तेजी से घूम रही धरती, समय बैलेंस करने के लिए नेगेटिव लीप सेकंड लेकिन गैजेट्स हो सकते हैं क्रैश..

पृथ्वी के अपने धुरी पर घूमने की गति अब बढ़ गई है। कंप्यूटर, मोबाइल जैसे गैजेट्स में समय की भरपाई के लिए अगर नेगेटिव लीप सेकेंड्स लगा दिए जाएं तो ये गैजेट्स क्रैश हो सकते हैं।
तेजी से घूम रही धरती, समय बैलेंस करने के लिए नेगेटिव लीप सेकंड लेकिन गैजेट्स हो सकते हैं क्रैश..

पृथ्वी के अपने धुरी पर घूमने की गति अब बढ़ गई है। यानी पृथ्वी अब 24 घंटे से भी कम समय में अपनी धुरी पर एक चक्कर पूरा कर रही है। एक दिन में अब 24 घंटे से कुछ मिलीसेकंड कम समय लगता है। कंप्यूटर, मोबाइल जैसे गैजेट्स में समय की भरपाई के लिए अगर नेगेटिव लीप सेकेंड्स लगा दिए जाएं तो ये गैजेट्स क्रैश हो सकते हैं। इसके फायदे नुकसान समझने से पहले ये समझते हैं कि ये क्या है ?

आखिर लीप सेकेंड क्या होता है

लीप ईयर के बारे में तो आप सभी जानते ही होंगे। हर 4 साल की तरह 1 दिन जोड़ा जाता है। इसी तरह, कभी-कभी 1 सेकंड जोड़ने की आवश्यकता होती है। लीप ईयर की तरह इसे लीप सेकेंड कहा जाता है।

पृथ्वी को 360 डिग्री घूमने में 86,400 सेकंड या 24 घंटे का समय लगता है, यानी एक चक्कर लगाने में, लेकिन अपनी धुरी पर गुरुत्वाकर्षण के कारण डगमगाने लगता है, जिसके कारण इसे एक सेकण्ड से भी कम समय लगता है। यदि इस समय को सही-सही मापा जाए तो यह वास्तव में 86,4000.002 सेकेंड के बराबर होता है।

ये प्रतिदिन 0.002 सेकेंड जमा करते रहते हैं और एक वर्ष में लगभग 2 मिलीसेकंड जुड़ जाते हैं। इस तरह से एक पूरा सेकंड लगभग 3 साल में बनता है, लेकिन यह इतना कम समय है कि कभी-कभी इसे पूरा करने में लंबा समय लग जाता है।

इसका असर यह होता है कि इंटरनेशनल एटॉमिक टाइम (IAT) के साथ इसका तालमेल गड़बड़ा जाता है। इसे ठीक करने के लिए कई बार 1 सेकंड जोड़कर घड़ियों के समय को ठीक किया जाता है।

तेजी से घूम रही है धरती

29 जून 24 घंटे से कम का दिन था, यानी अब तक का सबसे छोटा दिन। इस दिन पृथ्वी ने अपनी धुरी पर यह चक्कर 24 घंटे से भी कम समय में यानी 1.59 मिलीसेकंड (एक सेकंड के एक हजारवें हिस्से से थोड़ा ज्यादा) में पूरा किया था। वहीं, 26 जुलाई को पृथ्वी ने 1.50 मिलीसेकंड पहले एक चक्कर पूरा किया था।

क्या फायदा क्या नुकसान

रिपोर्ट के मुताबिक, अगर पृथ्वी लगातार तेज गति से घूमती रही तो एक नए नेगेटिव लीप सेकेंड की जरूरत पड़ेगी, ताकि घड़ियों की गति को सूरज के हिसाब से एडजस्ट किया जा सके।

निगेटिव लीप सेकेंड से भी बड़े नुकसान की आशंका जताई जा रही है। यह स्मार्टफोन, कंप्यूटर और अन्य संचार प्रणालियों की घड़ियों में गड़बड़ी पैदा कर सकता है। मेटा ब्लॉग की रिपोर्ट कहती है कि लीप सेकेंड वैज्ञानिकों और खगोलविदों के लिए फायदेमंद हो सकता है, लेकिन यह एक खतरनाक परंपरा है जिसके फायदे कम और नुकसान ज्यादा हैं।

ऐसा इसलिए है क्योंकि घड़ियाँ 23:59:59 के बाद 23:59:60 पर जाती हैं और फिर 00:00:00 बजे फिर से शुरू होती हैं। समय में यह परिवर्तन कंप्यूटर प्रोग्राम को क्रैश कर सकता है और डेटा को क्रैश कर सकता है क्योंकि यह डेटा टाइम स्टैम्प के साथ सहेजा जाता है।

मेटा ने बताया कि यदि एक नकारात्मक लीप सेकेंड जोड़ा जाता है, तो घड़ियां 23:59:58 से 00:00:00 बजे के बाद सीधे चली जाएंगी और इसके विनाशकारी परिणाम हो सकते हैं। इस समस्या को हल करने के लिए अंतर्राष्ट्रीय टाइमर को ड्रॉप सेकंड जोड़ने की जरूरत है।

अमेरिका की बड़ी टेक कंपनियों जैसे गूगल, एमेजॉन, मेटा और माइक्रोसॉफ्ट ने इसे खतरनाक बताते हुए लीप सेकेंड को खत्म करने की मांग की है।

कब कब जोड़ा गया लीप सेकंड

सौर समय और परमाणु समय के बीच के अंतर को खत्म करने के लिए कॉर्नेड यूनिवर्सल टाइम (UTC) बनाया गया है। इसे सुलझाने के प्रयास 1972 से चल रहे हैं। इससे पहले सूर्य और चंद्रमा की गति के आधार पर समय तय किया जाता था।

यदि एक लीप सेकेंड जोड़ा जाता है तो यह पहली बार नहीं होगा। यूटीसी जिस पर आधारित दुनिया भर की घड़ियों को 27 बार लीप सेकंड से बदला गया है। दरअसल, कुछ साल पहले तक यह माना जाता था कि पृथ्वी के अपनी धुरी पर घूमने की गति कम हो रही है।

यह 1973 तक परमाणु घड़ी से की गई गणना के बाद माना जाता था। इसके बाद इंटरनेशनल अर्थ रोटेशन एंड रेफरेंस सिस्टम्स सर्विस (IERS) ने लीप सेकेंड जोड़ना शुरू किया, जो 31 दिसंबर 2016 को 27वीं बार किया गया था।

तेजी से घूम रही धरती, समय बैलेंस करने के लिए नेगेटिव लीप सेकंड लेकिन गैजेट्स हो सकते हैं क्रैश..
GST Rules: एक अक्टूबर से जीएसटी के नियमों में बड़ा बदलाव, जाने किस पर क्या होगा असर

Related Stories

No stories found.
Since independence
hindi.sinceindependence.com