Cough Syrup News: खांसी की दवा बनी जानलेवा, मीठे जहर ने लील ली 66 जानें

Cough Syrup News: अफ्रीकी देश गांबिया में कथित रूप से खाँसी की सीरप पीने के बाद 66 बच्चों की मौत हो गई है और इसके लिए विश्व स्वास्थ्य संगठन ने भारत की एक दवा निर्माता कंपनी को जिम्मेवार बताया है।
Cough Syrup News: खांसी की दवा बनी जानलेवा, मीठे जहर ने लील ली 66 जानें

ये खबर थोड़ी सी डराने वाली है, अक्सर होता है कि अगर हमारे घर में किसी को खांसी होती है तो हम बाजार से कफ सीरप ले आते है औऱ कई बार तो बिना डॉक्टर से कंसल्ट करे ही हम कफ सीरप का इस्तेमाल कर लेते हैं लेकिन कफ सीरप लेना अब जानलेवा भी साबित हो सकता है।

Cough Syrup News: गांबिया में 66 बच्चों की मौत

हाल ही में खबर आई है कि अफ्रीकी देश गांबिया में कथित रूप से खाँसी की सीरप पीने के बाद 66 बच्चों की मौत हो गई है और इसके लिए विश्व स्वास्थ्य संगठन ने भारत की एक दवा निर्माता कंपनी को जिम्मेवार बताया है।

WHO की चेतावनी के बाद दिल्ली स्थित केंद्रीय औषधि मानक नियंत्रण संगठन ने दवा कंपनी द्वारा बनाए जाने वाले इन कफ सिरप की जाँच का आदेश दिया है।

Cough Syrup News: WHO ने जारी किया अलर्ट

WHO ने बुधवार को भारत की फार्मास्युटिकल्स कंपनी के बनाए 4 कफ-सिरप को लेकर अलर्ट जारी किया है। WHO ने कहा कि ये प्रोडक्ट मानकों पर खरे नहीं हैं। बता दें कि जिन चार कफ सिरप को लेकर WHO चेतावनी जारी की है, वे हैं- प्रोमेथाजिन ओरल सॉल्यूशन (Promethazine Oral Solution), कोफेक्समालिन बेबी कफ सिरप (Kofexmalin Baby Cough Syrup), मकॉफ बेबी कफ सिरप (Makoff Baby Cough Syrup) और मैग्रीप एन कोल्ड सिरप (Magrip N Cold Syrup)।

Cough Syrup News: कंपाउड की ज्यादा मात्रा बनी खतरनाक

WHO ने रिपोर्ट में कहा है कि इन कफ-सिरप में डायथेलेन ग्लाईकोल (diethylene glycol) और इथिलेन ग्लाईकोल (ethylene glycol) की इतनी मात्रा है कि वजह इंसानों के लिए जानलेवा हो सकते हैं।

दरअसल, इन कंपाउंड की वजह से भारत में भी बच्चों समेत 33 लोगों की जान जा चुकी है, लेकिन इन कंपाउंड पर बैन नहीं लगाया गया है।

जिन कंपाउड का जिक्र इस रिपोर्ट में किया गया है वो कार्बन कंपाउड हैं और डाईईथाइलीन ग्लाइकोल औऱ ईथाईलीन ग्लाईकोल में न खुशबू होती है और न ही कलर होता है। ये मीठा होता है। बच्चों के सिरप में सिर्फ इसलिए मिलाया जाता है ताकि वो आसानी से पी सकें।

Cough Syrup News: भारत में हो चुकी हैं 33 मौत

आपको बता दें कि diethylene glycol और ethylene glycol कंपाउंड का दवाओं में इस्तेमाल अमेरिका, ऑस्ट्रेलिया और यूरोप में प्रतिबंधित है। लेकिन भारत में भी दो बार इन केमिकल कंपाउंड की वजह से त्रासदी आ चुकी है।

भारत में 1986 में मुंबई में 21 मरीजों की इसी कंपाउड से मौत हुई थी और हाल ही में 2020 में जम्मू कश्मीर के उधमनगर में 12 बच्चों की इसी कंपाउड की वजह से मौत हो गई।

इतने व्यापक और त्रासद परिणाम आने के बाद भी भारत में इन कंपाउड को बैन नहीं किया गया है। अगली बार जब आप खांसी की दवा लेने जाएं तो डॉक्टर से जरूर सलाह लें। इस खबर से डरने की बजाए जागरूक हों और अपने आसपास तक के लोगों तक इस खबर की जागरूकता को पहुंचाए।

Since independence
hindi.sinceindependence.com