Tripura: भारत-बांग्‍लादेश सीमा पर बीएसएफ की उग्रवादियों से मुठभेड़, एक जवान गंभीर रूप से घायल

अधिकारियों ने बताया, बीएसएफ की एक टीम कंचनपुर अनुमंडल के सीमा-II सीमा चौकी इलाके में ऑपरेशन वर्चस्व अभियान में लगे हुए थे, तभी बांग्लादेश की सीमा की तरफ से गोलीबारी शुरू हो गई। इस मुठभेड़ में एक जवान घायल हो गया।
Tripura: भारत-बांग्‍लादेश सीमा पर बीएसएफ की उग्रवादियों से मुठभेड़, एक जवान गंभीर रूप से घायल

उत्तरी त्रिपुरा के कंचनपुर अनुमंडल में भारत-बांग्लादेश की सीमा पर प्रतिबंधित उग्रवादी संगठन नेशनल लिबरेशन फ्रंट ऑफ त्रिपुरा (NLFT) के संदिग्ध उग्रवादियों के साथ आज शुक्रवार को हुई भीषण मुठभेड़ में बीएसएफ का एक जवान गंभीर रूप से घायल हो गया है। बीएसएफ के अधिकारियों से मिली जानकारी के अनुसार घायल हुए जवान की पहचान गिरीश कुमार के रूप में हुई है जो बीएसएफ के 145वीं बटालियन में तैनात हैं। उन्‍होंने एयरलिफ्ट कर उपचार के लिए ले जाया गया है।

पुलिस अधीक्षक (SP) किरण कुमार के ने समाचार एजेंसी पीटीआई को बताया, 'बांग्लादेश के पहाड़ी रांगामाटी जिले के जुपुई इलाके से भारी हथियारों से लैस आतंकवादियों के एक समूह ने बीएसएफ जवानों पर गोलियां चलाईं। जवानों ने इस पर जवाबी कार्रवाई की, जिससे दोनों पक्षों के बीच भीषण मुठभेड़ हुई।' इस वक्‍त घटनास्‍थल पर मौजूद एसपी कुमार ने कहा, इस ऑपरेशन में बीएसएफ के एक जवान को चार गोलियां लगीं। उन्‍होंने कहा, आतंकवादी हमारा ज्‍यादा कुछ नुकसान नहीं कर पाए क्‍योंकि जवानों में आपसी समझ से उनका मुकाबला किया था।

अधिकारी ने बताया, घटना के बाद भारत-बांग्लादेश सीमा पर सुरक्षा बढ़ा दी गई है। क्षेत्र पर प्रभाव बढ़ाने का काम काफी तेजी से हो रहा है। हम आवश्यक कार्रवाई के लिए बॉर्डर गार्ड्स बांग्लादेश (बीजीबी) के साथ इस मुद्दे पर बातचीत करेंगे।

इसी माह की शुरुआत में भी हो चुका हमला

गौरतलब है कि इसी महीने की शुरुआत में त्रिपुरा में भारत-बांग्लादेश की अंतर्राष्ट्रीय सीमा पर NLFT के उग्रवादियों ने घात लगाकर हमला किया था जिसमें एक सब इंस्पेक्टर समेत सीमा सुरक्षा बल (BSF) के दो जवान शहीद हो गए थे। इस मुठभेड़ में सब इंस्पेक्टर भारु सिंह और कांस्टेबल राज कुमार का गंभीर रूप से घायल होने के बाद निधन हो गया था। इतना ही नहीं, उग्रवादी शहीद जवानों के हथियार लेकर भाग गए थे।

Tripura: भारत-बांग्‍लादेश सीमा पर बीएसएफ की उग्रवादियों से मुठभेड़, एक जवान गंभीर रूप से घायल
आतंक के साये में अपनी जन्मभूमि पर तीन दशक से डटे हुए हैं कश्मीरी पंडितों के कुछ परिवार, हर समय रहता है मौत का खौफ
Since independence
hindi.sinceindependence.com