INDI Alliance: अखिलेश, केजरीवाल और अब ममता… कांग्रेस के खिलाफ ही खड़ा इंडि गठबंधन!

INDI Alliance: ये किसी ने नहीं सोचा था कि इंडि गठबंधन के नेता ही मोदी से ज्यादा कांग्रेस को निशाने पर लेने का काम करेंगे। लेकिन जो नहीं सोचा था, वैसे ही होता दिख रहा है।
INDI Alliance: अखिलेश, केजरीवाल और अब ममता… कांग्रेस के खिलाफ ही खड़ा इंडि गठबंधन!

Discord in India Alliance: इंडिया गठबंधन की नींव मोदी को हराने के लिए रखी गई थी। बिहार के ही मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने सबसे पहले उस एकजुटता की कवायद की थी, लगातार दिल्ली के दौरे किए थे और तब जाकर अलग-अलग विचारधारा वाले कई दल साथ आए थे। उसमें ममता से लेकर लेफ्ट तक को शामिल कर लिया गया था। पहले मांग उठी थी कि बिना कांग्रेस के ही थर्ड फ्रंट बनाया जाए, लेकिन नीतीश के प्रयासों ने ही कांग्रेस को भी साथ रखा और विपक्षी एकता की रूपरेखा तैयार हुई।

कैसे अकेले होती चली गई कांग्रेस?

लेकिन अब जब लोकसभा चुनाव बिल्कुल करीब है, यही इंडिया गठबंधन बिखराव का शिकार हो गया है। नीतीश कुमार ने फिर पलटी मार ली है और देश की सबसे पुरानी पार्टी कांग्रेस के लिए मुश्किलें खत्म होने का नाम नहीं ले रहीं। ये बात सभी को पता थी कि कांग्रेस को ही इस इंडिया गठबंधन में सबसे ज्यादा कुर्बानियां देनी पड़ेंगी, ये भी साफ था कि वो पहले की चुनावों की तुलना में कम सीटों पर चुनाव लड़ेगी। लेकिन ये किसी ने नहीं सोचा था कि इंडिया गठबंधन के नेता ही मोदी से ज्यादा कांग्रेस को निशाने पर लेने का काम करेंगे। लेकिन जो नहीं सोचा था, वैसे ही होता दिख रहा है।

अब ममता ने क्यों दे डाली चुनौती?

पिछले कुछ दिनों ने इंडिया गठबंधन के अंदर तल्ख माहौल को चरम पर पहुंचा दिया है। बात सबसे पहले बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी की ही करनी चाहिए जिन्होंने अब तक का सबसे बड़ा प्रहार कांग्रेस पर कर दिया है। जब से बंगाल में कांग्रेस के साथ सीट शेयरिंग फेल हुई है, ममता के हमले लगातार जारी हैं। लेटेस्ट बयान में उन्होंने कहा है कि मैं नहीं मानती कि कांग्रेस 300 में से 40 सीट भी जीत पाएगी या नहीं। पहले ये पार्टी जहां जीत भी जाती थी, अब तो वहां भी हार ही रही है। अगर हिम्मत है तो बनारस में बीजेपी को हरा कर दिखाएं।

केजरीवाल भी कांग्रेस के लिए सिरदर्दी

ये एक ऐसा राज्य है जहां पर कुछ साल पहले तक कांग्रेस की सरकार थी, प्रचंड बहुमत के साथ बनी थी। लेकिन आम आदमी पार्टी की आंधी ने उसका सफाया कर दिया। अब सत्ता पलट चुकी है, भगवंत मान की अगुवाई में आप की सरकार चल रही है। विश्वास इतना ज्यादा है कि सारी सीटों पर जीतने का दम भरा जा रहा है।

कांग्रेस से गठबंधन करने को लेकर कोई रेडी नहीं, यानी कि ये राज्य भी फंस गया। राजधानी चले जाएं तो वहां तो अरविंद केजरीवाल किसी भी कीमत पर कांग्रेस को फिर पैर जमाने का मौका नहीं देना चाहते। कॉमन लिंक तो ये भी है कि यहां भी कांग्रेस की ही सरकार उखाड़कर सत्ता में आया गया है।

अखिलेश ने भी कर दिया खेला

ऐसे में इंडिया गठबंधन के तमाम बड़े नेता कांग्रेस को ज्यादा बारगेनिंग पावर देने की स्थिति में ही नहीं हैं। इसी वजह से उत्तर प्रदेश में अखिलेश यादव ने भी पहले ही 16 लोकसभा सीटों पर अपने उम्मीदवार उतार दिए। वहां भी तीन ऐसी सीटों पर भी प्रत्याशी खड़े किए जहां से कांग्रेस टिकट चाहती थी। बात चाहे फर्रुखाबाद की हो या उन्नाव और अयोध्या की, इन सीटों पर कांग्रेस दावा ठोक रही थी। लेकिन अखिलेश ने बिना कांग्रेस से चर्चा किए उसे सिर्फ 11 सीटें देने का ऐलान कर दिया। ये बताने के लिए काफी है कि इंडिया गठबंधन में क्या खिचड़ी पक रही है।

Related Stories

No stories found.
logo
Since independence
hindi.sinceindependence.com