1952 से लेकर 2019 तक हुए लोकसभा चुनाव में केवल 12 ही निर्दलीय प्रत्याशी सांसद बने

Lok Sabha Elections: 1952 से लेकर 2019 तक 12 ही निर्दलीय प्रत्याशियों को लोकसभा में जीत मिली, करणी सिंह सर्वाधिक पांच बार बीकानेर से निर्दलीय सांसद चुने गए।
1952 से लेकर 2019 तक हुए लोकसभा चुनाव में केवल 12 ही निर्दलीय प्रत्याशी सांसद बने
1952 से लेकर 2019 तक हुए लोकसभा चुनाव में केवल 12 ही निर्दलीय प्रत्याशी सांसद बने

Assembly Elections में कई बार से निर्दलीय प्रत्याशी चुनाव जीतकर अपना दमखम दिखा रहे हों लेकिन लोकसभा चुनाव में निर्दलीय प्रत्याशियों की राह आसान नहीं है।

Lok Sabha Elections में भी अधिकांश सीटों पर निर्दलीय प्रत्याशी अपनी किस्मत आजमाते हैं, पर विधानसभा की तरह लोकसभा उन्हें जीत हासिल नहीं हो पाती है।

हालांकि राजस्थान में भी 1952 से अब तक कई ऐसे मौके आए हैं जब निर्दलीय प्रत्याशी भी लोकसभा के सांसद चुने गए हैं।

प्रदेश की 25 लोकसभा सीटों की बात करें तो यहां सीधा मुकाबला भाजपा-कांग्रेस के बीच ही रहता आया है।

हालांकि 2019 में भाजपा के समर्थन से हनुमान बेनीवाल रालोपा के बैनर तले लोकसभा सांसद चुने गए थे। प्रदेश में 1952 से लेकर 2019 तक हुए लोकसभा चुनाव में केवल 12 ही निर्दलीय प्रत्याशी लोकसभा सांसद चुने गए हैं।

अभी तक 12 ही निर्दलीय सांसद बने

प्रदेश में 1952 से लेकर 2019 तक हुए लोकसभा चुनाव में केवल 12 ही निर्दलीय प्रत्याशी लोकसभा सांसद चुने गए हैं।

जिन सीटों पर निर्दलीय प्रत्याशी लोकसभा सांसद चुने गए हैं उनमें बीकानेर, जयपुर, दौसा, नागौर, जोधपुर, अलवर, भरतपुर, पाली और जालोर सीटें हैं।

निर्दलीय प्रत्याशी को अंतिम बार जीत 2009 के लोकसभा चुनाव में मिली जब भाजपा के वरिष्ठ नेता और मौजूदा कैबिनेट मंत्री किरोड़ी लाल मीणा दौसा से निर्दलीय चुनाव जीते थे।

पहले आम चुनाव में 5 निर्दलीय सांसद

1952 में हुए पहले आम चुनाव में करणी सिंह बीकानेर, जसवंत राज मेहता जोधपुर, गिरिराज सिंह भरतपुर, भवानी सिंह जालोर और जनरल अजीत सिंह पाली से निर्दलीय लोकसभा सांसद चुने गए थे।

बीकानेर राज परिवार के पूर्व करणी सिंह पांच बार बीकानेर से निर्दलीय सांसद रहे हैं। वे 1952 से लेकर 1971 तक लगातार चुनाव जीतकर संसद पहुंचे।

पूर्व केंद्रीय गृहमंत्री और कांग्रेस के दिग्गज नेता रहे बूटा सिंह भी 1998 में टिकट कटने के बाद बागी होकर जालोर से निर्दलीय चुनाव लड़े और सांसद चुने गए थे।

करण सिंह पांच बार निर्दलीय सांसद

नाम--------------------- वर्ष-------- लोकसभा सीट

करणी सिंह-------- 1952 से 1971--- बीकानेर

हरिश्चंद्र शर्मा---------- 1957-------- जयपुर

जीडी सोमानी--------- 1957-------- नागौर

जसवंत राज मेहता---- 1952------- जोधपुर

कृष्णा कुमारी-------- 1971------- जोधपुर

काशीराम गुप्ता------ 1962------- अलवर

गिरिराज सिंह------- 1952-------- भरतपुर

जनरल अजीत सिंह-- 1952------- पाली

भवानी सिंह---------- 1952------ जालौर

बूटा सिंह---------- 1998------- जालौर

किरोड़ी लाल मीणा--2009------दौसा

1952 से लेकर 2019 तक हुए लोकसभा चुनाव में केवल 12 ही निर्दलीय प्रत्याशी सांसद बने
हल्द्वानी हिंसा के 30 कट्टरपंथी दंगाई गिरफ्तार: मुख्य आरोपी अब्दुल मलिक पुलिस की पकड़ से दूर, थाने से लूटे गए 99 कारतूस भी बरामद

Related Stories

No stories found.
logo
Since independence
hindi.sinceindependence.com