...तो अब सुअरों के माध्यम से पैर पसार रहा 'African Swine Fever'

भोपाल स्थित राष्ट्रीय उच्च सुरक्षा पशु रोग संस्थान में भेजे गए सैंपल, दो farms के सूअरों में 'अफ्रीकन स्वाइन फीवर' की पुष्टि हुई ।
...तो अब सुअरों के माध्यम से पैर पसार रहा 'African Swine Fever'

जहा एक तरफ देश के कई राज्यों में कोरोना के मामले फिर बढ़ रहे हैं । तो, वहीं केरल से एक ऐर बुरी खबर आ रही है जिसने सभी को चिंता में डाल दिया है । खबर केरल के वायनाड से है। जिले के मनंतावडी में 'अफ्रीकन स्वाइन फीवर' के मामले दो पशुपालन केंद्रों से सामने आए हैं। जब भोपाल स्थित राष्ट्रीय उच्च सुरक्षा पशु रोग संस्थान में इन सैंपलों को जांच के लिए भेजा गया तो दो farms के सूअरों में 'अफ्रीकन स्वाइन फीवर' की पुष्टि हुई ।

एक सात कई सुअरों की मौत

स्थानिय अधिकारियों के अनुसार एक सात कई सुअरों की मौत हो गई । जिसके कारण सैंपल जांच के लिए भोपाल भेजे गए । जांच रिपोर्ट में अफ्रीकी स्‍वाइन फ्लू होने की पुष्टि हुई, 'अफ्रीकन स्वाइन फीवर' के चलते दूसरे केंद्र में मौजुद 300 सूअरों को मारने के आदेश भी दिए गए हैं । इस पर सफाई देते हुए पशुपालन विभाग ने कहा की यह कदम बीमारी को रोकने के लिए दिया गया हैं ।

बरेली से आया था इस तरह का पहला मामला

सबसे पहले बरेली से इस तरह का पहला मामला देखने को मिला था । जिसके बाद केंद्र सरकार के द्वारा भी चेतावनी जारी करते हुए जैव सुरक्षा उपायों पर विशेष तौर ध्यान देने की बात कही गई थी । एक रिपोर्ट की माने तो बिहार के साथ-साथ पूर्वोत्तर के कुछ राज्यों से 'अफ्रीकन स्वाइन फीवर' के मामले देखने को मिले थे । जानकारों का मानना है कि अफ्रीकन स्‍वाइन फ्लू में काफी तेजी से सक्रमंण फैलता है और ये घातक बीमारी है।

देश में बड़ी सख्या में होता है सुअर पालन

पंजाब में करीब 1200 से 1300 किसान सुअर पालन करते हैं। देश में सुअर पालन करने वालों की सख्या भी लाखों में है । जिसके चलते इस व्यापार से संबध रखने वालों के चेहरे पर चिंता की लकीरें साप देखी जा सकती है

Related Stories

No stories found.
Since independence
hindi.sinceindependence.com