एक कलाकार ने दिया भारतीयता का संदेश, धर्म और संप्रदाय से ऊपर होती है कला

लोकरंग कार्यक्रम में एक ही मंच पर दिख रही पूरे देश की सांस्कृति झलक
एक कलाकार ने दिया भारतीयता का संदेश, धर्म और संप्रदाय से ऊपर होती है कला

मैसूरी के टीपू सुल्तान के किरदार में अलवर का कलाकार

डेस्क न्यूज. जयपुर के जवाहर कला केंद्र में "लोकरंग" कार्यक्रम 2021 चल रहा है। लोकरंग कार्यक्रम लोगों का खासा पसंद आता है। कोरोना काल के चलते इसका आयोजन नहीं हो पाया था। यही कारण है कि काफी लंबे समय से देशवासियों कोे इसका इंतजार था। लोकरंग कार्यक्रम में एक ही मंच पर पूरे देश की संस्कृति झलक को देखा जा सकता है। ये कार्यक्रम सम्पूर्ण भारत के कलाकारों को एक धागे में पिरोने का काम करता है।

<div class="paragraphs"><p>कलाकार बोला- लोगों को जागरूक करने के लिए धरा "टीपू सुल्तान" का किरदार</p></div>

कलाकार बोला- लोगों को जागरूक करने के लिए धरा "टीपू सुल्तान" का किरदार

मैसूर के सुल्तान "टीपू सुल्तान"

जवाहर कला केन्द्र में चल रहे लोकरंग कार्यक्रम में पहुंचने वाले लोगों का मनोरंजन करने के लिए कलाकार अपने-अपने अंदाज से लोगों का दिल जीत रहे है। इसी कड़ी में मैसूरी के टीपू सुल्तान भी जवाहर कला केन्द्र में आपको टहलते हुए मिल जाएगें। कलाकार टीपू सुल्तान राजस्थान के अलवर के रहने वाले है। कार्यक्रम में आने वाले दर्शकों को इनका ये अंदाज भी खूब पसंद आ रहा है।

लोगों को जागरूक करने के लिए धरा "टीपू सुल्तान" का किरदार

कलाकार का कहना है कि- मैं ज्यादातर टीपू सुल्तान का किरदार निभाता हूं। क्योंकि मैं लोगों को जागरूक करना चाहता हूं, कि टीपू सुल्तान ने भारत की आजादी की लड़ाई में अपना महत्वपूर्ण योगदान दिया। लेकिन आज लोग टीपू सुल्तान को भूलते जा रहे हैं। कई जगह पर टीपू सुल्तान की जयंती मनाई जाती है तो कई जगह उनका विरोध भी किया जाता है। देश में अब टीपू सुल्तान का नाम बहुत कम सुनने को मिलता है।

मेरे ऊपर छत नहीं है किराए के मकान में रह कर गुजर-बसर करता हूं

मेरे ऊपर छत नहीं है किराए के मकान में रह कर गुजर-बसर करता हूं। मेरे 4 बच्चे भी हैं आज कलाकार की स्थिति इसलिए ठीक नहीं है क्योंकि कला को धर्मों में बांट कर देखा जा रहा है। आज अगर कोई मुस्लिम कलाकार कृष्ण जी या फिर नारद जी के अवतार में होता है तो भीड़ में एक-दो अपवाद मौजूद होते हैं जो इसका विरोध करते हैं जब हमारे सामने कोई ऐसी बात आती है, तो हम उन लोगों से कहते हैं कि हम किसी धर्म या मजहब से पहले अपनी कला को रखते हैं किसी धर्म और जाति को नहीं।

Like Follow us on :- Twitter | Facebook | Instagram | YouTube

<div class="paragraphs"><p>मैसूरी के टीपू सुल्तान के किरदार में अलवर का कलाकार</p></div>
राजस्थान में लागू होगी कोरोना वैक्सीन की अनिवार्यता! सीएम अशोक गहलोत ने दिये संकेत

Related Stories

No stories found.
Since independence
hindi.sinceindependence.com