भारत पहाड़ो में बजाएगा दुश्मन की तबाही का “सारंग”

सारंग का ये वर्जन पहाड़ो में छिपे दुश्मन ठिकानों को तबाह कर सकता है और किसी भी आर्टिलरी गन पर भारी पड़ सकता है
भारत पहाड़ो में बजाएगा दुश्मन की तबाही का “सारंग”

भारत ने बोफोर्स के भरोसे कारगिल जीता लेकिन अब देश के पास खुद की तोप है जिसका नाम है सारंग । यूं तो सारंग को भारतीय सेना में कई सालों से है लेकिन आज इसकी बात इसलिए की जा रही है क्योंकि सारंग तोप का नया वर्जन तैयार है। सारंग का ये वर्जन पहाड़ो में छिपे दुश्मन ठिकानों को तबाह कर सकता है और किसी भी आर्टिलरी गन पर भारी पड़ सकता है ।

युद्ध के लिए तैयार है सारंग

सारंग के इस नए वर्जन को उत्तर प्रदेश में कानपुर की एडवांस्ड वेपन्स एंड इक्विपमेंट इंडिया लिमिटेड ने बनाया है। रिपोर्ट्स के मुताबिक यह तोप सेना की तीन यूनिट्स में शामिल हो चुकी है, जबकि चौथी यूनिट में भी अक्टूबर तक शामिल हो जाएगी।

वहीं बता दें कि जून के अंतिम सप्ताह में सेना ने राजस्थान के पोकरण और महाजन रेंज में लगातार फायरिंग से इसका परीक्षण किया था। इसमें एक हजार गोले दागे गए थे। अब यह तोप युद्ध के लिए तैयार हो गई है।

ये है सारंग की खूबियां

इस सारंग के वर्जन में कई खूबियां है । शुरूआत अगर इसके माप से करें तो ये 11 मीटर लम्बी, 2.45 मीटर चौड़ी और 2.55 मीटर ऊंची है। वहीं इस तोप में 155 मिलीमीटर का कैलिबर है, इसकी मारक क्षमता 38 किलोमीटर है। इसका वजन 8 टन है। बता दें कि तोप लक्ष्य को बेहद सटीकता के साथ ध्वस्त करती है।

सेना को सौंपी गई 54 तोपें

इस तोप में लगातार गोले दागने की क्षमता है। इस तोप के पास पहाड़ों में छिपे दुश्मनों को तबाह करने की विशेष क्षमता है। सारंग को 70 डिग्री तक घुमाया जा सकता है। अब तक सेना को 54 सारंग तोप दी जा चुकी हैं।

भारत पहाड़ो में बजाएगा दुश्मन की तबाही का “सारंग”
मदरसा शिक्षाः अब TET शिक्षक ही पढ़ा सकेंगे यूपी में, आधुनिक शिक्षा पर जोर

Related Stories

No stories found.
Since independence
hindi.sinceindependence.com