अब SC के वकील को धमकी, पत्र में लिखा 'अल्लाह का पैगाम है विनीत जिंदल तेरा भी सर तन से जुदा करेंगे जल्दी'

सुप्रीम कोर्ट के वकील विनीत जिंदल के घर पत्र भेज कर जान से मरने की धमकी मिली है। विनीत ने अजमेर दरगाह से जुड़े सरवर चिश्ती के बेटे आदिल चिश्ती के खिलाफ FIR दर्ज करवाई थी।
अब SC के वकील को धमकी, पत्र में लिखा 'अल्लाह का पैगाम है विनीत जिंदल तेरा भी सर तन से जुदा करेंगे जल्दी'

सुप्रीम कोर्ट के वकील विनीत जिंदल को सर कलम करने की धमकी मिली है। विनीत के घर किसी ने एक लेटर भेजा है, जिसमें सर तन से जुदा करने की धमकी दी गई है। उन्होंने अपने और परिवार की जान को खतरा बताते हुए पुलिस को शिकायत दी है। पुलिस ने केस दर्ज करके जांच शुरू कर दी है। बता दें कि विनीत ने पिछले दिनों हिंदू देवी-देवताओं के अपमान का आरोप लगाते हुए अजमेर दरगाह से जुड़े सरवर चिश्ती के बेटे आदिल चिश्ती के खिलाफ FIR दर्ज करवाई थी।

पुलिस ने बताया है कि विनीत जिंदल को पहले से ही दिल्ली पुलिस ने सिक्योरिटी दी हुई है, उनकी सुरक्षा में एक PSO दिल्ली पुलिस का तैनात किया गया है। वहीं मीडिया से बात करते हुए विनीत जिंदल ने बताया कि उनके घर में एक सीसीटीवी कैमरा लगा हुआ है। वो 24 घंटे काम करता है लेकिन पर्चा फेंकने वाले का चेहरा कैमरे में कैद नहीं हो पाया है।

धमकी पत्र में लिखा - 'अल्लाह का पैगाम है विनीत जिंदल तेरा भी सर तन से जुदा करेंगे जल्दी '

अल्लाह का पैगाम है 'सर तन से जुदा'

जिंदल ने मंगलवार रात धमकी पत्र की फोटो ट्वीट करते हुए लिखा कि आज जिहादियों ने मेरा भी सर तन से जुदा करने की धमकी दी है। यह पत्र मेरे घर पर भेजा गया है। मेरी और मेरे परिवार की जान को खतरा है। यह बात पहले ही दिल्ली पुलिस मान चुकी है। सीपी दिल्ली और डीसीपी नॉर्थ वेस्ट से आग्रह है कि इस पर कार्रवाई करें। इस पत्र में लिखा है ''अल्लाह का पैगाम है विनीत जिंदल तेरा भी सर तन से जुदा करेंगे जल्द ही।''

कई विदेशी नंबरों से मिल चुकी धमकी

बता दें कि इससे पहले भी वकील विनीत जिंदल को देश-विदेश के कई नंबरों से जान से मारने की धमकी मिली है। उन्होंने पिछले दिनों अजरमेर दरगाह से जुड़े खादिम आदिल चिश्ती के खिलाफ दिल्ली पुलिस को शिकायत दी थी। माना जा रहा है कि इसी को लेकर उन्हें धमकी दी गई है। हालांकि दिल्ली पुलिस अभी मामले की जांच कर रही है।

यह सिलसिला आखिर कब तक

'सर तन से जुदा' को अल्लाह का पैगाम बताने वाली यह जिहादी सोच अपनी पूरी कौम को कटघरे में खड़ा कर देती है लेकिन यह कोई मजाक नहीं है कि जब मन चाहे किसी को भी जान से मरने कि धमकी दे दो। 'जिओ और जीने दो' वाले भारत में इस तरह कि कट्टरता बिलकुल बर्दाश्त करने लायक है। देश के नायकों को इस तरह की जिहादी सोच के खिलाफ ठोस कदम उठाने की बहुत जरूरत है।

Since independence
hindi.sinceindependence.com