रेप मामले पर प्रज्ञा ठाकुर: कहा- नौकरी के लालच में महिला ने खुद को सौंपा तो उसकी भी गलती, डेढ़ साल बाद क्यों कराई शिकायत

भाजपा सांसद का एक वीडियो सामने आया है। जिसमें वे कह रही हैं कि हम जिस विभाग में काम करते हैं वो हमारे लिए मां समान होता है...। लेकिन ध्यान रखना चाहिए कि माता कभी बदनाम न हो...। सांसद प्रज्ञा ठाकुर ने भोपाल में रेलवे के एक कार्यक्रम में कहा कि ये महिला की भी गलती है कि उसने खुद को समर्पित कर दिया...
रेप मामले पर प्रज्ञा ठाकुर: कहा- नौकरी के लालच में महिला ने खुद को सौंपा तो उसकी भी गलती, डेढ़ साल बाद क्यों कराई शिकायत
Photo | ANI
एमपी की राजधानी भोपाल से भाजपा सांसद साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर (sadhvi pragya singh thakur) का एक रेप पीड़िता को लेकर दिया गया स्टेटमेंट विवादों में आ गया है। दरअसल रेलवे में ADRM पद पर तैनात गौरव सिंह के खिलाफ एक महिला सहकर्मी ने दुष्कर्म का आरोप लगाते हुए मामला दर्ज कराया है। मामले में प्रज्ञा ठाकुर ने बयान दिया कि नौकरी के लालच में रेप पीड़ित महिला ने अपने आप को उस अधिकारी को समर्पित कर दिया। फिर एक साल-डेढ़ साल के बाद आप उसकी शिकायत कर रहे हो। मुझे लगता है यह गलत है। हालांकि सांसद ने कहा कि यदि पीड़िता खुद को शोषित महसूस कर रही थी तो मेरे संज्ञान में ये बात लानी चाहिए थी। मैं यहां से सांसद हूं, प्रदेश में भी बीजेपी की सरकार है और केंद्र में भी हमारी पार्टी की सरकार है.... और मोदी जी के राज में महिलाएं सु​रक्षित हैं।
गौरतलब है कि भाजपा सांसद का एक वीडियो सामने आया है। जिसमें वे कह रही हैं कि हम जिस विभाग में काम करते हैं वो हमारे लिए मां समान होता है...। लेकिन ध्यान रखना चाहिए कि माता कभी बदनाम न हो...। उन्होंने कहा कि मैंने आज अखबार में खबर पढ़ी कि गौरव सिंह नाम के एक सीनियर अधिकारी ने एक महिला सहकर्मी को नौकरी का लालच देकर उसका शोषण किया...।
भाजपा सांसद ने कहा कि ये महिला की भी गलती है कि उसने खुद को समर्पित कर दिया... पुरुष होने का दंड किसी को नहीं मिलना चाहिए
दरअसल 21 मई को सांसद साध्वी प्रज्ञा ऑल इंडिया ट्रेन कंट्रोलर एसोसिएशन के प्रोग्राम में पहुंची थीं। साध्वी प्रज्ञा ने कहा कि इसमें कहीं न कहीं महिला की भी गलती मुझे लगती है। यदि किसी ने लालच दिया है... और आपने खुद को उसे सौंप दिया..., यह सही नहीं है...। पुरुष होने का दंड किसी को नहीं मिलना चाहिए...। भाजपा सांसद ने कहा, “महिला यदि शिकायत करती तो मोदी जी के शासन में उसकी सुनवाई जरूर होती..।
साध्वी प्रज्ञा ने कहा कि एमपी में भाजपा की सरकार है...। लेकिन शिकायत करने से पहले ही महिला ने लालच में आकर खुद को अधिकारी का सौंप दिया दिया। उन्होंने कहा कि नियुक्ति महिला का अधिकार था और पीड़ित महिला को वरिष्ठ अधिकारियों के पास इसकी शिकायत करने जरूर जाना चाहिए था और शोषण के खिलाफ शिकायत करनी चाहिए थी...।

ये था महिला का आरोप

हाल ही में रेलवे के ADRM गौरव सिंह पर एक महिला रेलकर्मी ने दुष्कर्म का आरोप लगाया था। महिला का आरोप था कि रेलवे में अनुकंपा नियुक्ति का लालच देकर ADRM ने नौकरी लगने के बाद भी उसका शोषण करना जारी रखा।

Related Stories

No stories found.
Since independence
hindi.sinceindependence.com