दिव्यांग बच्चे को मां ने पीटा: एयरपोर्ट पर बच्चा घबरा रहा था,बच्चे को फ्लाइट में न बिठाने का वीडियो भी हुआ था VIRAL

सोमवार को जब दिव्यांग बच्चे को इंडिगो विमान में चढ़ने से रोका गया था तो इसका (Ranchi Airport Viral Video) वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया था। उसके बाद केंद्रीय नागरिक उड्डयन मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया के संज्ञान में आने के बाद सिंधिया ने कहा था कि ये विमान कंपनी का ये बिहेवियर किसी भी सूरत में बर्दाश्त नहीं किया जा सकता। इसके बाद एयरलाइन के CEO को मामले पर माफी मांगनी पड़ी थी।
दिव्यांग बच्चे को मां ने पीटा: एयरपोर्ट पर बच्चा घबरा रहा था,बच्चे को फ्लाइट में न बिठाने का वीडियो भी हुआ था VIRAL

Ranchi Airport Viral Video: रांची एयरपोर्ट पर चार दिन पहले एक दिव्यांग बच्चे को इंडिगो एयरलाइंस की फ्लाइट में बैठाने से रोकने को लेकर एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुआ था। अब इसी बच्चे और उसके माता पिता का एक ओर वीडियो वायरल हो रहा है। वीडियो (Ranchi Airport Viral Video) में दिव्यांग बच्चे के पिता एक ओर उसे समझाकर मना रहे हैं तो वहीं उसकी मां उसे पीट रही है। ये घटना 7 मई की है।

बता दें कि सोमवार को जब दिव्यांग बच्चे को इंडिगो विमान में चढ़ने से रोका गया था तो इसका वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया था। उसके बाद केंद्रीय नागरिक उड्डयन मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया के संज्ञान में आने के बाद सिंधिया ने कहा था कि ये विमान कंपनी का ये बिहेवियर किसी भी सूरत में बर्दाश्त नहीं किया जा सकता। इसके बाद एयरलाइन के CEO को मामले पर माफी मांगनी पड़ी थी।

ये था पूरा मामला

दरअसल शनिवार को दिव्यांग किशोर माता-पिता के साथ रांची एयरपोर्ट पहुंचा था। ऐसे में दिव्यांग होने के कारण बच्चे को इंडिगो की रांची-हैदराबाद उड़ान में चढ़ने से रोक दिया गया। इसके बाद दिव्यांग के माता-पिता ने भी विमान में यात्रा न करने का फैसला किया था। ये पूरा वाकया सोशल मीडिया पर उसी दिन वायरल हो गया। जिसके बाद ये बात केंद्रीय नागरिक उड्डयन मंत्री पहुंची।

मंत्री की फटकार के बाद एयरलाइन ने मांगी थी माफी

मामले ने तूल पकड़ा तो इंडिगो एयरलाइन ने अपने CEO रोनोजॉय दत्ता के हवाले से सोमवार को स्टेटमेंट जारी करने को कहा। इस बयान में कहा गया कि 7 मई को रांची एयरपोर्ट पर दुर्भाग्यपूर्ण वाकया हुआ, जब एक दिव्यांग टीनेजर और उसके माता-पिता हैदराबाद की फ्लाइट में नहीं चढ़ सके...। इंडिगो के सभी कर्मचारी इस वाकए को लेकर शर्मिंदा हैं...। इंडिगो ने कहा कि अप्रैल 2022 से लेकर अब तक हमने करीब 75 हजार दिव्यांगों को लेकर उड़ान भरी है...। हमारे क्रू और एयरपोर्ट स्टाफ को दिव्यांगों से व्यवहार करने की खास ट्रेनिंग दी जाती है..., जिससे खास जरूरतों वाले यात्रियों को बेहतर ट्रीटमेंट दिया जा सके।'
एयरलाइन कंपनी ने ये दिया था स्टेटमेंट
कंपनी ने बयान में आगे कहा कि 'चेक-इन और बोर्डिंग प्रॉसेस के वक्त हम जाहिर तौर पर परिवार को ले जाना चाहते थे, लेकिन बोर्डिंग एरिया में टीनेजर काफी घबरा गया था...। हालांकि यात्रियों को विनम्र और सहानुभूति से ट्रीट करना हमारी सबसे पहली प्राथमिकता और जिम्मेदारी है..., लेकिन सेफ्टी गाइडलाइन्स को देखते हुए एयरपोर्ट स्टाफ को एक मुश्किल और कड़ा फैसला लेना पड़ा...। घटना के सारे पहलुओं की जांच करने के बाद..., एक संस्थान के तौर पर हम इस नतीजे पर पहुंचे हैं... कि मुश्किल घड़ी में हमने सबसे बेहतर निर्णय लिया....।'

यात्री ने सोशल मीडिया पर शेयर किया था वाकये का वीडियो

बता दें कि मनीषा गुप्ता नाम की एक यात्री ने सोशल मीडिया पर इस पूरी घटना के बारे में विस्तार से बताया था। उन्होंने लिखा था कि ...शनिवार को रांची एयरपोर्ट पर एक दिव्यांग बच्चा फ्लाइट में चढ़ने से डर रहा था...। उसके माता-पिता उसे शांत करने में लगे थे...। इस बीच इंडिगो कर्मियों ने बच्चे को विमान में चढ़ाने से मना कर दिया...। उन्होंने तर्क दिया कि इससे अन्य यात्रियों को खतरा है...।

अन्य यात्रियों ने भी एयरलाइन के निर्णय का किया था विरोध

गुप्ता ने बताया कि दूसरे यात्रियों ने इंडिगो एयरलाइन स्टाफ के इस निर्णय का विरोध किया था। अन्य यात्रियों ने SC के फैसले के बारे में भी स्टाफ को अवगत कराया था, जिसमें कहा गया है कि कोई भी एयरलाइन कंपनी दिव्यांग यात्रियों के खिलाफ भेदभाव नहीं कर सकती। प्लेन में डॉक्टरों का भी ग्रुप था, जिसने बीच रास्ते में बच्चे को कोई दिक्कत होने पर मदद करने की पेशकश की थी। इसके बावजूद इंडिगो कर्मियों ने बच्चे को विमान में नहीं चढ़ने दिया।

Related Stories

No stories found.