के दो सदस्यों को समिति में शामिल करे, स्थानीय आदिवासी समुदाय के एक सदस्य को भी शामिल करें। कहा गया है कि 2019 की अधिसूचना पर राज्य कार्रवाई करे। पर्यटन, इको-टूरिज्म गतिविधियों पर तत्काल रोक लगा दी गई है।

इस फैसले के बाद जैन समाज का आंदोलन समाप्त हो गया है। जैन तीर्थ के प्रमुख ने कहा कि आज भूपेंद्र यादव जी से मुलाकात हुई, उसके बाद सभी समस्याओं का समाधान हो गया है। हमारी मांग मान ली गई है।

किन चीजों पर है बैन?

इस संबंध में पूरा ज्ञापन भी केंद्रीय मंत्री द्वारा सोशल मीडिया पर पोस्ट किया गया है, जिसमें बताया गया है कि पारसनाथ पर्वत क्षेत्र में नशीले पदार्थ व तमाम नशीले पदार्थ बेचना, लाउड म्यूजिक बजाना, लाउडस्पीकर का प्रयोग करना, प्रकृति को नुकसान पहुंचाने का काम करना, पालतू जानवरों को लाना , कैंपिंग और ट्रेकिंग की अनुमति नहीं होगी। इन सभी नियमों को सख्ती से लागू करने के निर्देश जारी किए गए हैं।

Sammed Shikhar ji: केंद्र का बड़ा फैसला, पर्यटन पर लगाई तत्काल रोक; कमेटी भी बनाई
Covid-19: सावधान! 'रूप' बदल डरा रहा कोरोना; India में मिले ओमिक्रॉन के 11 सब वैरिएंट
logo
Since independence
hindi.sinceindependence.com