क्यों दर-बदर भटकने को मजबूर राजस्थान की बेटीयां

सरकार कहती है बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ, लेकिन बेटीयां तो आज पढ़ लिख कर सडकों पर बैठी हैं- जयपुर के शहीद स्मारक पर धरने पर अपने एक साल के बच्चे के संग बैठी बेरोजगार महिला।
क्यों दर-बदर भटकने को मजबूर राजस्थान की बेटीयां
भरतपुर से अपने 1 साल के बच्चे के साथ लगभग 200 किलोमीटर का सफर तय करके जयपुर के शहीद स्मारक पहुंची मंजू

डेस्क न्यूज. राजस्थान के भरतपुर से अपने 1 साल के बच्चे के साथ लगभग 200 किलोमीटर का सफर तय करके जयपुर के शहीद स्मारक पहुंची मंजू राजस्थान सरकार से खफा है, क्योंकि मंजू को डर है कि अगर सरकार ने रीट के पद नहीं बढ़ाए उसकी पेपर देने की आयु सीमा खत्म हो जाएगी। यही कारण है कि मंजू भरतपुर से अपने 1 साल के बच्चे के साथ जयपुर पहुंची है। कुछ इसी तरह से और युवाओं को भी यही डर सता रहा है और अब युवा आर-पार की लड़ाई के मूड में नजर आ रहे हैं। यही कारण है कि 12 तारीख को कांग्रेस की महंगाई रैली में युवा बड़ी संख्या में पहुंचकर विरोध प्रदर्शन करेंगे। मंजू कहना है कि कांग्रेस को बेहतर अपने भविष्य के लिए वोट दिया‚ लेकिन अब लगता है कि कांग्रेस को वोर्ट देकर गलती कर दी।

क्या वोट देकर गलती की?

सरकार को हम लोगों की पीड़ा को समझना होगा ओर जल्द हमारी समस्या का समाधन निकाल कर हम लोगों के साथ न्याय करना चाहिए। सरकार ने अगर हमारी बात को नहीं सुना तो मैं कभी कांग्रेस को वोट नहीं दूंगी। 12 तारीख को हम मिलकर कांग्रेस की रैली में काले झंडे दिखा कर विरोध करेंगे।

सरकार कहती है बेटी बचाओ, बेटी पढाओ, लेकिन बेटीयां तो आज पढ़ लिख कर सडकों पर बैठी हैं- बेरोजगार युवती
सरकार कहती है बेटी बचाओ, बेटी पढाओ, लेकिन बेटीयां तो आज पढ़ लिख कर सडकों पर बैठी हैं- बेरोजगार युवती

सरकार कहती है बेटी बचाओ, बेटी पढाओ, लेकिन बेटीयां तो आज पढ़ लिख कर सडकों पर बैठी हैं- बेरोजगार युवती

हमारी सरकार से यहीं मांग है कि हमारे पद बढ़ा कर 31000 से 50000 किए जाए, तीन साल में हमारी भर्ती हुई हैं और हमारे पद नही बढाए जा रहे लेकिन बच्चे लगातार बढ़ रहे हैं। कई ऐसे भाई-बहन है जो आयु सीमा के कारण आगे पेपर नहीं गे पाएगें। हम सरकार से येे बिल्कुल नहीं कह रहें हैं कि ज्यादा पदों पर भर्ती करें लेकिन स्कूलों में जितने पद खाली हैं उमको तो सरकार भरें। हमने ये महसूस किया है कि जब हम का स्कूल थे तो हमें एक ही टीचर तीन-तीन विषय पढ़ाते थे कई बार टीचर क्लास में भी नहीं आते थे और हमारी क्लासेज भी खाली जाती थी। सरकार ने बेटीयों को पढा कर क्या कर दिया बेटी तो आज सड़को पर बैठने को मजबूर हैं।

केंद्र सरकार को घेरने की तैयारी कर रही राजस्थान सरकार अपने गढ़ की समस्याओं से कैसे निपटेगीॽ
जिस तरह से राजस्थान के युवाओं में असंतोष देखने को मिल रहा है, उसे देख कर लगता है कि आने वाले समय में राजस्थान सरकार की राह मुश्किल होने वाली है। इसका कारण भी आपको बता देते हैं, 12 तारीख को जयपुर में कांग्रेस की महंगाई को लेकर रैली है। इस रैली में कांग्रेस का केंद्र सरकार की जन विरोधी नितियों के खिलाफ हल्ला बोल होगा। लेकिन अगर रैली में राजस्थान के बेरोजगार युवा पहुचेंगे तो बवाल होना तय माना जा रहा है। ऐसे में सवाल ये भी हैं कि केंद्र सरकार को घरो वाली राज्य सरकार अपने घर में ही समस्याओं को नहीं सुलझा पा रही है?
भरतपुर से अपने 1 साल के बच्चे के साथ लगभग 200 किलोमीटर का सफर तय करके जयपुर के शहीद स्मारक पहुंची मंजू
राजस्थान में कांग्रेस की महारैली से पहले महाघमासान: ज्योति खंडेलवाल के पत्र पर मचा बवाल‚ मित्रोदय गांधी ने भी ली खंडेलवाल क्लास

Related Stories

No stories found.
Since independence
hindi.sinceindependence.com